प्रकृति विरोधी विकास से उपजी त्रासदी

प्रकृति विरोधी विकास से उपजी त्रासदी

भरत झुनझुनवाला

भरत झुनझुनवाला

भारत का यह जो विशाल भूभाग है, वह एक विशाल चट्टान पर स्थित है, जिसे ‘इंडियन प्लेट’ कहा जाता है। पृथ्वी के 24 घंटे घूमने से यह चट्टान धीरे-धीरे उत्तर की ओर खिसक रही है, जैसे सेन्ट्रीफ्यूगल मशीन में पानी ऊपर चढ़ता है। उत्तर में इसे तिब्बत की प्लेट से टकराना पड़ता है। इन दोनों के टकराव से हिमालय में, विशेषकर उत्तराखंड में, लगातार भूकंप आते रहे हैं। पिछले 20 वर्षों में भूकंप न आने का कारण यह हो सकता है कि टिहरी झील में पानी के भरने से दोनों प्लेटों के बीच में दबाव पैदा हो गया है, जिससे इनका आपस में टकराना कुछ समय के लिए टल गया है। जैसे 2 पहलवानों के बीच एक छोटा बच्चा खड़ा हो जाये तो कुछ क्षण के लिए उनकी कुश्ती बंद हो जाती है।

दोनों प्लेटों के टकराव से एक ओर हिमालय ऊंचा होता जा रहा है तो दूसरी ओर गंगा इनकी मिट्टी को नीचे ला रही है। हिमालय के ऊपर उठने में पहाड़ कमजोर होते जाते हैं और उनकी मिट्टी गंगा में आकर गिरती है। गंगा उस मिट्टी को मैदानी इलाकों तक पहुंचाती है। पहाड़ों में हमें जो घाटियां दिखाई पड़ती हैं, वह गंगा द्वारा मिट्टी को नीचे ले जाने से ही बनी हैं। गंगा द्वारा मिट्टी नीचे नहीं लायी जाती तो हिमालय का क्षेत्र भी तिब्बत के पठार जैसा दिखता।

हरिद्वार से गंगासागर तक का समतल और उपजाऊ भूखंड भी इसी मिट्टी से बना है। इसलिए हिमालय पर दो परस्पर विरोधी प्रभाव लगातार पड़ते हैं। एक तरफ इंडियन प्लेट के टकराने से यह ऊपर होता है तो दूसरी तरफ गंगा द्वारा इसकी मिट्टी ले जाने से यह नीचा होता है। इस परिप्रेक्ष्य में 2013 में चोराबारी ग्लेशियर का टूटना एवं वर्तमान में ऋषिगंगा ग्लेशियर का टूटना सामान्य घटनाएं हैं और ऐसी घटनायें आगे भी निश्चित रूप से घटती रहेंगी। हमारे भू-वैज्ञानिक इस टूटन को वृक्षारोपण आदि से रोकने की अतार्किक बात कर रहे हैं।

हिमालय के इस सामान्य चरित्र में जलविद्युत परियोजनाओं ने संकट को बढ़ा दिया है। वर्ष 2013 की आपदा के बाद सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर पर्यावरण मंत्रालय ने एक कमेटी गठित की थी, जिसके अध्यक्ष रवि चोपड़ा थे। इस कमेटी ने पाया कि 2013 की आपदा में नुकसान केवल जलविद्युत परियोजनाओं के ऊपर एवं नीचे हुआ था। केदारनाथ के नीचे फाटा व्यूंग परियोजना के कारण मंदाकिनी का बहाव रुक जाने के कारण पीछे एक विशाल तालाब बन गया, जिससे सीतापुर का पुल डूब गया और हजारों लोग काल कलवित हो गये। इसी प्रकार फाटा व्यूंग के नीचे सिंगोली भटवाडी जलविद्युत परियोजना के बैराज टूटने के कारण बहता पानी नदी के एक छोर से तेजी से निकला और सर्प के आकार में दोनों किनारों को तोड़ता हुआ आगे बहा, जिससे हजारों लोगों के मकान पानी में समा गये।

जहां गंगा का खुला बहाव था वहां कोई आपदा नहीं आई। कमेटी ने कहा कि यह आकस्मिक नहीं हो सकता है कि आपदा का नुकसान केवल जलविद्युत परियोजनाओं के ऊपर और नीचे हुआ है। दरअसल जलविद्युत परियोजनाओं से गंगा का मुक्त बहाव बाधित हो जाता है। जैसा कि ऊपर बताया गया है कि पहाड़ अथवा ग्लेशियर के टूटने से जो मलबा और पानी आता है, उसको गंगा सहज ही गंगा सागर तक पहुंचा देती है। लेकिन इस कार्य को करने के लिए उसे खुला रास्ता चाहिए ताकि वह सरपट बह सके। रास्ते में कोई रुकावट नहीं। जैसे हाथी को सड़क पर चलने के लिए खुले रास्ते की जरूरत होती है। लेकिन जलविद्युत परियोजनाओं द्वारा गंगा के इस खुले रास्ते पर अवरोध लगा दिया जाता है और यही आपदा को जन्म देता है।

