तिरछी नज़र

इंतजार की लहरों पर सवारी

इंतजार की लहरों पर सवारी

सहीराम

सहीराम

कोविड की जिस तीसरी लहर का इंतजार था, वह अभी तक तो नहीं आयी। अच्छा ही रहा। आगे भी न आए तो और अच्छा रहेगा। लेकिन जिसका किसी को इंतजार नहीं था, किसान आंदोलन की वह तीसरी लहर आ गयी। चलो यह भी अच्छा ही रहा। आंदोलनकारी किसान कह रहे हैं कि पता नहीं अभी कितनी लहरें और आएंगी। सरकार विरोधी भी चाहते हैं कि किसान आंदोलन की यह लहरें आती रहें। यह ज्वार थमे नहीं।

कोविड की तीसरी लहर का इंतजार तो ऐसे हो रहा था, जैसे आदमखोर जानवर का होता है कि वह अपना शिकार करने आएगा तो जरूर। सतर्क रहो। विशेषज्ञ भी कह रहे थे कि कोरोना की तीसरी लहर आएगी तो जरूर। इसलिए सतर्क रहो। महामारियों का इतिहास है कि उनकी दूसरी, तीसरी, चौथी लहरें आती ही हैं। बस पहली लहर के बाद हम यह बात भूल गए थे, इसलिए दूसरी लहर काफी मारक रही। लेकिन सबसे अच्छी बात सरकार ने यह की कि उसने घोषित कर दिया कि ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं हुई। अगर वह यह भी घोषित कर देती कि गंगा में शव नहीं तैर रहे थे और गंगा की रेती में शव नहीं दफनाए गए थे तो और अच्छा रहता।

लेकिन खैर, कोरोना की तीसरी लहर का तो चाहे कितना ही इंतजार रहा हो, इंतजार सिर्फ माशूक का ही नहीं होता यार, संकट का भी होता है, पर किसान आंदोलन की तीसरी लहर का किसी को इंतजार नहीं था। इंतजार तो दूसरी लहर का भी नहीं था और पहली लहर के बाद जैसे कोरोना को खत्म हुआ मान लिया गया था, वैसे ही किसान आंदोलन को भी खत्म हुआ मान लिया गया था और इसीलिए किसान आंदोलन की गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली के बाद सरकार गाजीपुर बाॅर्डर को खाली कराने पर आमादा हो गयी थी। लेकिन फिर टिकैत साहब के आंसुओं से आंदोलन का ऐसा ज्वार उठा, जिसकी सरकार ने कल्पना भी नहीं की थी, वैसे ही जैसे कोरोना की दूसरी लहर की उसने कल्पना नहीं की थी और बंगाल में विराट रैलियों का आयोजन करने लगी थी।

लेकिन अब कोरोना की तीसरी लहर का तो बस इंतजार ही है, पर मुजफ्फरनगर रैली के साथ किसान आंदोलन की तीसरी लहर जरूर आ गयी। यह लहर करनाल में जबरदस्त ढंग से दिखाई दी। यह लखनऊ में दिखाई दे रही है और जयपुर में भी दिखाई दे रही है। उधर सरकार ने अलीगढ़ में राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम से एक विश्वविद्यालय शुरू करके इस पर काबू पाने का जतन करना शुरू कर दिया है।

बहरहाल, कोरोना की तीसरी लहर न ही आए तो अच्छा है और किसान आंदोलन की तीसरी लहर आ गयी तो भी कोई बुरी बात नहीं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

शाश्वत जीवन मूल्य हों शिक्षा के मूलाधार

शाश्वत जीवन मूल्य हों शिक्षा के मूलाधार

कानूनी चुनौती के साथ सामाजिक समस्या भी

कानूनी चुनौती के साथ सामाजिक समस्या भी

देने की कला में निहित है सुख-सुकून

देने की कला में निहित है सुख-सुकून

मुख्य समाचार

2 और का सरेंडर, एक गिरफ्तार

2 और का सरेंडर, एक गिरफ्तार

कुंडली बॉर्डर हत्याकांड / आरोपी िनहंग 7 िदन के िरमांड पर

द्रविड़ भारतीय टीम का कोच बनने को तैयार

द्रविड़ भारतीय टीम का कोच बनने को तैयार

गांगुली और शाह ने मनाया, टी20 विश्व कप के बाद नियुक्ति की तै...

मैं पूर्णकालिक अध्यक्ष

मैं पूर्णकालिक अध्यक्ष

सीडब्ल्यूसी बैठक : ‘जी 23’ को सोनिया की नसीहत / मीडिया के जर...