बिहार की जनता के समक्ष प्रदेश को ‘बीमार करने वाली ताकतों' से निपटने की चुनौती : मोदी

बिहार की जनता के समक्ष प्रदेश को ‘बीमार करने वाली ताकतों' से निपटने की चुनौती : मोदी

दरभंगा/मुजफ्फरपुर/पटना, 28 अक्तूबर (एजेंसी) 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार में दूसरे चरण के चुनाव के लिये प्रचार के दौरान बुधवार को एक रैली में विपक्षी महागठबंधन पर प्रहार करते हुए उस पर विकास के कोष में हेराफेरी करने और बड़ी-बड़ी बातें करके लोगों को भ्रमित करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि आज बिहार के सामने कोरोना वायरस महामारी से निपटने और बिहार को ‘बीमार' करने वाली ताकतों से निपटने की दोहरी चुनौती है तथा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के पक्ष में एक-एक वोट जरूरी है। मोदी ने कहा, ‘जैसे कोरोना से निपटने के लिये मास्क और 2 गज की दूरी जरूरी है, वैसे ही बिहार को बीमार करने वाली ताकतों से निपटने के लिये राजग के पक्ष में एक-एक वोट जरूरी है।’ दरभंगा, मुजफ्फरपुर और पटना में राजग (एनडीए) की चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए मोदी ने बिहार में विपक्षी महागठबंधन के घटक दलों पर विकास विरोधी होने का आरोप लगाया। उन्होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, ‘जिन लोगों ने सिर्फ अपने परिवार के बारे में सोचा, बिहार के एक-एक व्यक्ति के साथ अन्याय किया, दलितों-पिछड़ों-वंचितों का हक भी हड़प लिया, क्या वे लोग बिहार की उम्मीदों को समझ पाएंगे?’ राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेता एवं पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद के पुत्र तेजस्वी यादव का नाम लिये बिना प्रधानमंत्री ने कहा, ‘जंगलराज के युवराज' से बिहार की जनता पुराने ट्रैक रिकॉर्ड के आधार पर और क्या अपेक्षा कर सकती है? जंगलराज के युवराज से क्या उम्मीद कर सकते हैं कि बिहार आईटी (सूचना प्रौद्योगिकी) का केंद्र बनेगा, या क्या वह आधुनिकता के किसी क्षेत्र में प्रदेश को आगे ले जा सकते हैं।’ उन्होंने कहा कि ये समय बड़ी बातें करने वालों को नहीं, बल्कि जिनके पास अनुभव है, जो बिहार को गहरे अंधेरे से निकालकर यहां लाए हैं, उन्हें दोबारा चुनने का है।

विपक्ष पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ''अपना काम, अपना कारोबार करने वालों के साथ इन लोगों का जो बर्ताव रहा है, उसे तो बिहार के लोग कभी नहीं भूल सकते। रंगदारी दी तो बचेंगे, नहीं तो किडनैपिंग इंडस्ट्री (अपहरण उद्योग) का कॉपीराइट तो उन लोगों के पास ही है। इसलिए, इनसे सावधान रहना है।’ अध्योया में राम मंदिर का निर्माण शुरू होने का जिक्र करते हुए मोदी ने विपक्ष पर तंज कसते हुए कहा, ‘वे सियासी लोग, जो बार-बार हमसे तारीख पूछा करते थे, वे बहुत मजबूरी में हैं। आज वे लोग भी तालियां बजा रहे हैं।' उन्होंने कहा कि बीते 15 वर्षों में बिहार नीतीश कुमार के नेतृत्व में बहुत आगे बढ़ा है और आज मां सीता अपने नैहर (मायके) को तो प्रेम से निहार ही रही होंगी।

‘पैसा हजम परियोजना खत्म'

उन्होंने आरोप लगाया कि पूर्व की सरकारों का मंत्र ‘पैसा हजम परियोजना खत्म' था और उन्हें ‘कमीशन' शब्द से इतना प्रेम था कि ‘कनेक्टिविटी' (संपर्क) पर कभी ध्यान ही नहीं दिया और ऐसे लोग बिहार के हित के बारे में नहीं सोच सकते। मोदी ने दावा किया, ‘सरकारी नौकरी तो छोड़िए, इन लोगों के आने का मतलब है, नौकरी देने वाली प्राइवेट कंपनियां भी बिहार से भाग जाएंगी।'' प्रधानमंत्री ने किसी का नाम नहीं लिया, लेकिन समझा जाता है कि उनका संकेत बिहार में लालू प्रसाद के नेतृत्व वाली पूर्ववर्ती राजद सरकार के दौरान कानून-व्यवस्था की स्थिति को लेकर था। राजग के पक्ष में जनादेश की अपील करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘एक तरफ राजग है, आत्मनिर्भर बिहार बनाने का संकल्प लेकर खड़ा है। दूसरी तरफ, ये लोग हैं जो बिहार की विकास परियोजनाओं के पैसों पर नजरें गड़ाए हुए हैं।''

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी मंच किया साझा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ दरभंगा और पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी मंच साझा किया। इस दौरान प्रधानमंत्री ने नीतीश की तारीफ करते हुए उन्हें ‘भावी मुख्यमंत्री' बताया और बिहार के आर्थिक विकास का उन्हें श्रेय दिया। मोदी ने कहा कि राजग सरकार आधारभूत ढांचे पर निवेश कर रही है, गांवों के पास बेहतर सुविधाएं विकसित करने पर जोर दे रही है, उसका लाभ बिहार के लोगों को मिलने वाला है। प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन के दौरान आरक्षण को 10 वर्ष के लिये बढ़ाने, गरीबों के लिये 10 प्रतिशत आरक्षण देने सहित सरकार की जन कल्याण योजनाओं का भी जिक्र किया।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

कोर्ट की सख्ती के बाद खाली होंगे आवास

कोर्ट की सख्ती के बाद खाली होंगे आवास

संदेह के खात्मे से विश्वास की शुरुआत

संदेह के खात्मे से विश्वास की शुरुआत

चलो दिलदार चलो...

चलो दिलदार चलो...

शहर

View All