वर्तमान में ऋषिगंगा में हुई भयंकर आपदा का कारण भी यही है। ऊपर ग्लेशियर के टूटने से जो पानी और मलबा नदी में आया, उसको नदी सहज ही गंगासागर तक ढकेल कर ले जाती लेकिन वह ऐसा न कर सकी क्योंकि पहले उसका रास्ता रोका ऋषिगंगा जलविद्युत परियोजना ने, जिसे ऋषिगंगा ने तोड़ा। उसके बाद पानी का रास्ता रोका तपोवन विष्णुगाड जलविद्युत परियोजना की बैराज ने। वह पानी बैराज को तोड़ता हुआ आगे बढ़ा। इस प्रकार पहाड़ के टूटने की सामान्य घटना ने भयंकर रूप धारण कर लिया। यदि उत्तराखंड में जलविद्युत परियोजनाओं का निर्माण होता रहेगा तो ऐसी आपदाएं आती ही रहेंगी क्योंकि पहाड़ों का टूटना जारी रहेगा और उनका रास्ता बांधों और बैराजों से बाधित होने से संकट पैदा होगा ही।

कौतूहल का विषय यह है कि उत्तराखंड की सरकार की इन जलविद्युत परियोजनाओं को बनाने क्या दिलचस्पी है? इनसे उत्पादित बिजली भी बहुत महंगी पड़ती है। वर्तमान में नयी जल विद्युत परियोजनाओं से उत्पादित बिजली लगभग 8 से 10 रुपये प्रति यूनिट में उत्पादित होती है। देव प्रयाग के पास प्रस्तावित कोटली भेल 1बी जलविद्युत परियोजना के पर्यावरणीय प्रभावों के आर्थिक मूल्य का आकलन किया गया। मछलियों, बालू, जंगलों, भूस्खलन, मनुष्यों के स्वास्थ्य और संस्कृति आदि का आर्थिक मूल्य निकाला तो पाया कि पर्यावरण की हानि के मूल्य को जोड़ने से कोटलीभेल परियोजना द्वारा उत्पादित बिजली का उत्पादन मूल्य लगभग 18 रुपये प्रति यूनिट पड़ता है। इनके सामने आज सोलर पावर लगभग 3 रुपये में उपलब्ध है।

यद्यपि यह बिजली दिन में उत्पादित होती है लेकिन इसे सुबह और शाम की पीकिंग पावर में परिवर्तित करने का खर्च मात्र 50 पैसा प्रति यूनिट आता है। इसलिए आर्थिक दृष्टि से भी ये जलविद्युत परियोजनायें पूर्णतया अप्रासंगिक हो गयी हैं। लेकिन इन योजनाओं को बनाने में सरकार को 12 प्रतिशत बिजली मुफ्त मिलती है। एक यूनिट बिजली का दाम 4 रुपये मान लें तो उत्तराखंड सरकार को 48 पैसे मुफ्त मिलते हैं जबकि जनता को 18 रुपये अदा करने पड़ते हैं। इसके अलावा इन परियोजनाओं में पर्यावरण स्वीकृति, जंगल स्वीकृति, भूमि अधिग्रहण, बिजली लाइसेंस इत्यादि के टंटे होते हैं, जिसके कारण उत्तराखंड सरकार इनको बनाना चाहती है।

आश्चर्य यह है कि प्रकृति का पूजन करने वाली भारतीय संस्कृति जिसका एक विशेष मंत्र है ‘पृथ्वी: शांति, आपः शांति, वनस्पतिः शांति:’ वह संस्कृति आज हमारी धरती, पानी और वनस्पति को नष्ट करने पर तुली हुई है। इसकी तुलना में भोगवादी कहलाने वाली अमेरिकी संस्कृति ने तमाम क्रियाशील जलविद्युत परियोजनाओं को सिर्फ इसलिए हटा दिया है कि वहां के लोग खुली और अविरल बहती हुई नदी में स्नान करना, नाव चलाना और मछली पकड़ना चाहते थे।

समय आ गया है कि हम भी थोड़ा अन्तर्मुखी होकर विचार करें कि हम अपनी संस्कृति से कैसे विमुख हो गये हैं? हम क्योंकर केवल विकास का आभास पैदा करने के लिए अपने पहाड़ों, अपने प्राकृतिक संसाधनों, अपनी संस्कृति और अपनी जनता को कष्ट पहुंचाने को प्रतिबद्ध हैं?

लेखक आर्थिक मामलों के जानकार हैं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

जन सरोकारों की अनदेखी कब तक

जन सरोकारों की अनदेखी कब तक

एमएसपी से तिलहन में आत्मनिर्भरता

एमएसपी से तिलहन में आत्मनिर्भरता

अभिवादन से खुशियों की सौगात

अभिवादन से खुशियों की सौगात

क्या सचमुच हैं एलियंस

क्या सचमुच हैं एलियंस

अब राजनीति की ट्रेन में सवार मेट्रोमैन

अब राजनीति की ट्रेन में सवार मेट्रोमैन

मुख्य समाचार

डिजिटल प्लेटफॉर्म के खिलाफ कार्रवाई करने के कोई प्रावधान नहीं : सुप्रीमकोर्ट

डिजिटल प्लेटफॉर्म के खिलाफ कार्रवाई करने के कोई प्रावधान नहीं : सुप्रीमकोर्ट

अमेजन प्राइम वीडियो की भारत प्रमुख अपर्णा पुरोहित को गिरफ्ता...

शहर

View All