लेह स्वायत परिषद के 13 परिणाम घोषित, 10 सीट पर भाजपा की जीत!

लेह स्वायत परिषद के 13 परिणाम घोषित, 10 सीट पर भाजपा की जीत!

लेह में लद्दाख स्वायत्त पहाड़ी विकास परिषद चुनावों में वोट डालने के बाद एक मतदाता अपनी उंगली की स्याही दिखाते हुए।-प्रेट्र

सुरेश एस. डुग्गर
जम्मू, 26 अक्तूबर
लेह अटॉनमस हिल डेवलपमेंट काउंसिल के चुनावों में एक बार फिर से भारतीय जनता पार्टी बड़ी जीत की ओर बढ़ती नज़र आ रही है। अभी तक कुल 26 सीटों में से घोषित हुए 13 सीटों के परिणामों में 10 सीटें भारतीय जनता पार्टी जीत चुकी है जबकि कांग्रेस को 2 सीटों पर जीत हासिल हुई है। एक अन्य सीट निर्दलीय उम्मीदवार ने जीती है। केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद पहली बार लेह में मतदान हुआ है। कुल 26 सीटों पर चुनाव हुए थे। सुबह 9 बजे मतगणना शुरू होने के बाद अभी तक कुल 13 सीटों के परिणाम घोषित हुए है। इनमें तुर्तुक सीट पर भाजपा उम्मीदवार गुलाम महंदी ने निर्दलीय उम्मीदवार गुलाम हुसैन को 367 वोटों से हराया। वहीं हुंडर सीट में भाजपा उम्मीदवार कुंजग लोटस ने कांग्रेस उम्मीदवार स्टेंजिन को 420 वोटों से हराया। दिसकिट सीट पर भाजपा उम्मीदवार त्सेरिंग आंगचुक ने कांग्रेस के टी रिगजिन को 570 मतों से शिकस्त दी। वहीं तेगार सीट पर भाजपा उम्मीदवार रिगजिन लुंडुप ने कांग्रेस उम्मीदवार जिगमित को 416 वोटों से हराया।

केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद (एलएएचडीसी) के लिए 22 अक्तूबर को हुए मतदान के बाद आज मतगणना हो रही है। 22 अक्तूबर को कुल 89,776 पंजीकृत मतदाताओं में से लगभग 65 प्रतिशत लोगों ने 26 चुनाव क्षेत्रों में 294 मतदान केंद्रों पर अपने मताधिकार का प्रयोग किया था। मतगणना की शुरूआत में ही भाजपा ने अपनी बढ़त बनाए रखी है। इस चुनाव में 94 प्रत्याशी भाग ले रहे हैं जिसमें से भाजपा और कांग्रेस के 26-26 उम्मीदवार हैं। वर्ष 2015 के चुनाव में कांग्रेस को 5 सीटों पर ही जीत दर्ज हुई थी लेकिन इससे पहले के सभी चुनावों में कांग्रेस का ही यहां पर वर्चस्व रहा है। ऐसे में कांग्रेस खोई सियासी जमीन को पुनः हासिल करने की उम्मीद कर रही है। 23 निर्दलीय उम्मीदवार मैदान में हैं। नेकां और पीडीपी ने कोई उम्मीदवार नहीं उतारा। ऐसे में भाजपा और कांग्रेस में ही मुख्य मुकाबला है।

आप ने भी उतारे हैं 19 प्रत्याशी

आम आदमी पार्टी ने भी पहली बार इस चुनाव में अपने 19 प्रत्याशियों को मैदान में उतारा है। फारूक अब्दुल्ला की नेशनल कांफ्रेंस और महबूबा मुफ्ती की पार्टी पीडीपी ने चुनाव में हिस्सा न लेने का निर्णय लिया है।

पहली बार हुआ ईवीएम का इस्तेमाल

हिल काउंसिल के इस चुनाव में पहली बार ही ईवीएम का इस्तेमाल किया गया है। अनुच्छेद 370 के समाप्त होने और लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद पहली बार हुए लेह विकास परिषद के चुनाव में भाजपा की प्रतिष्ठा दांव पर है। 2015 के चुनाव में भाजपा को 26 में से 18 सीटों पर जीत दर्ज हुई थी। भाजपा ने इस बार चुनाव में 25 सीटें पार का नारा लगाया है और सभी सीटों पर अपने प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारे हैं। वहीं कांग्रेस ने भी सभी सीटों पर प्रत्याशी उतारे हैं।

 

 

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

मुसीबत आये तो और मजबूत हो जाइये

मुसीबत आये तो और मजबूत हो जाइये

...सभना जीआ इका छाउ

...सभना जीआ इका छाउ

सो क्यों मंदा आखिए...

सो क्यों मंदा आखिए...

महामारी को अवसर बनाने की करतूतें

महामारी को अवसर बनाने की करतूतें

खोये बच्चे की मां की खुशी ही प्रेरणा

खोये बच्चे की मां की खुशी ही प्रेरणा

कोर्ट की सख्ती के बाद खाली होंगे आवास

कोर्ट की सख्ती के बाद खाली होंगे आवास

मुख्य समाचार

कृषि सुधार कानूनों पर जानबूझकर फैलाया जा रहा है भ्रम : मोदी

कृषि सुधार कानूनों पर जानबूझकर फैलाया जा रहा है भ्रम : मोदी

खजूरी गांव में 6 लेन मार्ग चौड़ीकरण के लोकार्पण अवसर पर पीएम...

कश्मीर : एक बार फिर आतंकी हमले की बाडी कैमरे लगाकर की गई रिकार्डिंग!

कश्मीर : एक बार फिर आतंकी हमले की बाडी कैमरे लगाकर की गई रिकार्डिंग!

युवकों को आकर्षित करने और रंगरूटों में जोश भरने का प्लान

शहर

View All