बाल कविता

फौज हमारी

फौज हमारी

प्रतीकात्मक चित्र

थल सेना है फौज हमारी, जग में बड़ी शक्तिशाली।

अपना देश बचाने को नित, करती अपनी रखवाली।

सर्दी-गर्मी-बरसात भले, हो आंधी तूफान यहां।

दुश्मन से लोहा लेने को, तत्पर सीना तान यहां।

बम-बारूद लिए कन्धों पे, चले बनाकर सब टोली।

एक बोल में गाने लगते, वीरों की प्यारी बोली।

झुके नहीं कभी शत्रु से ये, कदम ताल से चलते हैं।

देख हमारी ताकत सारी, दुश्मन भी तो जलते हैं।

अजब गजब है सेना अपनी, कभी नहीं ये ठाली है।

अपना देश बचाने को नित, करती रखवाली है।

- गोविन्द भारद्वाज

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अन्न जैसा मन

अन्न जैसा मन

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

एकदा

एकदा

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

मुख्य समाचार

पंजाब पुलिस ने अकाली नेता बिक्रम मजीठिया के अमृतसर स्थित आवास पर मारा छापा, लौटी खाली हाथ

पंजाब पुलिस ने अकाली नेता बिक्रम मजीठिया के अमृतसर स्थित आवास पर मारा छापा, लौटी खाली हाथ

पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट द्वारा कल जमानत खारिज किए जाने के...