भारत की टेस्ट इतिहास में घरेलू मैदान पर सबसे अधिक रनों से जीत, न्यूजीलैंड को 372 रन से दी करारी शिकस्त, सीरीज़ 1-0 से जीती

भारत की टेस्ट इतिहास में घरेलू मैदान पर सबसे अधिक रनों से जीत, न्यूजीलैंड को 372 रन से दी करारी शिकस्त, सीरीज़ 1-0 से जीती

मुंबई, 6 दिसंबर (एजेंसी)

भारत ने जयंत यादव की शानदार गेंदबाजी से दूसरे और अंतिम टेस्ट क्रिकेट मैच के चौथे दिन सोमवार को सुबह पहले घंटे में ही न्यूजीलैंड के बाकी बचे पांच विकेट निकालकर 372 रन की रिकार्ड जीत से दो मैचों की श्रृंखला 1-0 से अपने नाम की। दिन का खेल शुरू होने के ठीक 43 मिनट बाद भारत ने 540 रन के मुश्किल लक्ष्य का पीछा कर रही न्यूजीलैंड की टीम को 56.3 ओवर में 167 रन पर आउट कर दिया। रविचंद्रन अश्विन (34 रन देकर चार विकेट) ने हेनरी निकोल्स को ऋद्धिमान साहा के हाथों कैच कराकर भारत में अपना 300वां टेस्ट विकेट लेकर न्यूजीलैंड की पारी का अंत किया। भारत की यह घरेलू धरती पर रन के लिहाज से सबसे बड़ी जीत है। इससे पहले का रिकार्ड 337 रन का था जो उसने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 2015 में दिल्ली में बनाया था।

कानपुर में अपने जज्बे का शानदार प्रदर्शन करके पहला टेस्ट मैच ड्रा कराने वाली न्यूजीलैंड की टीम यहां संघर्ष नहीं कर पायी तथा अतिरिक्त उछाल और टर्न के सामने उसके बल्लेबाजों ने आसानी से घुटने टेके। न्यूजीलैंड हालांकि इस मैच को ऐजाज पटेल के पारी में 10 विकेट के ऐतिहासिक कारनामे के लिये याद रखेगा। भारतीय कोच राहुल द्रविड़ ने मैच के बाद कहा, ‘‘विजेता के रूप में श्रृंखला का अंत करना अच्छा है। कानपुर में भी जीत के करीब पहुंच गये थे लेकिन आखिरी विकेट नहीं ले पाये। यहां हमने कड़ी मेहनत की। परिणाम भले ही एकतरफा लग रहा हो लेकिन पूरी श्रृंखला में हमने कड़ी मेहनत की।''

दिलचस्प तथ्य यह रहा कि पटेल ने न्यूजीलैंड की तरफ से दोनों पारियों में 73.5 ओवर गेंदबाजी की जबकि उनकी टीम दोनों पारियों में 84.4 ओवर तक ही बल्लेबाजी कर पायी। न्यूजीलैंड ने सुबह पांच विकेट पर 140 रन से आगे खेलना शुरू किया और तीसरे दिन शाम के सत्र में अच्छी लय में दिख रहे जयंत ने जल्द ही उसके विकेट निकालने शुरू कर दिये। इससे पहले अपना आखिरी टेस्ट मैच 2017 में खेलने वाले जयंत ने 49 रन देकर चार विकेट लिये। उन्होंने अपने सभी चारों विकेट चौथे दिन सुबह के सत्र में लिये। जयंत ने कहा, ‘‘सुबह विकेट में नमी थी जिससे मदद मिली। आप शाम के सत्र और आज सुबह में अंतर देख सकते हो। पिच से अधिक मदद मिल रही थी। ऐसे में गेंद सही क्षेत्र में पिच कराना महत्वपूर्ण था।''

इस जीत से भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका दौरे पर बढ़े हुए आत्मविश्वास के साथ जाएगी जो तीन सप्ताह के अंदर शुरू होने वाला है। जयंत ने सुबह रचिन रविंद्र को (18) को दूसरी स्लिप में चेतेश्वर पुजारा के हाथों कैच कराया और फिर फ्लाइट लेती गेंद पर काइल जैमीसन को पगबाधा आउट किया। टिम साउदी लंबा शॉट खेलने के प्रयास में बोल्ड हो गये जबकि विल सोमरविले ने जयंत को वापस आसान कैच दिया।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अन्न जैसा मन

अन्न जैसा मन

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

एकदा

एकदा

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया