पीजीआई में मचा हड़कंप

रेजिडेंट डाॅक्टरों की हड़ताल से मरीज परेशान

रेजिडेंट डाॅक्टरों की हड़ताल से मरीज परेशान

रोहतक, 6 दिसंबर (निस)

पीजी के पहले बैच के छात्रों का दाखिला नहीं न होने के कारण पीजीआई के रेजिडेंट डाक्टरों ने हड़ताल शुरू कर दी है। बताया जा रहा है कि पीजी दाखिले में इकॉनोमिक वीकर सेक्शन (ईडब्ल्यूएस) और ओबीसी कोटा निर्धारित किया जा रहा है। यह मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है। इस कारण पीजी के पहले बैच की काउंसलिंग नहीं हो पा रही, जिसके चलते अन्य चिकित्सक संस्थानों में पीजी डाक्टरों ने हड़ताल शुरू कर दी है।

पीजीआई में रेजिडेंट डाक्टरों की हड़ताल से मरीजों को दिक्कत शुरू हो गई है। हड़ताल को देखते हुए पीजीआई ने छुट्टी पर गए सभी 150 फैकल्टी डॉक्टर्स को पांच दिन के अंदर ड्यूटी संभालने को कहा गया है। 450 रेजिडेंट डाक्टर हड़ताल पर रहें, जिससे पीजीआई प्रशासन में हड़कंप मच गया। रेजिडेंट डाक्टरों ने साफ कहा कि वे ओपीडी में कोई मरीजों की जांच नहीं करेंगे और न ही वार्डों में देखरेख करेंगे। पीजीआई प्रबंधन ने आपात बैठक बुलाई और रेजिडेंट डाक्टरों से बातचीत की।

पीजीआई निदेशक डॉ़ गीता गठवाला ने बताया कि डाक्टरों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं और सभी डाक्टरों को ड्यूटी संभालने का कहा गया है। साथ ही मरीजों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो इसके लिए रेजिडेंट डाक्टरों से भी बातचीत की गई है, इसके बाद ही रेजिडेंट डाक्टर ट्रामा सेंटर, एमरजेंसी और आईसीयू में सेवाएं देने के लिए राजी हो गए। साथ ही इस बारे में सभी विभागाध्यक्षों की भी बैठक बुलाई गई है।

बैठक में बनाएंगे रणनीति

हरियाणा स्टेट मेडिकल टीचर एसोसिएशन के प्रधान डॉ़ आरबी जैन का कहना है कि एग्ज्यूकेटिव कमेटी की बैठक करेंगे। बैठक में जो निर्णय होगा, उसके बाद आगे की रणनीति बनाई जाएगी।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अन्न जैसा मन

अन्न जैसा मन

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

एकदा

एकदा

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया