आजादी से उत्थान : The Dainik Tribune

एकदा

आजादी से उत्थान

आजादी से उत्थान

स्वामी विवेकानंद केवल संत ही नहीं, बल्कि एक महान देशभक्त, विचारक और समाज सुधारक भी थे। उन्होंने भारतीय समाज में व्याप्त संकीर्णताओं एवं कुरीतियों का विरोध किया। वह महिला स्वतंत्रता और समानता के प्रबल पक्षधर थे। वह मानते थे कि बालक और बालिकाओं को समान शिक्षा देनी चाहिए। एक बार एक समाज सुधारक स्वामी विवेकानंद के पास गए और कहा, ‘स्वामी जी, महिलाओं के उत्थान के लिए मैं क्या करूं? मेरा मार्गदर्शन कीजिए। स्वामी जी ने कहा, ‘तुम कुछ मत करो। उन्हें स्वतंत्र छोड़ दो और उन्हें अपने निर्णय स्वयं लेने दो। यह सोच छोड़ दो कि पुरुष को स्त्री को सुधारने की जरूरत है, अगर उन्हें स्वतंत्रता और समानता मिलेगी तो वह वही करेंगी जो उनके लिए बेहतर होगा।’

प्रस्तुति : मधुसूदन शर्मा

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

साल के आखिर में नौकरी के नये मौके

साल के आखिर में नौकरी के नये मौके

समझ-सहयोग से संभालें रिश्ते

समझ-सहयोग से संभालें रिश्ते

धुंधलाए अतीत की जीवंत झांकी

धुंधलाए अतीत की जीवंत झांकी

प्रेरक हों अनुशासन और पुरस्कार

प्रेरक हों अनुशासन और पुरस्कार

सर्दी में गरमा-गरम डिश का आनंद

सर्दी में गरमा-गरम डिश का आनंद

यूं छुपाए न छुपें जुर्म के निशां

यूं छुपाए न छुपें जुर्म के निशां

मुख्य समाचार

फौलादी जज्बे से तोड़ दी मुसीबतों की बेड़ियां...

फौलादी जज्बे से तोड़ दी मुसीबतों की बेड़ियां...

अनहोनी को होनी कर दे...

हनोई में एक बौद्ध वृक्ष, जड़ें जुड़ी हैं भारत से!

हनोई में एक बौद्ध वृक्ष, जड़ें जुड़ी हैं भारत से!

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की बिसारी मधुर स्मृति को ताजा किया दैनि...

शहर

View All