ट्रंप ने कहा भ्रष्ट, बाइडेन ने घेरा कोरोना पर

ट्रंप ने कहा भ्रष्ट, बाइडेन ने घेरा कोरोना पर

जार्जिया के मेकन में शुक्रवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चुनावी रैली के दौरान।-रायटर

मेकन (अमेरिका), 17 अक्टूबर (एजेंसी)

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के लिए चल रहे जोरदार प्रचार में वार-पलटवार का सिलसिला तेज हो गया है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने प्रतिद्वंद्वी एवं डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन पर निशाना साधते हुए कहा कि वह एक ‘भ्रष्ट’ राजनीतिज्ञ हैं। ट्रंप ने फ्लोरिडा और जॉर्जिया में प्रचार के दौरान यह आरोप भी लगाया कि वाम नियंत्रित मीडिया और बड़ी प्रौद्योगिकी कंपनियां इस चुनाव अभियान में बाइडेन के साथ खड़ी हैं। ट्रंप ने फ्लोरिडा के ओकाला और जॉर्जिया के मेकन में अपने समर्थकों से कहा, ‘जो बाइडेन एक आपदा है। चलो इसका सामना करते हैं।’ राष्ट्रपति ने कहा कि वह वह ऐसे ‘अक्षम’ व्यक्ति से हारने के बारे में नहीं सोच सकते। उन्होंने कहा कि ‘द न्यूयार्क पोस्ट’ द्वारा प्रकाशित दस्तावेजों और ई-मेल से यह साबित हुआ है कि बाइडेन एक ‘भ्रष्ट’ राजनीतिज्ञ हैं।’ ट्रंप ने बाइडेन परिवार को ‘एक संगठित आपराधिक परिवार’ करार देते हुए बाइडेन के पुत्र हंटर के यूक्रेन तथा चीन में व्यापारिक लेनदेन को लेकर निशाना साधा।

उधर, बाइडेन ने कहा कि कोरोना से निपटने में अपनी विफलताओं से लोगों का ध्यान हटाने के लिए ट्रंप कुछ भी कर सकते हैं। मिशिगन के साउथफील्ड में चुनाव प्रचार के दौरान बाइडेन ने कहा कि कोरोना पर ट्रंप की नीतियों की वजह से देश को भारी कीमत चुकाना पड़ रही है। बाइडेन ने कहा, ‘राष्ट्रपति ट्रंप को अलगाव और उथल-पुथल में आनंद आता है। कोरोना से निपटने और इस देश की रक्षा करने में उनकी विफलताओं से हमारा ध्यान हट जाए, इसके लिए वह कुछ भी कर सकते हैं।’ राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार ने कहा, ‘वह अब भी सपनों की दुनिया में जी रहे हैं और लगातार हमें यह कह रहे हैं कि किसी चमत्कार की तरह वायरस इस दुनिया से लापता होने जा रहा है।’

बाइडेन को मिले ज्यादा दर्शक

न्यूयॉर्क (एजेंसी) : राष्ट्रपति पद के दोनों उम्मीदवारों का टाउन हॉल आयोजित किया गया और ट्रंप के मुकाबले ज्यादा लोगों ने बाइडेन का कार्यक्रम देखा। नीलसन कंपनी ने कहा कि बाइडेन के टाउन हॉल को एबीसी पर 1.41 करोड़ लोगों ने देखा। वहीं ट्रंप के कार्यक्रम को एनबीसी, सीएनबीसी और एमएसएनबीसी पर कुल मिला कर 1.35 करोड़ लोगों ने देखा।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और उसके द्वंद्व

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और उसके द्वंद्व

भाषा की कसौटी पर न हो संवेदना की परख

भाषा की कसौटी पर न हो संवेदना की परख