आत्मविश्वास बढ़ाने को बच्चों के लिए एडवेंचर एक्टिविटीज : The Dainik Tribune

आत्मविश्वास बढ़ाने को बच्चों के लिए एडवेंचर एक्टिविटीज

आत्मविश्वास बढ़ाने को बच्चों के लिए एडवेंचर एक्टिविटीज

नयी दिल्ली : महानगरों की लाइफस्टाइल बच्चों पर बुरा प्रभाव डाल रही है। उनमें आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए एडवेंचर एक्टिविटीज को जरूरी बताया जा रहा है। विशेषज्ञों के मुताबिक ट्रैकिंग, रेस, वाल क्लाइबिंग, कमांडो क्लाइंबिंग, रोप कोर्स, शूटिंग, आर्चरी और कैंपिंग जैसी तमाम एक्टिविटीज से उनका शारीरिक और मानसिक विकास होता है और ये सभी एक्‍टीविटीज रॉक स्‍पोर्ट के तहत कराई जा रही हैं। इस तरह की गतिविधियों से उनके अंदर खुद को संभालने, सुरक्षित रखने और निर्णय लेने की क्षमता विकसित होती है। विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसे में स्कूलों की भूमिका बेहद अहम हो जाती है। उनकी यह जिम्मेदारी हो जाती है कि बच्चों को ज्यादा से ज्यादा आउटडोर एक्टिविटीज कराई जाएं, ताकि उनका मानसिक और शारीरिक विकास तेजी से हो सके। इसी जरूरत को देखते हुए आजकल बच्चों के लिए एडवेंचर एक्टिविटी काफी अहम और जरूरी हो गई हैं। इसके तहत बच्चों को आउटडोर एक्टिविटी के लिए स्कूल से बाहर ट्रिप पर ले जाया जाता है और उनके समग्र विकास के लिए तरह-तरह की गतिविधियां कराई जाती हैं। एडवेंचर कैंप के लिए कई बार स्कूलों की ओर से ही सारा इंतजाम किया जाता है, लेकिन ज्यादातर स्कूल इसके लिए एक्सपर्ट सर्विस प्रोवाइडर की मदद लेते हैं, जिनके पास बच्चों को प्रशिक्षित और गाइड करने के लिए प्रोफेशनल्स की टीम होती है और सारी सुविधाओं और जरूरतों से युक्त जगह भी होती है। रॉक स्पोर्ट के एडवेंचर कैंप में हिस्सा लेकर बच्‍चों ने काफी कुछ सीखा है। आउटडोर एक्टिविटीज और एडवेंचर स्पोर्ट्स से बच्चों की पर्सनॉलिटी डेवलप हो रही है।

विशेषज्ञ कहते हैं कि आमतौर पर स्कूल और क्लासरूम में बच्चे सिर्फ दिमागी लर्निंग के बारे में जानते हैं, लेकिन उनके समग्र विकास के लिए बहुत सारे डेवलपमेंट जरूरी हैं। एडवेंचर कैंप के जरिये उनकी इसी जरूरत को पूरा किया जाता है। एडवेंचर कैंप में बच्चों को सिखाया जाता है कि मुश्किल के समय अपना बचाव करने के लिए उन्हें क्या करना है। जैसे आग लगने की स्थिति में अपना बचाव करना, बिना पुल के नदी पार करना, पहाड़ों पर चढ़ना, शूटिंग सीखना, ग्रुप डिस्कशन करना और अन्य गतिविधियों में भाग लेना। ऐसे आयोजनों से बच्चों का उत्साह बढ़ता है और उनको कुछ नया समझने और सीखने का भी मौका मिलता है। इन गतिविधियों के माध्यम से यह भी पता चलता है कि बच्चे में पढ़ाई के अलावा और किस तरह की विशेष प्रतिभा है, जिसे बढ़ावा देकर उसका सर्वांगीण विकास हो सकता है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

शहर

View All