होशियारपुर 7 पॉजिटिव मरीजों की मौत, 89 नये मामले

होशियारपुर 7 पॉजिटिव मरीजों की मौत, 89 नये मामले

होशियारपुर (निस) : सिविल सर्जन डॉ. रणजीत सिंह ने बताया कि मंगलवार को जिले में 89 नये कोरोना सकारात्मक रोगी मिले हैं जिससे कुल संख्या 15451 तक पंहुच गई है। इसमें से 18 मरीजों का संबध अन्य जिलों से है। कोरोना महामारी की शुरुआत के बाद से, अब तक जिले में 411864 सैंपल एकत्रित किए गए हैं। सक्रिय मामलों की संख्या 954 है जबकि 15087 मरीज ठीक हुए हैं। डॉ. सिंह ने बताया कि 7 और पॉजिटिव मरीजों की मौत होने से वायरस के प्रभाव से जिले में मरने वाले मरीजों की संख्या बढ़ कर 645 हो गई है। जिले में 89 केस आए हैं जिसमें से जिनमें से होशियारपुर से 11 मरीज है।

कपूरथला में 3 की मौत, 85 नये केस 

कपूरथला (निस) : जिले में मंगलवार को कोरोना से 2 महिलाओं व एक व्यक्ति की मौत हो गई। जिनमें 53 वर्षीय महिला सुल्तानपुर लोधी, 70 वर्षीय महिला निवासी गांव नडाला तथा 71 वर्षीय व्यक्ति निवासी कपूरथला की जालंधर के प्राइवेट अस्पताल में इलाज़ दौरान मौत हो गई। अब तक कोरोना से मरने वालों की संख्या 292 तक पहुंच गई है। वहीं मंगलवार को 85 कोरोना पीड़ित आए। जिसके बाद अब तक कोरोना पीड़ितों की कुल संख्या 10407 तक पहुंच गई है।

इस समय 825 केस एक्टिव हैं, जो कि अपना इलाज़ घरों में रहकर व प्राइवेट अस्पतालों में करवा रहे है। कोरोना से अब तक 9291 मरीज़ ठीक हो चुके है।

उधर मंगलवार को मेडिकल कालेज अमृतसर से 1392 सेंपलों की रिपोर्ट आई। जिनमें 1325 नेगेटिव तथा 67 पाज़िटिव पाए गए। एंटीज़न पर किए गए टैस्टों में 17, टरुनैट पर किए गए टैस्टों में 00 तथा प्राइवेट लेबों पर किए गए टैस्टों में 1 कोरोना पीड़ित पाए गए। जिससे मंगलवार को कुल 85 कोरोना पीड़ित पाए गए।

जिला ऐपीडीमोलोजिस्ट डा. राजीव भगत ने बताया कि मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग की विभिन्न टीमों द्वारा जिले में 1415 लोगों की सैंपलिंग की गई। जिसमें कपूरथला से 291, फगवाड़ा से 148, भुलत्थ से 69, सुल्तानपुर लोधी से 89, बेगोवाल से 122, ढिलवां से 160, काला संघिया से 121, फत्तूढींगा से 125, पांछटा से 205 व टिब्बा से 85 लोगों के सैंपल लिए गए। जिनकी रिपोर्ट बुधवार शाम को आने की संभावना है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

संतोष मन को ही मिलता है सच्चा सुख

संतोष मन को ही मिलता है सच्चा सुख

इस जय-पराजय के सवाल और सबक

इस जय-पराजय के सवाल और सबक

आखिर मजबूर क्यों हो गये मजदूर

आखिर मजबूर क्यों हो गये मजदूर

जीवन में अच्छाई की तलाश का नजरिया

जीवन में अच्छाई की तलाश का नजरिया

नुकसान के बाद भरपाई की असफल कोशिश

नुकसान के बाद भरपाई की असफल कोशिश

अनाज के हर दाने को सहेजना जरूरी

अनाज के हर दाने को सहेजना जरूरी