याद रखनी चाहिए सैनिकों की शहादत : कुलपति

याद रखनी चाहिए सैनिकों की शहादत : कुलपति

रोहतक में मंगलवार को मदवि में शहीदों के परिजनों को सम्मानित करते कुलपति प्रो. राजबीर सिंह एवं ग्रुप कमांडर ब्रिगेडियर रोहित नौटियाल। -हप्र

रोहतक, 30 नवंबर (हप्र)

वीर सैनिक देश का गौरव हैं। सैनिकों की शहादत युवा पीढ़ी को प्रेरणा देती है, उनमें देशभक्ति तथा समर्पण की भावना जागृत करती है। इनकी शहादत को हर भारतीय नागरिक को याद रखने की जरूरत है। यह उद्गार महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने मंगलवार को विश्वविद्यालय के राधाकृष्णन सभागार में एनसीसी ग्रुप हैडक्वार्टर रोहतक के ग्रुप कमांडर ब्रिगेडियर रोहित नौटियाल के नेतृत्व में आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत् आयोजित 1971 के युद्ध में वीरता पुरस्कार प्राप्त शहीदों के परिजनों के अभिनंदन कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि व्यक्त किए।

एनसीसी ग्रुप हैडक्वार्टर रोहतक के ग्रुप कमांडर ब्रिगेडियर रोहित नौटियाल ने कहा आज हरियाणा के 3 जांबाज योद्धा के परिवारों को सम्मान देकर हम गर्व की अनुभूति कर रहे हैं।

उन्होंने कैडेट्स का आह्वान किया कि जहां देश के हित की बात आए वहां बिना सोचे सदैव तत्पर रहते हुए अपना सर्वोच्च प्रदर्शन करना चाहिए। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के तौर पर मदवि के डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ राजकुमार, विजय सिंह (सेकेंड लेफ्टिनेंट हवा सिंह वीर चक्र के भाई), हवासिंह (नायब सूबेदार उमेद सिंह वीर चक्र के पुत्र), रेशम नायक (बलजीत सिंह सेना मेडल की पत्नी) एवं अन्य उपस्थित हुए। एनसीसी अफसर लेफ्टिनेंट सतीश भारद्वाज ने मंच संभाला। कुलपति प्रो. राजबीर सिंह तथा ब्रिगेडियर रोहित नौटियाल के करकमलों द्वारा सेकेंड लेफ्टिनेंट हवा सिंह का अवार्ड उनके भाई विजय सिंह ने, नायक सूबेदार उमेद सिंह (वीआरसी) का अवार्ड उनके बेटे हवा सिंह ने तथा नायक बलजीत सिंह (सेना मेडल) का अवार्ड उनकी पत्त्नी रेशम ने ग्रहण किया।

कार्यक्रम का शुभारंभ देश भक्ति गीत कैडेट्स तृप्ति व आंचल एनआरएस कॉलेज रोहतक द्वारा किया गया।

इस अवसर पर कमान अधिकारी कर्नल भगवान दास फर्स्ट हरियाणा एनसीसी बटालियन रोहतक, कमान अधिकारी कर्नल वीरेंद्र सामंत सेकंड हरियाणा एनसीसी बटालियन रोहतक एवं सभी एनसीसी अफसर सूबेदार मेजर राजेश कुमार, सूबेदार मेजर रामलाल ,पी आई स्टॉफ एवं सीटीओ उपस्थित रहे।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अन्न जैसा मन

अन्न जैसा मन

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

कब से नहीं बदला घर का ले-आउट

एकदा

एकदा

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

बदलते वक्त के साथ तार्किक हो नजरिया

मुख्य समाचार

कोल्हापुर : 14 बच्चों के अपहरण और 5 बच्चों की हत्या की दोषी बहनों की फांसी की सज़ा उम्रकैद में बदली

कोल्हापुर : 14 बच्चों के अपहरण और 5 बच्चों की हत्या की दोषी बहनों की फांसी की सज़ा उम्रकैद में बदली

मौत की सजा पर अमल में अत्यधिक विलंब के कारण हाईकोर्ट ने लिया...