वादाखिलाफी पर फूंका पुतला

हटाये सफाई कर्मियों ने घेरा निगमायुक्त आवास

हटाये सफाई कर्मियों ने घेरा निगमायुक्त आवास

गुरुग्राम में सोमवार को निगम आयुक्त का पुतला फूंकते काम से निकाले गए सफाई कर्मचारी। -हप्र

गुरुग्राम, 6 दिसंबर (हप्र)

सफाई कार्य के ठेकेदार बदलने के क्रम में नौकरी से निकाले गए सफाई कर्मियों ने नगर निगम कमिश्नर पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया है। सफाईकर्मियों ने निगम कमिश्नर का पुतला फूंक उनके सिविल लाइन स्थित आवास का घेराव किया। सफाईकर्मियों ने आरोप लगाया कि 10 दिन में नौकरी बहाली का लिखित वादा करके कमिश्नर अब उनसे मुलाकात करने को भी तैयार नहीं हैं।

विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व भारतीय निगम कर्मचारी यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष गौरव टांक ने किया। प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कांग्रेस की व्यापार सेल के प्रदेशाध्यक्ष पंकज डावर ने कहा कि सरकार गूंगी-बहरी हो चली है, जिसका लाभ अफरशाही उठा रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि न तो मुख्यमंत्री न ही मंत्री व विधायक लोगों के बीच में रहते हैं, ऐसे में इन्हें इस बात की जानकारी भी नहीं है कि लोग किस कदर अफसरों की मनमानी से परेशान हैं। अफसर अपनी मर्जी से सिर्फ अपने चहेतों के काम कर रहे हैं और आमजन की सुनवाई करने वाला कोई नहीं है। उन्होंने कहा कि निगम कमिश्नर ने सफाई कर्मियों को धरने से उठाने के लिए खुद उनके बीच पहुंचकर सभी को 10 दिन के अंदर काम पर वापस लेने का वादा किया था लेकिन इनमें 80 से अधिक कर्मचारी अभी तक सड़कों पर हैं। प्रदर्शनकारी सफाईकर्मियों ने पहले निगम कमिश्नर का पुतला फूंका तथा बाद में प्रदर्शन करते हुए सिविल लाइन स्थित उनके आवास पर पहुंच गए। यहां इन्होंने कमिश्नर के निवास का घेराव किया।

इस दौरान बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी मौजूद रहे। इस मौके पर सुरेश उज्जैनवाल, नरेंद्र बहोता, राकेश सारसर, कौशल, संतोष राणा, पूजा, हरि, राजवीर, राहुल, नरेश, नवीन और वेद प्रकाश बागड़ी समेत काफी लोग मौजूद रहे।

स्वास्थ्य कर्मियों ने सिविल सर्जन को सौंपा ज्ञापन

जींद (हप्र) : भारतीय मजदूर संघ से संबंधित स्वास्थ्य कर्मचारी संघ हरियाणा के आह्वान पर सोमवार को सभी सीएचसी,एस डी एच, व जिला नागरिक अस्पताल में संबधित प्रवर चिकित्सा अधिकारी के माध्यम से कर्मचारियों की समस्याओं को लेकर सिविल सर्जन के नाम ज्ञापन दिया। संघ के मीडिया प्रभारी सुनील सैनी ने बताया कि 17 व 26 अक्तूबर को सिविल सर्जन के साथ सभी मुद्दों पर सहमति होने के बावजूद न तो हटाए गए कर्मचारियों की सूची जारी की गई और न ही अभी तक कर्मचारियों का वेतन जारी किया गया व टालमटोल रवैया अधिकारियों व कम्पनी द्वारा अपनाया जा रहा है जिसको लेकर मजबूरीवश स्वास्थ्य कर्मचारी संघ द्वारा सिविल सर्जन कार्यालय पर प्रदर्शन करने का निर्णय लिया गया। उन्होंने बताया आज जिले के सभी प्रवर चिकित्सा अधिकारी के माध्यम से जिले के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सामान्य अस्पताल व जिला अस्पताल में 10 दिसम्बर 2021 को प्रदर्शन को लेकर सिविल सर्जन के नाम ज्ञापन दिया गया।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अन्न जैसा मन

अन्न जैसा मन

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

एकदा

एकदा

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया