‘शोध वर्तमान समय की जरूरत’

‘शोध वर्तमान समय की जरूरत’

डॉ अंजना राव

रोहतक, 4 अगस्त (हप्र)

बाबा मस्तनाथ विश्वविद्यालय में इंटर्नल क्वॉलिटी सेल के तहत ‘रिसर्च मैथडाॅलोजी एंड पब्लिकेशंस एथिक्स’ पर 14 दिवसीय रिफ्रेशर कोर्स बृहस्पतिवार को संपन्न हो गया। इस प्रोग्राम को शोधार्थियों एवं फैकल्टी सदस्यों के लिए शोध मूल्यों एवं प्रकाशन विधि के नियमों के विषय में जानकारी देने के लिए आयोजित किया गया था। कार्यक्रम में विभिन्न संस्थानों के 30 से अधिक वक्ताओं ने व्याख्यान दिए, जिससे 476 प्रतिभागियों ने अपना ज्ञानवर्धन किया। इस प्रोग्राम का यूट्यूब पर लाइव प्रसारण किया गया।

बाबा मस्तनाथ विश्वविद्यालय की प्रति कुलाधिपति डॉ.अंजना राव ने कहा कि शोध वर्तमान समय की जरूरत है। हमें शोध की गुणवत्ता पर विशेष बल देना होगा। रिसर्च एंड पब्लिकेशन एथिक्स के अध्ययन से विषय वस्तु के अंतर्गत तार्किक, समीक्षात्मक अध्ययन का ज्ञान होता है। जिससे हम अपने शोधकार्य के गुणवत्ता की जांच करना सीखते हैं।

कुलपति प्रो. आरएस यादव ने कहा कि नूतन ज्ञान की कल्पना बिना शोध के नहीं की जा सकती। यदि शोध के क्षेत्र में श्रेष्ठ बनना है तो हमें अपने शोध की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देना ही होगा क्योंकि मनुष्य के ज्ञान को नई दिशा और दशा प्रदान करने में शोध की अहम भूमिका होती है।

ये रहे मौजूद :  कार्यक्रम में डीन (फैकल्टी ऑफ ह्यूमैनिटीज) डॉ. बीएम यादव, हेड ऑफ डिपार्टमेंट (एजुकेशन) डॉ. अरूणांचल, डॉ. ललित कुमार, डॉ. देवेंद्र वशिष्ठ, डॉ. प्रोमिला मलिक, डॉ. सुशीला शर्मा, डॉ.अर्चना, डॉ.रेणु , रीतू गुप्ता, आई टी सेल के वेब डेवलपर इंद्रप्रीत मौजूद थे। 

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

नाजुक वक्त में संयत हो साथ दें अभिभावक

नाजुक वक्त में संयत हो साथ दें अभिभावक

आत्मनिर्भरता संग बचत की धुन

आत्मनिर्भरता संग बचत की धुन

हमारे आंगन में उतरता अंतरिक्ष

हमारे आंगन में उतरता अंतरिक्ष

योगमय संयोग भगाए सब रोग

योगमय संयोग भगाए सब रोग