महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय के सभी कर्मचारी हड़ताल पर

महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय के सभी कर्मचारी हड़ताल पर

रोहतक, 12 अक्तूबर (हप्र)

महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (मदवि) के गैर शिक्षक कर्मचारी मंगलवार को भी हड़ताल पर रहे। कर्मचारियों की हड़ताल का असर विश्वविद्यालय के कामकाज पर दिखाई देने लगा है। मंगलवार सुबह गैर शिक्षक कर्मचारी संघ की आम सभा की बैठक संघ प्रधान रणधीर कटारिया की अध्यक्षता में हुई। प्रधान ने आम सभा में कहा कि बड़ी विडंबना की बात है कि मदवि कर्मचारी काफी दिनों से अपनी जायज मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन प्रशासन की तरफ से अब तक कोई भी कार्रवाई नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन को चाहिए कि जिस व्यक्ति के कारण अव्यवस्था फैली हुई है, उस पर कार्रवाई करे। उन्होंने आरोप लगाया कि एक व्यक्ति के कारण छात्र परेशान हैं, कर्मचारी परेशान हैं लेकिन सरकार और प्रशासन की ओर से इस मामले को सुलझाने के कोई प्रयास नहीं हुआ है। जबकि मदवि गैर शिक्षक कर्मचारी संघ सरकार और प्रशासन को कई बार अवगत करवा चुका है। महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय के कर्मचारी बड़े ही अनुशासित तरीके से अपना विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

आम सभा में उपप्रधान राजेश गिरधर, महासचिव रविंदर लोहिया, सह सचिव रमेश रोहिल्ला, कोषाध्यक्ष विकास अहलावत, पूर्व प्रधान फूल कुमार बोहत ने भी अपनी बात रखी। बैठक में सैकड़ों कर्मचारी उपस्थित रहे।

नोटिस वापस लेने की मांग : कर्मचारी संघ प्रधान ने विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा दिए गए नोटिस की भी कड़े शब्दों में निंदा की और प्रशासन से मांग की कि अपना नोटिस वापस ले क्योंकि मदवि के कर्मचारी अपनी जिम्मेदारी को बखूबी जानते हैं। इसके साथ साथ यह भी फैसला लिया कि जब तक उनकी जायज मांगें पूरी नहीं होगी, विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

शाश्वत जीवन मूल्य हों शिक्षा के मूलाधार

शाश्वत जीवन मूल्य हों शिक्षा के मूलाधार

कानूनी चुनौती के साथ सामाजिक समस्या भी

कानूनी चुनौती के साथ सामाजिक समस्या भी

देने की कला में निहित है सुख-सुकून

देने की कला में निहित है सुख-सुकून

मुख्य समाचार

उत्तराखंड में मूसलाधार बारिश, 23 की मौत

उत्तराखंड में मूसलाधार बारिश, 23 की मौत

मौसम की मार नैनीताल का संपर्क कटा। यूपी में 4 की गयी जान

अपनी सियासी पार्टी बनाएंगे कैप्टन

अपनी सियासी पार्टी बनाएंगे कैप्टन

भाजपा के साथ सीटों के बंटवारे के लिए बातचीत को तैयार

दुर्भाग्य से यह देश का  यथार्थ : ऑक्सफैम

दुर्भाग्य से यह देश का  यथार्थ : ऑक्सफैम

भुखमरी सूचकांक  पाक, नेपाल से पीछे भारत