किसान आंदोलन को देशद्रोह का रंग देकर राजनीति करना चाहती है मोदी सरकार : शिवसेना

‘सामना’ में कहा-केंद्र सरकार को नये कृषि कानूनों को रद्द करना चाहिए

किसान आंदोलन को देशद्रोह का रंग देकर राजनीति करना चाहती है मोदी सरकार : शिवसेना

मुंबई, 14 जनवरी (एजेंसी)

शिवसेना ने बृहस्पतिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आंदोलनरत किसानों की भावनाओं का सम्मान करने और नये विवादास्पद कृषि कानूनों को रद्द करने का आग्रह किया और कहा कि ऐसा करने से उनका कद और बड़ा हो जाएगा। शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ के संपादकीय में केंद्र सरकार पर सुप्रीमकोर्ट का इस्तेमाल कर किसानों के प्रदर्शन को खत्म करने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया गया। संपादकीय में कहा गया कि न्यायालय के समक्ष केंद्र का यह दावा भी चौंकाने वाला है कि किसानों के प्रदर्शन में खालिस्तानी घुसे हुए हैं। उसमें यह आरोप लगाया गया, ‘यदि खालिस्तानियों ने विरोध प्रदर्शन में घुसपैठ की है, तो यह सरकार की ही विफलता है। सरकार विरोध को समाप्त नहीं करना चाहती है और आंदोलन को देशद्रोह का रंग देकर राजनीति करना चाहती है।’

सामना में कहा गया, ‘प्रधानमंत्री मोदी को किसानों के विरोध और साहस का स्वागत करना चाहिए। उन्हें किसानों की भावनाओं का सम्मान करते हुए कानूनों को खत्म कर देना चाहिए। मोदी का आज जितना बड़ा कद है, ऐसा करने से उनका कद और बड़ा हो जाएगा।’

26 जनवरी को दिल्ली में किसानों की निर्धारित ट्रैक्टर रैली का जिक्र करते हुए संपादकीय में कहा गया कि अगर सरकार चाहती है कि स्थिति और न बिगड़े, तो किसानों की भावनाओं को समझने की जरूरत है। उसमें कहा गया कि इस प्रदर्शन में अब तक 60 से 65 किसानों की जान जा चुकी है और देश ने आजादी के बाद अब तक ऐसा अनुशासित आंदोलन नहीं देखा है।

 

 

 

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

मुख्य समाचार

गाजीपुर बार्डर खाली कराने की तैयारी, यूपी सरकार ने दिये आदेश!

गाजीपुर बार्डर खाली कराने की तैयारी, यूपी सरकार ने दिये आदेश!

कहा-अगर किसान खुद ही आज धरना स्थल खाली कर दें तो उन्हें घर ज...

किसानों के मुद्दे पर 16 विपक्षी दलों ने राष्ट्रपति कोविंद के अभिभाषण के बहिष्कार का किया फैसला!

किसानों के मुद्दे पर 16 विपक्षी दलों ने राष्ट्रपति कोविंद के अभिभाषण के बहिष्कार का किया फैसला!

बयान में कहा-प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा सरकार बनी हुई है अहं...

शहर

View All