करनाल में बदमाशों ने बुजुर्ग दम्पति को बंधक बनाकर लूटा

कान से बालियां निकालने के लिए चाकू मारा

करनाल में बदमाशों ने बुजुर्ग दम्पति को बंधक बनाकर लूटा

करनाल, 12 सितंबर (हप्र)

बदमाशों की एक टोली ने बीती रात करनाल के सेक्टर 9 के मकान में घुसकर बुजुर्ग दम्पति को बंधक बना लिया और करीब 50 हजार की नकदी व मोबाइल फोन छीनकर ले गये। बदमाशों ने महिला की बालियां छीनने के प्रयास में चाकू से कान पर प्रहार किये। घायल महिला को अस्पताल मेें दाखिल करवाया गया है। जानकारी के अनुसार गत 7 सितंबर को भी यही बदमाश इसी घर मेें लूटपाट के इरादे से रात को दाखिल हुए थे। सुबह पुलिस को सूचना दी गई, लेकिन किसान आंदोलन में व्यस्त होने के कारण पुलिस नहीं आई। बीती रात फिर 5 बदमाश दीवार फांदकर उनके घर में घुस गये और बुजुर्ग दम्पति को बंधक बना लिया। पड़ोसियों की सूचना पर पुलिस ने आधी रात को जाकर कमरे में बंद दम्पति को मुक्त करवाया, तब तक बदमाश लूटपाट करके फरार हो चुके थे। जानकारी के अनुसार 12 से 18 वर्ष की आयु के पांच युवकों ने बुजुर्ग दंपत्ति को पहले पीट-पीट कर नकदी निकाली और फिर रसोई से चाकू लेकर महिला का कान काटकर सोने की बाली निकालने का प्रयास करते रहे और महिला चिल्लाती रही। बुजुर्गों का शोर सुनकर पड़ोसी आए तो युवक मौके से फरार हो गए।

पीड़ित बुजुर्ग एसके सोनी ने बताया कि रात करीब एक बजे बदमाश घर में घुसे तो इससे उनकी आंख खुल गई। वे उठकर बैठे ही था इतने में ही कुछ युवक उसके कमरे में घुस गए। उसको पीटना शुरू कर दिया। इसी दौरान उनकी पत्नी कमल सोनी को भी उन्होंने पीटना शुरू कर दिया। बदमाशों ने उन्हें पीटकर पहले नकदी का पता लगाया। इसके बाद वह उनके किचन से उठाए लाए और चाकू से बुजुर्ग महिला के कान को काटकर सोने की बाली निकालनी चाही।

जल्द गिरफ्तार होंगे आरोपी : पुलिस

सेक्टर-9 चौकी प्रभारी शेलेन्द्र सिंह ने बताया कि रात को करीब दो बजे सूचना मिली थी। पुलिस की टीम मौके पर पहुंची और दोनों को पति पत्नी को कमरे से निकालकर इलाज के लिए अस्पताल लेकर गए।  बदमाशों की सीसीटीवी फुटेज मिल चुकी है। जल्द ही पांचों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।  

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अलोपी देवी, ललिता देवी, कल्याणी देवी

अलोपी देवी, ललिता देवी, कल्याणी देवी

निष्ठा और समर्पण का धार्मिक सामंजस्य

निष्ठा और समर्पण का धार्मिक सामंजस्य

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

मुख्य समाचार