प्रधानमंत्री मोदी ने की जाइडस कैडिला के अहमदाबाद संयंत्र में कोविड-19 के टीके के विकास कार्य की समीक्षा

प्रधानमंत्री मोदी ने की जाइडस कैडिला के अहमदाबाद संयंत्र में कोविड-19 के टीके के विकास कार्य की समीक्षा

अहमदाबाद में शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चांगोदर में कोविड वैक्सीन के विकास की समीक्षा करने के लिए जाइडस कैडिला में मीटिंग करते हुए।-प्रेट्र

अहमदाबाद, 28 नवंबर (भाषा)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के टीके के विकास कार्य की समीक्षा के लिए तीन शहरों का अपना दौरा शनिवार को आरंभ किया। वह सबसे पहले अहमदाबाद के निकट फार्मास्युटिकल कंपनी जाइडस कैडिला की उत्पादन इकाई में गए। प्रधानमंत्री ने अहमदाबाद से करीब 20 किमी दूर स्थित जाइडस कैडिला के चांगोदर औद्योगिक क्षेत्र में स्थित अनुसंधान केंद्र में टीके के विकास की प्रक्रिया का अवलोकन किया। इस दौरान मोदी ने पीपीई किट पहन रखी थी। एक अधिकारी ने बताया कि दिल्ली से करीब 9 बजे अहमदाबाद हवाईअड्डे पर पहुंचे, वहां से वह सबसे पहले जाइडस कैडिला के संयंत्र में पहुंचे जहां उन्होंने कंपनी के प्रमोटरों और अधिकारियों से बात की। मोदी करीब एक घंटे तक संयंत्र में रहे। फिर हवाईअड्डे रवाना हो गए। मोदी का हैदराबाद जाने का कार्यक्रम है जहां वह टीका निर्माता भारत बायोटेक के संयंत्र का दौरा करेंगे।

जाइकोव-डी नामक संभावित टीके का क्लिनिकल परीक्षण पूरा उल्लेखनीय है कि जाइडस कैडिला ने कोविड-19 के खिलाफ जाइकोव-डी नामक संभावित टीके का विकास किया है जिसके पहले चरण का क्लिनिकल परीक्षण पूरा हो चुका है और कंपनी ने अगस्त से दूसरे चरण का परीक्षण शुरू किया था। वहीं हैदराबाद में भारत बायोटेक द्वारा विकसित संभावित टीके कोवैक्सिन का तीसरे चरण का परीक्षण चल रहा है। भारत बायोटेक के संयंत्र में करीब एक घंटा बिताने के बाद मोदी पुणे रवाना होंगे जहां वह सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) जाएंगे जिसने कोविड-19 टीके के लिए वैश्विक दवा निर्माता कंपनी एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के साथ साझेदारी की है।

 

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

ईर्ष्या की अनदेखी कर आनंदित रहें

ईर्ष्या की अनदेखी कर आनंदित रहें

स्वतंत्रता के संकल्प की बलिदानी गाथा

स्वतंत्रता के संकल्प की बलिदानी गाथा

बुलंद इरादों से हासिल अपना आकाश

बुलंद इरादों से हासिल अपना आकाश

समाज की सोच भी बदलना जरूरी

समाज की सोच भी बदलना जरूरी