अमरेंद्र की दो टूक

शराब त्रासदी हत्या, दोषियों को नहीं बख्शेंगे

शराब त्रासदी हत्या, दोषियों को नहीं बख्शेंगे

मोहाली में मंगलवार को आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत मान पार्टी नेताओं के साथ फेस-1 थाने में पंजाब सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए। -विक्की

चंडीगढ़, 4 अगस्त (एजेंसी)

जहरीली शराब कांड को लेकर विपक्ष के निशाने पर आये पंजाब के मुख्यमंत्री अमरेंद्र सिंह ने मंगलवार को कहा कि इस मामले में अगर कोई भी शामिल पाया जाता है, तो उसे बख्शा नहीं जायेगा। इस कांड में अब तक 111 लोगों की मौत हो चुकी है। शराब त्रासदी में मौतों को ‘सर्वथा हत्या' करार देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वह हत्यारों को बचकर नहीं जाने देंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वह राज्य में शराब माफिया का सफाया कर देंगे। उन्होंने कहा, ‘ शराब कांड से हुई मौतों में कोई भी, चाहे वह नेता हो या जनसेवक, लिप्त पाया जाता है तो उसे बख्शा नहीं जाएगा।' इस मामले में कठोरतम कार्रवाई का वादा करते हुए उन्होंने कहा, ‘जहरीली शराब के कारण 111 मौतें हुई हैं। पूरे पुलिस बल और आबकारी विभाग को (इस कांड की जांच के) इस काम में लगा दिया गया है और मैं चाहता हूं कि अगले दो दिन में यह काम पूरा हो जाए।' मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ शरारती एवं लालची तत्वों ने पंजाबियों की जान की कीमत पर अपने लालच को पूरा करने के लिए पुलिस के कोविड-19 महामारी के खिलाफ संघर्ष के मोर्चे पर व्यस्त रहने का फायदा उठाया। उन्होंने कहा, ‘यह सर्वथा हत्या है और हत्यारे बचकर नहीं निकल पायेंगे। उन्हें पता था कि इससे जान जा सकती है तिस पर भी उन्होंने जहरीली शराब आपूर्ति की और बेची। वे दया के पात्र कतई नहीं हैं।’

मुख्य आरोपी पुलिस गिरफ़्त में

अमृतसर (ट्रिन्यू) : अमृतसर ग्रामीण पुलिस ने जहरीली शराब कांड में लुधियाना के एक पेंट स्टाेर के मालिक राजीव जोशी को गिरफ्तार किया है। राजीव से ही रविंद्र आनंद ने जहरीली शराब बनाने के लिए विकृत स्पिरिट खरीदा था, जिससे अमृतसर, तरनतारन और बटाला जिलों में सौ से अधिक लोगों की जान चली गई। जानकारी के अनुसार पुलिस ने लुधियाना के विवकर्मा चौक स्थित  राजीव जोशी के गोदाम से बड़ी मात्रा में स्पिरिट और कैमिकल भी बरामद किया। जोशी ने माना था कि उसने रविंद्र के भतीजे प्रभजीत सिंह को तीन ड्रम मिथेनॉल सप्लाई किया था, जिसे कि जहरीली शराब बनाने के लिए इस्तेमाल किया गया था। इस बीच, पुलिस ने मोगा के अश्विनी बजाज नामक एक बिचौलिये को भी गिरफ्तार किया है।

आप का पंजाब सरकार के खिलाफ प्रदर्शन

चंडीगढ़  (एजेंसी) : पंजाब में जहरीली शराब पीने से 100 से अधिक लोगों की मौत के मुद्दे को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) ने मंगलवार को राज्य की कांग्रेस सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। सांसद भगवंत मान के नेतृत्व में हुए प्रदर्शन में कई विधायकों सहित आप कार्यकर्ता शामिल हुए। प्रदर्शकारी मोहाली के सिसवां स्थित मुख्यमंत्री अमरेंद्र सिंह के आवास की ओर मार्च कर रहे थे, लेकिन मुल्लांपुर के नजदीक रोके जाने पर वे सड़क पर ही बैठ गए। प्रदर्शनकारियों को जब पुलिस ने मुख्यमंत्री आवास की ओर जाने से रोका तो आप कार्यकर्ताओं और पुलिस कर्मियों के बीच बहस देखने को मिली। मान ने आरोप लगाते हुए कहा, ‘हम उन्हें (अमरेंद्र सिंह को) जमीनी हालात बताना चाहते हैं कि कैसे उनके विधायक माफिया गिरोह चला रहा हैं।'

बाजवा, दूलो पर कार्रवाई के लिये सोनिया को लिखेंगे

चंडीगढ़ (एजेंसी) : पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सु​नील जाखड़ ने मंगलवार को कहा कि वह पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिख कर पार्टी सांसदों प्रताप सिंह बाजवा एवं शमशेर सिंह दूलो के खिलाफ घोर अनुशासनहीनता के आरोप में कार्रवाई की मांग करेंगे। दोनों सांसदों ने गत दिवस जहरीली शराब हादसे में प्रदेश की कांग्रेस सरकार को निशाना बनाते हुये राज्यपाल बी पी सिंह बदनौर को एक ज्ञापन दिया था और अवैध शराब के कारोबार के मामले की जांच सीबीआई एवं प्रवर्तन निदेशालय से कराने की मांग की थी। इसके बाद जाखड़ का यह बयान आया है। जाखड़ ने बताया कि ऐसे हादसे किसी भी व्यक्ति को इस बात की इजाजत नहीं देते हैं कि वह अनुशासनहीनता में शामिल हो।

धमकाने से मामला नहीं सुलझेगा : दूलो

लुधियाना (निस) : पंजाब प्रदेश कांग्रेस के पूर्व प्रधान एवं राज्यसभा सदस्य शमशेर सिंह दूलो ने नकली शराब के मामले में पंजाब में  अपनी पार्टी की सरकार को फिर आड़े हाथों लेते हुए आज यहां एक भेंट के  दौरान कहा कि सरकार ने मृतकों के परिवारों को मुआवजा देते समय भी  दोहरा मापदंड अपनाया है क्योंकि तरनतारन, बटाला और अमृतसर जिलों में  नकली शराब पीकर मरने वाले सभी लोग दलित व गरीब परिवारों से संबंधित थे। इसलिए सरकार ने उनके परिवारों को  मुआवजा दो लाख रुपये दिया जबकि आमतौर पर ऐसी घटना में मरने वालों को पंजाब सरकार कम से कम 5 लाख रुपये  प्रति व्यक्ति मुआवजा देती है। उन्होंने खेद व्यक्त करते हुए कहा कि  राज्य सरकार को जब लाकडाऊन के दौरान शराब तैयार करने वाली छह जाली  फैक्ट्रियों का पता चला था तो उसकी सही जांच करके दोषियों के विरुद्ध कठोर  कार्रवाई करनी चाहिए थी। कुछ अधिकारियों या पुलिस वालों पर कार्रवाई करने  या विरोधियों को  धमकाने से यह मामला नहीं निपटेगा।  

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश

किसानों की आशंकाओं का समाधान जरूरी

किसानों की आशंकाओं का समाधान जरूरी

शहर

View All