मध्य प्रदेश शीर्ष पर

गांवों में दी गयी 64% खुराकें

कोरोना 21 जून की ‘ऐतिहासिक उपलब्धि’/ 89.09 लाख टीके लगे

गांवों में दी गयी 64% खुराकें

खतरनाक लापरवाही... बेंगलुरू के एक बाजार में मंगलवार को लॉकडाउन में कुछ छूट मिलते ही लोग एेसे उमड़ पड़े जैसे कि उन्हें कोरोना महामारी का कोई अहसास ही न हो। -एजेंसी

नयी दिल्ली, 22 जून (एजेंसी)

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि भारत ने 21 जून को एक दिन में कोरोना वायरस के 88.09 लाख टीके लगाने की ‘ऐतिहासिक उपलब्धि’ हासिल की है और करीब 64 प्रतिशत खुराकें ग्रामीण इलाकों में दी गई हैं। एक अधिकारी ने बताया कि 21 जून को सबसे अधिक टीके मध्य प्रदेश में लगे, इसके बाद कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा, गुजरात, राजस्थान, तमिलनाडु, महाराष्ट्र और असम का स्थान रहा। महामारी के हालात और टीकाकरण की स्थिति पर एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए अधिकारी ने कहा, ‘21 जून 2021 को ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल की गयी। -एक दिन में 88.09 लाख टीके लगे।’

अधिकारी ने बताया इनमें से 36.32 प्रतिशत टीके शहरी इलाकों में और 63.68 फीसदी ग्रामीण क्षेत्रों में लगाये गये हैं। सरकार ने कहा कि टीकाकरण जनवरी के मध्य में शुरू हुआ और तब से भारत ने 22 जून की दोपहर 3 बजे तक कोविड-19 टीकों की 29.16 करोड़ खुराकें लगा दीं हैं। सरकार ने यह भी कहा कि देश में कोरोना वायरस की स्थिति में सुधार हो रहा है, लेकिन कोविड-19-उपयुक्त व्यवहार का पालन करने पर जोर दिया। उसने कहा कि 7 मई को संक्रमण के मामलों की चरम स्थिति की तुलना में देश के दैनिक कोविड-19 मामलों में लगभग 90 प्रतिशत की गिरावट आई है।

राज्यों के पास 2.14 करोड़ से अधिक टीके : केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पास कोविड-19 के टीकों की 2.14 करोड़ से अधिक खुराक अब भी उपलब्ध हैं। राज्यों को अगले तीन दिन में 33,80,590 खुराकें और मिल जाएंगी।

24 घंटों में 1167 की मौत, 43 हजार नये केस

देश में बीते 24 घंटे में कोविड-19 के 42640 नये मामले सामने आए, जिन्हें मिला कर देश में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या बढ़कर 2,99,77,861 हो गयी। वहीं, 79 दिन बाद उपचाराधीन मरीजों की संख्या 7 लाख से कम हो गई है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से मंगलवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, देश में 1,167 और लोगों की संक्रमण से मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 3,89,302 हो गई है। देश में 68 दिन बाद संक्रमण से मौत के इतने कम मामले सामने आए हैं।

महाराष्ट्र, मप्र, केरल में डेल्टा प्लस के 22 मामले

सरकार ने मंगलवार को कहा कि भारत में कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस स्वरूप के 22 मामलों का पता चला है जिनमें से 16 मामले महाराष्ट्र के हैं। बाकी मामले मध्य प्रदेश और केरल में सामने आए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि भारत उन 9 देशों में से एक है जहां अब तक डेल्टा प्लस स्वरूप मिला है। उन्होंने कहा कि इसे अभी तक ‘चिंताजनक स्वरूप’ में वर्गीकृत नहीं किया गया है। 80 देशों में डेल्टा स्वरूप का पता चला है। कोरोना वायरस का डेल्टा प्लस स्वरूप भारत के अलावा, अमेरिका, ब्रिटेन, पुर्तगाल, स्विट्जरलैंड, जापान, पोलैंड, नेपाल, चीन और रूस में मिला है। भूषण ने कहा कि मोटे तौर पर, दोनों भारतीय टीके डेल्टा स्वरूप के खिलाफ प्रभावी हैं, लेकिन वे किस हद तक और किस अनुपात में एंटीबॉडी बना पाते हैं, इसकी जानकारी बहुत जल्द साझा की जाएगी।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

पाक सेना के तीर से अधीर हामिद मीर

पाक सेना के तीर से अधीर हामिद मीर

नीति-निर्धारण के केंद्र में लाएं गांव

नीति-निर्धारण के केंद्र में लाएं गांव

असहमति लोकतांत्रिक व्यवस्था का हिस्सा

असहमति लोकतांत्रिक व्यवस्था का हिस्सा

बदलोगे नज़रिया तो बदल जाएगा नज़ारा

बदलोगे नज़रिया तो बदल जाएगा नज़ारा

हरियाणा के सामाजिक पुनर्जागरण के अग्रदूत

हरियाणा के सामाजिक पुनर्जागरण के अग्रदूत

शहर

View All