मृतका के पिता की मांग : मेरी बेटी की हत्या के लिये आफताब पूनावाला को फांसी दी जानी चाहिए : The Dainik Tribune

श्रद्धा हत्याकांड :

मृतका के पिता की मांग : मेरी बेटी की हत्या के लिये आफताब पूनावाला को फांसी दी जानी चाहिए

आफताब की 14 दिन की न्यायिक हिरासत बढ़ाई

मृतका के पिता की मांग : मेरी बेटी की हत्या के लिये आफताब पूनावाला को फांसी दी जानी चाहिए

प्रतीकात्मक चित्र

दिल्ली में कथित तौर पर आफताब पूनावाला के हाथों मारी गई श्रद्धा वालकर के पिता विकास वालकर ने शुक्रवार को मांग की कि आरोपी को उनकी बेटी की हत्या के लिए फांसी दी जाए। पूनावाला ने अपनी ‘लिव-इन-पार्टनर' की कथित तौर पर गला घोंट कर हत्या कर दी थी। उसने शव के 35 टुकड़े कर उन्हें शहर में अलग-अलग स्थानों पर फेंकने से पहले करीब तीन हफ्ते तक दक्षिण दिल्ली के महरौली स्थित अपने आवास पर एक फ्रिज में रखा था। वालकर ने यहां महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा, आफताब पूनावाला को मेरी बेटी की हत्या के लिये फांसी दी जानी चाहिए...पूनावाला और जो भी इस मामले में शामिल थे उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने कहा, श्रद्धा की शिकायत पर जांच में देरी के लिए वसई और नालासोपारा के पुलिस अधिकारियों और तुलिंज पुलिस (पालघर जिले में) के खिलाफ भी जांच की जानी चाहिए। उन्होंने अगर तुरंत कार्रवाई की होती तो मेरी बेटी अभी जिंदा होती। श्रद्धा वालकर ने नवंबर 2020 में तुलिंज पुलिस को एक लिखित शिकायत दी थी, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि पूनावाला मुझे गालियां दे रहा है और मुझे मार रहा है। आज, उसने मेरा गला घोंटकर मुझे मारने की कोशिश की। वह मुझे डराता है और ब्लैकमेल करता है । विकास वालकर ने कहा कि दिल्ली के उपराज्यपाल और पुलिस उपायुक्त (दक्षिणी दिल्ली) तथा महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री फडणवीस ने परिवार को न्याय का भरोसा दिलाया है।

दिल्ली की एक अदालत ने अपनी लिव-इन पार्टनर श्रद्धा वालकर की कथित तौर पर हत्या कर उसके शव के 35 टुकड़े करने के आरोपी आफताब पूनावाला की न्यायिक हिरासत की अवधि शुक्रवार को 14 दिन के लिए बढ़ा दी। अदालत के एक सूत्र ने यह जानकारी दी। सूत्र ने बताया कि पूनावाला को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अदालत के समक्ष पेश किया गया। 26 नवंबर को मामले की पिछली सुनवाई के दौरान अदालत ने पूनावाला की न्यायिक हिरासत की अवधि 13 दिन के लिए बढ़ा दी थी।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

ओटीटी पर सेनानियों की कहानियां भी

ओटीटी पर सेनानियों की कहानियां भी

रुपहले पर्दे पर तनीषा की दस्तक

रुपहले पर्दे पर तनीषा की दस्तक

पंजाबी फिल्मों ने दी हुनर को रवानगी

पंजाबी फिल्मों ने दी हुनर को रवानगी

आस्था व प्रकृति के वैभव का पर्व

आस्था व प्रकृति के वैभव का पर्व

मुख्य समाचार