टूटती सांसों को जोड़ने की मुहिम

रात को भी सिलेंडरों की होम डिलीवरी में जुटे ‘आक्सीजन मैन’

रात को भी सिलेंडरों की होम डिलीवरी में जुटे ‘आक्सीजन मैन’

रेवाड़ी में बृहस्पतिवार को सेक्टर-1 में संक्रमित मरीज के घर पर ऑक्सीजन सिलेंडर देते अंकित मान। -निस

तरुण जैन/निस
रेवाड़ी, 20 मई

जिले में ऑक्सीजन की कमी के चलते मरीजों के सांसें टूटने लगी हैं। ऐसे में टूटती सांसों को जोड़ने के लिए पंचनद सेवा समिति की ओर से एक टैंपो सेवा शुरू की गई। इसमें संक्रमित मरीज व उनके परिजनों के लिए राहत सामग्री के साथ-साथ ऑक्सीजन सिलेंडर भी मरीजों के घरों तक निशुल्क पहुंचाए जा रहे हैं। बीती रात को 11 बजे जैसे ही उन्हें आक्सीजन की डिमांड मिली तो समिति के सदस्य बरसात के बीच टैंपों लेकर निकल पड़े और संक्रमित तक सिलेंडर पहुंचाया।

पंचनद सेवा समिति के जिला अध्यक्ष केशव चौधरी ने बताया कि कोरोना संक्रमण बड़ी तेजी के साथ फैलता जा रहा है। ऐसे में लोगों को मानवता का परिचय देते हुए पीड़ित लोगों की मदद के लिए आगे आना चाहिए। उन्होंने कहा कि कठिन समय में अगर इंसान ही इंसान के काम नहीं आया तो यह जीवन बेकार है। कोरोना संक्रमण की पहली लहर में भी उन्होंने लॉकडाउन के दौरान लोगों की मदद कर राहत दिलाने का काम किया था और अब दूसरी लहर में जब संक्रमण कहर बनकर लोगों पर टूटने लगा तो टूटती सांसों को जोड़ने के लिए मानवता का परिचय देते हुए उन्होंने यह पहल की है।

प्रशासन भी दे रहा सहयोग

केशव चौधरी ने बताया कि इस काम के लिए जिला प्रशासन की ओर से उपायुक्त यशेंद्र सिंह द्वारा उन्हें पूरी मदद की जा रही है जिसके लिए वह उनका आभार प्रकट करते हैं कि उन्होंने विकट समय में लोगों की मदद करने के लिए उनका सहयोग किया।

एक फोन कॉल और घर पहुंच जाता है सिलेंडर

केशव चौधरी ने बताया कि जब किसी मरीज का फोन उनके पास ऑक्सीजन सिलेंडर या अन्य राहत के लिए आता है तो उनकी गाड़ी तुरंत दौड़ती हुई मरीज के द्वार पहुंचती है और उसे हरसंभव सहायता पहुंचाने का काम किया जा रहा है। घरों में निशुल्क ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाने वाले युवक अंकित मान को अब लोग ‘ऑक्सीजन मैन’ के नाम से भी पुकारने लगे हैं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अन्न जैसा मन

अन्न जैसा मन

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

एकदा

एकदा

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

मुख्य समाचार

कोल्हापुर : 14 बच्चों के अपहरण और 5 बच्चों की हत्या की दोषी बहनों की फांसी की सज़ा उम्रकैद में बदली

कोल्हापुर : 14 बच्चों के अपहरण और 5 बच्चों की हत्या की दोषी बहनों की फांसी की सज़ा उम्रकैद में बदली

मौत की सजा पर अमल में अत्यधिक विलंब के कारण हाईकोर्ट ने लिया...