‘अब कोई शिकवा नहीं’

‘बागी’ विधायकों के काफिले ने जयपुर की ओर किया कूच, बोले-किसी ने नहीं बनाया बंधक

‘बागी’ विधायकों के काफिले ने जयपुर की ओर किया कूच, बोले-किसी ने नहीं बनाया बंधक

गुरुग्राम में मंगलवार को होटल लीला में मौजूद राजस्थान के विधायक। -हप्र

नवीन पांचाल/हप्र
गुरुग्राम, 11 अगस्त

अपनी ही सरकार के खिलाफ बागी तेवर अपनाए रहे राजस्थान के विधायकों का काफिला आखिरकार करीब एक महीने बाद जयपुर की ओर रवाना हो गया। सचिन पायलट खेमे के ये विधायक करीब एक महीने तक यहां कभी रिजाॅर्ट तो कभी होटल में ‘छिपे’ रहे। बीते दो दिनों से ये दिल्ली-गुरुग्राम बाॅर्डर स्थित एक फाइव स्टार होटल में ठहरे थे।

राजस्थान रवाना होने से पहले कुछ विधायकों ने मीडिया के समक्ष स्वीकार किया कि यहां के होटल व रिजाॅर्ट में अपने परिवारों के साथ ठहरे थे। हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि सुरक्षा की दृष्टि ने उन्होंने कमरे अपने नाम से बुक नहीं करवाए थे। चाकसू विधानसभा से विधायक वेदप्रकाश सोलंकी ने कहा, ‘यहां के रिजाॅर्ट में चार-पांच दिन परिवार के साथ रहने का मौका मिला। हम राजस्थान से जो लक्ष्य लेकर आए थे वह पूरा हो गया। न हम भाजपा के कब्जे में थे न हमें कोई बाउसंर या पुलिसकर्मी दिखाई दिया। हम शाॅपिंग करने लिए निकले थे। अब हम खुले मन से बैठे हैं कोई शिकवा नहीं।’ वह बोले, ‘मुख्यमंत्री अशोक गहलौत ने मेरी खूब सुनी मुझे न पहले उनसे कोई शिकवा था और न अब है। लेकिन वोटर्स के साथ कमिटमेंट था कि पायलट के साथ रहना है। सरकार अल्पमत या संकट में आए ऐसा हमारा कोई उद्देश्य नहीं था।’ उनके अनुसार,‘सचिन पायलट को सीएम बनवाने के लिए आलाकमान से बात करने थे, वो बात हमने अपनी रख दी। रिजाॅर्ट व होटल में हमारी व्यवस्था किसी और ने करवाई थी और खर्चा हमने ही दिया है।’

यहां हम 19 विधायक कांग्रेस तथा 3 निर्दलीय भी हमारे साथ थे। हमारा कुल खर्च करीब 7 लाख रुपये हुआ है।’

इसी तरह वल्लभनगर से विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत बोले, ‘बात मान सम्मान की थी। लोगों के काम नहीं हो रहे थे। सरकार के मंत्री काम नहीं कर रहे थे इससे पार्टी और सरकार की बदनामी हो रही थी। हमें डर था कि यही हाल रहा तो ऐसा न हो कि आने वाले समय में हम चुनाव हारें और कांग्रेस सरकार ही न बना पाए।’ उन्होंने दावा किया, ‘न तो भाजपा के किसी नेता ने हमारे से संपर्क किया और न ही कोई हमसे मिलने होटल में आया। हम अपने परिवारों के साथ होटल में थे। हम पार्टी के साथ थे, अभी भी हैं और आगे भी रहेंगे। परिवार के मुखिया से नाराज होने का हमारा अधिकार है लेकिन हम उनसे दूर कभी नहीं रहे। अफवाहें उड़ाकर हमारे बीच मनभेद फैलाने के प्रयास किए। राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने हमारी बात मानने का वादा किया है।’

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

छोटा सा पौधा थोड़ा सा पानी

छोटा सा पौधा थोड़ा सा पानी

आईपीएल आज से

आईपीएल आज से

टूटने लगा है बच्चों का सुरक्षा कवच

टूटने लगा है बच्चों का सुरक्षा कवच

उगते सूरज के देश में उगा सुगा

उगते सूरज के देश में उगा सुगा

शहर

View All