विवाह में मात्र एक रुपये का शगुन

विवाह में मात्र एक रुपये का शगुन

रोहतक, 23 जनवरी (हप्र)

अठगामा खाप तपा बोहर ने सामाजिक उत्थान के लिए कदम उठाते हुए 11 प्रस्ताव पारित किये हैं। खाप ने तय किया है कि लड़के की बारात में कम से कम बाराती ले जायें ताकि कन्या पक्ष पर कम से कम बोझ पड़े। विवाह-शादी में एक रुपये का शगुन ही लिया जाये। कन्या पक्ष पर पीलिया व छुछक आदि का बोझ भी न डाला जाये क्योंकि कन्या की शादी के वक्त ही बहुत ज्यादा खर्चा हो जाता है। स्थानीय मैना पर्यटक केंद्र में पत्रकारों बातचीत में खाप के अध्यक्ष रणबीर नांदल ने बताया कि तमाम गांवों के सरपंचों व गणमान्यों के नाम इस बारे में चिट‍्ठी भेज दी गई है। लोकहित संस्था के प्रधान चंचल नांदल व खाप उपप्रधान प्रवीण कौशिक ने जाट शिक्षण संस्था व गौड़ ब्राह्मण संस्था के चुनाव तुरन्त करवाये जाने की मांग की।

इस दौरान खाप सचिव ऋषिपाल फौगाट, पूर्व पार्षद व बलराज बल्लू को सर्वसम्मति से अठगामा तपा बोहर का उपप्रधान नियुक्त किया गया। इस मौके पर वरिष्ठ उपप्रधान रणबीर पाकस्मा व उपप्रधान पं. चन्द्रभान, खाप प्रवक्ता सुनील फौगाट भी मौजूद थे।

इन पर भी लिया फैसला

0 तेरहवीं व सत्रहवीं में भोजन करवाने का प्रावधान भी समाप्त किया जाये। इसकी बजाय मृतक के नाम पर गौशाला, अनाथालय, महिला आश्रम आदि में दान की प्रथा शुरू की जाये।

0 खाप द्वारा प्रत्येक गांव में नशा मुक्त समाज बनाने के लिए विशेष अभियान चलाया जायेगा। नशा मुक्त समाज बनाने के लिए खाप के पदाधिकारी घर-घर जाकर युवाओं को जागरूक करेंगे। साथ ही गांवों की सीमाओं के अंदर जो शराब के ठेके हैं उन्हें बाहर निकालने के लिए सरकार व प्रशासन से मांग की जायेगी।

0 महिलाओं का सम्मान करें व लड़कियों की शिक्षा पर विशेष ध्यान दें। भ्रूण हत्या को लेकर भी लोग जागरूक हों।

0 पर्यावरण को बचाने के लिए ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने, प्लास्टिक का उपयोग बंद करने व सौर ऊर्जा का अधिक से अधिक इस्तेमाल करने का आह्वान खाप गांव-गांव जाकर करेगी।

0 ग्रामीण खेलों को बढ़ावा देने के लिए भी खाप विशेष प्रयत्न करेगी।

0 आर्गेनिक खेती की तरफ किसानों को ध्यान देना चाहिये। यूरिया के ज्यादा उपयोग से कैंसर होने का खतरा बहुत ज्यादा बढ़ गया है। इसके लिए खाप जागरूकता अभियान चलाएगी।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

रसायन मुक्त खिलौनों का उम्मीद भरा बाजार

रसायन मुक्त खिलौनों का उम्मीद भरा बाजार

जन सरोकारों की अनदेखी कब तक

जन सरोकारों की अनदेखी कब तक

एमएसपी से तिलहन में आत्मनिर्भरता

एमएसपी से तिलहन में आत्मनिर्भरता

अभिवादन से खुशियों की सौगात

अभिवादन से खुशियों की सौगात