म्यांमार से भारत और थाईलैंड लगभग 10 हजार शरणार्थी गये : बर्गनर

म्यांमार से भारत और थाईलैंड लगभग 10 हजार शरणार्थी गये : बर्गनर

प्रतीकात्मक चित्र

संयुक्त राष्ट्र, 21 जून (एजेंसी)म्यांमार संबंधी मामलों के लिए संयुक्त राष्ट्र महासचिव की विशेष दूत ने कहा कि देश में राष्ट्रव्यापी संघर्षों के कारण लगभग 10,000 शरणार्थी म्यांमा से भारत और थाईलैंड भाग गए हैं और इस संकट के कारण पैदा हुआ क्षेत्रीय खतरा वास्तविक है। महासचिव एंतोनियो गुतारेस की म्यांमा में विशेष दूत क्रिस्टीन श्रानर बर्गनर ने शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा से कहा, ‘‘म्यांमा में सभी पक्षों के साथ दैनिक संवाद के दौरान मुझे गंभीर हालात का पता चला है। लोग अभावों में रह रहे हैं, उनके पास कोई उम्मीद नहीं है और वे डर में जी रहे हैं।'' उन्होंने कहा, ‘‘कोई अंतर्राष्ट्रीय कदम न उठाए जाने के बीच आम नागरिक रक्षा बल बना रहे हैं। वे स्व-निर्मित हथियारों का उपयोग करते हैं और जातीय सशस्त्र संगठनों से सैन्य प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं। देश के उन क्षेत्रों में भी अशांति है, जिन्होंने दशकों से सशस्त्र संघर्ष नहीं देखा है।'' बर्गनर ने कहा, ‘मध्य म्यांमार और चीन, भारत एवं थाईलैंड की सीमा से लगे क्षेत्रों समेत पूरे देश में संघर्षों के कारण लगभग 1,75,000 नागरिक विस्थापित हुए हैं और करीब 10,000 शरणार्थी भारत और थाईलैंड भाग गए हैं। संकट का क्षेत्रीय खतरा वास्तविक है। हमें अधिकतम संयम का आह्वान करते रहना चाहिए और सभी प्रकार की हिंसा की निंदा करनी चाहिए। बड़े पैमाने पर गृहयुद्ध का खतरा वास्तविक है।''

उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को रोहिंग्या लोगों को नहीं भूलना चाहिए क्योंकि रोहिंग्या की स्थिति गंभीर है और महासभा को इस मामले को संज्ञान में रखना चाहिए। संयुक्त राष्ट्र महासभा ने म्यांमार की सैन्य सरकार के खिलाफ व्यापक वैश्विक विरोध प्रकट करते हुए शुक्रवार को एक प्रस्ताव पारित कर देश में सैन्य तख्तापलट की निंदा की। महासभा ने उसके खिलाफ शस्त्र प्रतिबंध का आह्वान किया तथा लोकतांत्रिक रूप से चुनी हुई सरकार को बहाल करने की मांग की है। हालांकि भारत समेत 36 देशों ने इस प्रस्ताव पर मतदान में हिस्सा नहीं लिया। भारत का कहना है कि मसौदा प्रस्ताव उसके विचारों को प्रतिबिम्बित नहीं करता। संयुक्त राष्ट्र महासभा ने शुक्रवार को ‘म्यांमार में स्थिति' मसौदा प्रस्ताव को स्वीकृत किया। इसके पक्ष में 119 देशों ने मतदान किया जबकि म्यांमार के पड़ोसी देश भारत, बांग्लादेश, भूटान, चीन, नेपाल, थाईलैंड और लाओस समेत 36 देशों ने मतदान में हिस्सा नहीं लिया। बेलारूस एकमात्र ऐसा देश था जिसने प्रस्ताव के खिलाफ मतदान किया।

 

 

 

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

पाक सेना के तीर से अधीर हामिद मीर

पाक सेना के तीर से अधीर हामिद मीर

नीति-निर्धारण के केंद्र में लाएं गांव

नीति-निर्धारण के केंद्र में लाएं गांव

असहमति लोकतांत्रिक व्यवस्था का हिस्सा

असहमति लोकतांत्रिक व्यवस्था का हिस्सा

बदलोगे नज़रिया तो बदल जाएगा नज़ारा

बदलोगे नज़रिया तो बदल जाएगा नज़ारा

हरियाणा के सामाजिक पुनर्जागरण के अग्रदूत

हरियाणा के सामाजिक पुनर्जागरण के अग्रदूत

मुख्य समाचार

मेडिकल कोर्स में ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण

मेडिकल कोर्स में ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण

ईडब्ल्यूएस के लिए भी 10% कोटे का एेलान

आंखों में आंसू, चेहरे पर मुस्कान

आंखों में आंसू, चेहरे पर मुस्कान

3 में से 2 राउंड जीतने के बावजूद मिली हार

लगातार दूसरे दिन बढ़े उपचाराधीन मरीज

लगातार दूसरे दिन बढ़े उपचाराधीन मरीज

देश में 43509 नये मामले, 640 की मौत

शहर

View All