नाबालिग ने की दादी की हत्या, क्राइम पेट्रोल देखकर बनायी योजना

सबूत मिटाने के लिए लगा दी थी आग, 10 घंटों में सुलझी हत्या की गुत्थी

नाबालिग ने की दादी की हत्या, क्राइम पेट्रोल देखकर बनायी योजना

होशियारपुर, 13 अप्रैल (निस)

टीवी सीरीयल सीअाईडी व क्राइम पेट्रोल देखने के बाद योजना बना कर अपनी दादी की हत्या करने के बाद शव को खुर्द-बुर्द करने की नीयत से जलाने वाले नाबालिग आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर घटना को अंजाम देने के लिए प्रयोग किया सामान भी बरामद कर लिया है। आरोपी ने घटना को अंजाम दादी से बदला लेने के नीयत से दिया।

इस बारे में जिला पुलिस प्रमुख नवजोत सिंह माहल ने बताया कि थाना हरियाना के अधीन गांव बसी काले खां के निवासी हरजीत सिंह ने पुलिस के पास एक शिकायत दर्ज करवाई थी। उसने बताया कि उसकी मां जोगिंदर कौर (83) बीमार होने के कारण गत करीब साढ़े 3 महीने से बेड पर ही थी। उन्हें बीते सोमवार को उसके बेटे ने मोबाइल पर घर में कुछ लोगों द्वारा हमला करने की सूचना दी। हरजीत जब घर तो अपनी मां के चेहरे पर चोटों के देखा। उसके बेड पर आग लगाई गई थी। उसके बेटे युवराज सिंह के हाथ-पांव कपड़े से बंधे हुए थे जबकि सामान बिखरा हुआ था। इस दौरान युवराज ने उन्हे बताया कि 4 अज्ञात लोग उनके घर में आए थे। वे धमकाने लगे कि अपने पिता को कहे कि उन पर किए केस वापस ले नहीं तो पूरे परिवार की हत्या कर दी जाएगी। पुलिस टीम ने वैज्ञानिक ढंग से घटना की जांच करने के बाद घर में ही उपस्थित युवराज सिंह को काबू किया। पुलिस ने उससे पूछताछ की तो उसने बताया कि उसकी दादी अकसर उसकी मां को बुरा-भला बोलती थी। जिसके चलते उसने दादी से बदला लेने के लिए लोहे की रॉड से उस पर हमला कर दिया और सबूतों को समाप्त करने के लिए उसके शव पर मिट्टी का तेल छिड़क कर आग लगा दी।

जिला पुलिस प्रमुख ने बताया कि पुछताछ के दौरान आरोपी ने बताया उसने योजना टीवी सीरीयल सीआईडी और क्राइम पेट्रोल को देखने के बाद बनायी। पुलिस ने आरोपी की निशान देही पर पेट्रोल बोतल, माचिस तथा लोहे रॉड बरामद कर ली है। एसएसपी ने बताया कि पुलिस ने उक्त घटना की शिकायत मिलने के करीब 10 घंटों के बाद हल कर दिया।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

संतोष मन को ही मिलता है सच्चा सुख

संतोष मन को ही मिलता है सच्चा सुख

इस जय-पराजय के सवाल और सबक

इस जय-पराजय के सवाल और सबक

आखिर मजबूर क्यों हो गये मजदूर

आखिर मजबूर क्यों हो गये मजदूर

जीवन में अच्छाई की तलाश का नजरिया

जीवन में अच्छाई की तलाश का नजरिया

नुकसान के बाद भरपाई की असफल कोशिश

नुकसान के बाद भरपाई की असफल कोशिश

अनाज के हर दाने को सहेजना जरूरी

अनाज के हर दाने को सहेजना जरूरी