अखंड भारत की स्थापना के लिए समर्पित रहा डा़ सेन का जीवन

अखंड भारत की स्थापना के लिए समर्पित रहा डा़ सेन का जीवन

मदवि (रोहतक) में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक प्रेमचंद गोयल को स्मृति चिन्ह देते कुलपति राजबीर सिंह व सांसद अरविंद शर्मा। -हप्र

रोहतक, 27 अक्तूबर (हप्र)

हरियाणा के पूर्व उप- मुख्यमंत्री, भारतीय जनता पार्टी के प्रबुद्ध नेता तथा प्रतिष्ठित समाजसेवी डा. मंगल सेन की जयंती पर आज महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (मदवि) के डा. मंगल सेन शोध पीठ के तत्वावधान में स्मृति नमन कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में डा. मंगल सेन के जीवन, कार्यों, तथा उपलब्धियों को याद करते हुए वक्ताओं ने श्रद्धासुमन अर्पित किए।

कार्यक्रम में मुख्य वक्ता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक तथा प्रतिष्ठित समाज सेवी प्रेमचंद गोयल ने डा. मंगल सेन को सिद्धांतवादी व्यक्ति बताया। उन्होंने कहा कि डा. मंगल सेन राष्ट्रीय विचारधारा के प्रचार-प्रसार तथा अखण्ड भारत की स्थापना के लिए कार्यरत रहे।

रोहतक लोकसभा क्षेत्र के सांसद डा. अरविंद शर्मा ने डा. मंगल सेन के समाज-प्रदेश-हित के प्रति समर्पण भाव, सादगीपूर्ण जीवन, सच्चाई तथा संस्कारों की प्रशंसा की। आॅनलाइन माध्यम से जुड़े रोहतक के पूर्व विधायक तथा पूर्व सहकारिता मंत्री मनीष कुमार ग्रोवर, हरियाणा के पूर्व शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने भी विचार रखे।

कार्यक्रम में रोहतक के मेयर मनमोहन गोयल, डा. मंगल सेन के परिवार के सदस्य रणधीर सिंह, भाजपा जिलाध्यक्ष अजय बंसल, चरणजीत खट्टर, रमेश भाटिया, नरेंद्र खट्टर, धर्मबीर शर्मा समेत कई गणमान्य व शोधार्थी शामिल हुए।

कुलपति ने पढ़ा सीएम का संदेश

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री मनोहर लाल का संदेश विश्वविद्यालय कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने पढ़ा। मुख्यमंत्री ने अपने संदेश में डा. मंगल सेन को कर्म योद्धा, प्रखर राष्ट्रभक्त तथा महान समाज सुधारक बताया। उन्होंने डा. मंगल सेन को हरियाणा प्रदेश के हितों का रक्षक तथा प्रांत व राष्ट्र के प्रति समर्पित नेता बताया।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

बच्चों को देखिए, बच्चे बन जाइए

बच्चों को देखिए, बच्चे बन जाइए

अलोपी देवी, ललिता देवी, कल्याणी देवी

अलोपी देवी, ललिता देवी, कल्याणी देवी

निष्ठा और समर्पण का धार्मिक सामंजस्य

निष्ठा और समर्पण का धार्मिक सामंजस्य

सातवें साल ने थामी चाल

सातवें साल ने थामी चाल

... ताकि आप निखर-निखर जाएं

... ताकि आप निखर-निखर जाएं