सन‍् 1945 में आज के दिन ही अमेरिका ने गिराया था हिरोशिमा पर परमाणु बम, हमले में हुई थी 1,40,000 लोगों की मौत!

हमले की 75वीं बरसी, जीवित बचे लोगों ने दोहराई परमाणु हथियारों पर प्रतिबंध की मांग

सन‍् 1945 में आज के दिन ही अमेरिका ने गिराया था हिरोशिमा पर परमाणु बम, हमले में हुई थी 1,40,000 लोगों की मौत!

जापान के हिरोशिमा में परमाणु बम की 75वीं बरसी पर हमले में तबाह हुए डोम के गिर्द लोग एकत्र हुए और मारे गये लोगों को याद किया।-रायटर

हिरोशिमा, 6 अगस्त (एपी)

जापान के हिरोशिमा शहर पर हुए दुनिया के पहले परमाणु बम हमले को बृहस्पतिवार को 75 साल पूरे हो गए, लेकिन जीवित बचे लोग आज तक उस दिन को भुला नहीं पाए हैं। इस मौके पर हमले में जीवित बचे लोगों और उनके संबंधियों ने हिरोशिमा शांति स्मारक पार्क में बृहस्पतिवार सुबह 8 बजकर 15 मिनट पर एक मिनट का मौन रखकर मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी। कोरोना वायरस के चलते इस कार्यक्रम में कम लोगों को यहां आने की अनुमति थी। अमेरिका ने आज ही के दिन 1945 में हिरोशिमा पर पहला परमाणु बम गिराया था, जिससे यह शहर तबाह हो गया था। इस हमले में 1,40,000 लोगों की मौत हो गई थी। इसके 3 दिन बाद अमेरिका ने नागासाकी शहर पर परमाणु हमला किया, जिसमें 70 हजार लोगों की जान चली गई। इसके बाद 15 अगस्त को जापान के आत्मसमर्पण करने के साथ ही द्वितीय विश्वयुद्ध समाप्त हो गया। हमले की 75वीं बरसी पर 83 साल से अधिक आयु के हो चुके जीवित बचे लोगों ने परमाणु निरस्त्रीकरण को लेकर धीमी प्रगति पर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि जापान सरकार हमले में बचे लोगों की मदद करने और उनकी बात सुनने की इच्छुक दिखाई नहीं देती। हमले में बचे अपने पिता को श्रद्धांजलि देने आए मनाबू इवासा ने कहा, ''आबे की कथनी और करनी में फर्क है।' इवासा के पिता का मार्च में 87 वर्ष की आयु में निधन हो गया था। इवासा ने कहा, ‘एक तरफ जापान अमेरिका का पक्ष लेता हुआ दिखता है तो वहीं दूसरी ओर परमाणु हथियारों पर प्रतिबंध लगाने को लेकर और अधिक प्रयास करता हुआ भी दिखाई देता है।' उन्होंने कहा, ‘यह परेशान करने वाली बात है, लेकिन हम आम लोग कुछ खास कर नहीं सकते।'

जापान के हिरोशिमा में परमाणु बम की 75वीं बरसी पर हमले में मारे गये लोगों को हिरोशिमा पीस मेमोरियल पार्क में श्रद्धांजलि दी गयी।-रायटर

केइको ओगुरा हमले के समय 8 वर्ष की थीं। अब उनकी आयु 84 साल हो चुकी है। वह चाहती हैं कि गैर-परमाणु संपन्न देशों को परमाणु हथियार निषेध संधि पर हस्ताक्षर करने के लिये जापान पर दबाव डालना चाहिये। उन्होंने कहा, ''हमले में जीवित बचे कई लोग परमाणु हथियार निषेध संधि पर हस्ताक्षर नहीं करने को लेकर प्रधानमंत्री से नाराज हैं।' हिरोशिमा के मेयर कजूमी मतसुई और अन्य लोगों ने भी संधि पर हस्ताक्षर करने के इनकार करने को लेकर जापान सरकार को पाखंडी करार दिया है।

 

 

 

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

डिजिटल पेमेंट में सट्टेबाजी पर लगे लगाम

डिजिटल पेमेंट में सट्टेबाजी पर लगे लगाम

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश