‘दिल्ली कूच’ रोकने को हरियाणा की सीमाएं सील

‘दिल्ली कूच’ रोकने को हरियाणा की सीमाएं सील

चंडीगढ़/नयी दिल्ली, 24 नवंबर (ट्रिन्यू/ एजेंसी)

केंद्र के 3 नये कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसानों के 'दिल्ली कूच' को रोकने के लिए हरियाणा सरकार ने दिल्ली और पंजाब से सटी सीमाएं 3 दिन के लिए सील कर दी हैं। इससे पहले सोमवार देर रात फतेहाबाद, कैथल, कुरुक्षेत्र सहित विभिन्न जिलों से कई किसान नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लेकर नजरबंद कर दिया।

पंजाब के किसान संगठनों ने दिल्ली के लिए 26 नवंबर को कूच करने का ऐलान किया है। हरियाणा और कई अन्य राज्यों के किसानों ने भी आंदोलन में साथ देने की घोषणा की है।

इस बीच, केंद्र ने पंजाब के किसानों को 3 दिसंबर को दूसरे दौर की बातचीत के लिए बुला लिया है। खाद्य सचिव सुधांशु पांडेय ने कहा, ‘हमने करीब 30 किसान संगठनों के प्रतिनिधियों को 3 दिसंबर को सुबह 11 बजे विज्ञान भवन में दूसरे दौर की बातचीत के लिए बुलाया है।' सचिव ने बताया कि किसान संगठनों को केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की ओर से बातचीत में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया है। इस बैठक में केंद्रीय खाद्य मंत्री पीयूष गोयल के भी शामिल होने की उम्मीद है। पंजाब सरकार के खाद्य एवं कृषि विभाग के अधिकारियों को भी बातचीत में शामिल होने को कहा गया है।

गौर हो कि इस बारे में पहले दौर की वार्ता 13 नवंबर को हुई थी, जो बेनतीजा रही थी। पंजाब के किसान नये कृषि कानूनों को हटाने की मांग कर रहे हैं। किसानों का कहना है कि नये कानून सभी अंशधारकों के साथ व्यापक विचार-विमर्श के बाद लाए जाने चाहिए। इसके अलावा किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के मोर्चे पर भी गारंटी चाहते हैं। उनको आशंका है कि इन कानूनों से एमएसपी समाप्त हो सकता है। हालांकि, केंद्र ने इस आशंका को खारिज किया है।

किसान संगठन अड़ा, ट्रेनों का बदलना पड़ा मार्ग

अमृतसर (एजेंसी) : यहां धरने पर बैठे एक किसान संगठन के पटरियों से हटने से इनकार के कारण मंगलवार को रेलवे को अमृतसर जाने वाली ट्रेनों का मार्ग बदलना पड़ा। रेलवे ने सोमवार को सेवाएं बहाल की थीं। इससे पहले करीब 30 किसान संगठनों ने यात्री ट्रेनों को लेकर की गई अपनी नाकेबंदी 15 दिनों के लिए हटाने पर सहमति व्यक्त की थी। हालांकि यहां किसान मजदूर संघर्ष समिति के बैनर तले प्रदर्शन कर रहे किसानों ने रेलमार्ग से हटने से इनकार कर दिया। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरेंद्र सिंह ने इस कदम की आलोचना की। अमृतसर के उपायुक्त गुरप्रीत सिंह खैरा ने बताया कि किसान संगठन ने जंडियाला रेलवे स्टेशन पर रेलमार्ग बाधित कर रखा है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अनमोल योगदान को गरिमा देने की पहल

अनमोल योगदान को गरिमा देने की पहल

नदियों के स्वास्थ्य पर निर्भर पर्यावरण संतुलन

नदियों के स्वास्थ्य पर निर्भर पर्यावरण संतुलन

स्वाध्याय की संगति में असीम शांति

स्वाध्याय की संगति में असीम शांति

दशम पिता : भक्ति से शक्ति का मेल

दशम पिता : भक्ति से शक्ति का मेल

मुकाबले को आक्रामक सांचे में ढलती सेना

मुकाबले को आक्रामक सांचे में ढलती सेना

शहर

View All