अमेरिकी सांसदों ने प्रशासन से ‘डॉक्यूमेंटिड ड्रीमर्स' के लिए डीएसीए का दायरा बढ़ाने की अपील की

हजारों भारतीय बच्चों को अमेरिका से उनके मूल देश वापस भेजे जाने के डर से मिल सकता है छुटकारा

अमेरिकी सांसदों ने प्रशासन से ‘डॉक्यूमेंटिड ड्रीमर्स' के लिए डीएसीए का दायरा बढ़ाने की अपील की

प्रतीकात्मक चित्र

वाशिंगटन, 1 दिसंबर (एजेंसी)

अमेरिका के 49 प्रभावशाली सांसदों के एक द्विदलीय समूह ने राष्ट्रपति जो बाइडन के प्रशासन से ‘डिफर्ड एक्शन फॉर चाइल्डहुड अराइवल्स' (डीएसीए) के दायरे को व्यापक कर इसमें करीब 2 लोख ‘डॉक्यूमेंटिड ड्रीमर्स' को शामिल करने की अपील की है। ‘डॉक्यूमेंटिड ड्रीमर्स' उन भारतीय-अमेरिकियों के बच्चे हैं, जो मुख्य रूप से एच -1 बी वीजा आदि के जरिए कानूनी रूप से अमेरिका आए थे। मूल देश में वापस भेजे जाने से एक प्रकार की प्रशासनिक राहत प्रदान करने वाले डीएसीए का उद्देश्य, इन योग्य अप्रवासी युवाओं को उनके देश वापस भेजे जाने से सुरक्षा प्रदान करना है। अमेरिकी कानूनों के तहत, बच्चे 21 साल की उम्र के बाद अपने माता-पिता पर निर्भर नहीं होते। नतीजतन, हजारों भारतीय बच्चों को अमेरिका से उनके मूल देश वापस भेजे जाने का डर रहता है।

सांसद डेबोरा रॉस और सीनेटर एलेक्स पैडिला के नेतृत्व में सीनेट तथा सदन के 49 सदस्यों ने एक पत्र प्रस्तुत किया, जिसमें अनुरोध किया गया कि होमलैंड सिक्योरिटी विभाग (डीएचएस) ‘डॉक्यूमेंटिड ड्रीमर्स' को शामिल करने के लिए डीएसीए मानदंडों को व्यापक बनाए। उसमें कहा गया कि लंबे समय से अमेरिकी वीजा धारकों के तौर पर बच्चे अमेरिका में कानूनी दर्ज के साथ बड़े होते हैं, लेकिन 21 साल की उम्र में उन्हें तब व्यवस्था से बाहर कर दिया जाता है, जब उनके आश्रितों का वीजा समाप्त हो जाता है या उन्हें उस समय तक ‘ग्रीन कार्ड' नहीं मिल पाता। सांसद डीएचएस से 2,00,000 ‘डॉक्यूमेंटिड ड्रीमर्स' के लिए पात्रता बढ़ाने का आग्रह कर रहे हैं, जो वर्तमान में डीएसीए के तहत, मूल देश वापस भेजे जाने से सुरक्षा के लिए पात्र नहीं हैं। सांसदों ने पत्र में लिखा, ‘‘ अगर डीएसीए को जैसे हम कह रहे हैं वैसे किया गया तो, अमेरिका में 15 जून, 2012 तक मौजूद ‘डॉक्यूमेंटिड ड्रीमर्स' को 21 साल का होने के बाद भी हमारे देश में रहने और उसके हित में योगदान देते रहने का मौका दिया जा सकता है। डीएसीए को उन बच्चों तथा युवा वयस्कों की सुरक्षा के लिए बनाया गया था, जो अमेरिका में बड़े हुए हैं, ताकि उन्हें उन देशों में लौटने के लिए मजबूर ना किया जाए, जिसे वे शायद थोड़ा ही जानते हों। हम आपसे ‘डॉक्यूमेंटिड ड्रीमर्स' के लिए डीएसीए पात्रता का विस्तार करके इस नीति के वादे को पूरा करने का आग्रह करते हैं।''

इस कदम का ‘डॉक्यूमेंटिड ड्रीमर्स' ने भी स्वागत किया है। ‘इम्प्रूव द ड्रीम' के संस्थापक डी पटेल ने कहा कि वे सांसदों के इस कदम के आभारी हैं। उन्होंने कहा कि अमेरिका में पले-बढ़े 2,00,000 से अधिक बच्चे तथा युवा वयस्क इसलिए डीएसीए के लिए पात्र नहीं हैं, क्योंकि वे ‘डॉक्यूमेंटिड ड्रीमर्स' हैं।

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने 2012 में डीएसीए कार्यक्रम की शुरुआत की थी। यह उन लोगों को उनके मूल देश वापस भेजे जाने से रोकता है जो अमेरिका में नाबालिगों के रूप में आए थे। हालांकि सितंबर में तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस नीति को रद्द कर दिया था। डीएसीए का पात्र होने के लिए, व्यक्ति के कोई गंभीर अपराध रिकॉर्ड नहीं होने चाहिए। अभी करीब, 6,40,000 आव्रजक इस कार्यक्रम के अधीन पंजीकृत हैं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अन्न जैसा मन

अन्न जैसा मन

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

एकदा

एकदा

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

मुख्य समाचार

कोल्हापुर : 14 बच्चों के अपहरण और 5 बच्चों की हत्या की दोषी बहनों की फांसी की सज़ा उम्रकैद में बदली

कोल्हापुर : 14 बच्चों के अपहरण और 5 बच्चों की हत्या की दोषी बहनों की फांसी की सज़ा उम्रकैद में बदली

मौत की सजा पर अमल में अत्यधिक विलंब के कारण हाईकोर्ट ने लिया...