पंजाब में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या बढ़कर 62 हुई

पंजाब में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या बढ़कर 62 हुई

चंडीगढ़, 1 अगस्त (एजेंसी)

पंजाब में जहरीली शराब पीने से मरने वाले लोगों की संख्या बढ़ कर 62 हो गई है। शनिवार को तरनतारन जिले में 23 और लोग की मौत हो जाने से मृतकों की संख्या बढ़ी है। अधिकारियों ने बताया कि शुक्रवार रात तक तरन तारन जिले से 19 लोग के मरने की सूचना थी। डीसी कुलवंत सिंह ने शनिवार को बताया कि तरनतारन में मृतकों की संख्या 42 हो गई है। उन्होंने बताया कि सबसे ज्यादा मौतें जिले के सदर और शहरी इलाकों में हुई हैं। इस घटना के तहत तरनतारन के अलावा बुधवार रात से अभी तक अमृतसर में 11 और बटाला के गुरदासपुर में 9 लोगों मौत होने की सूचना है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कई पीड़ितों के परिजन बयान दर्ज कराने के लिए सामने नहीं आ रहे हैं, लेकिन पुलिस उन्हें सहयोग करने के लिए प्रेरित कर रही है। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया, ‘ज्यादातर परिवार सामने नहीं आ रहे हैं और वे कार्रवाई नहीं करना चाहते हैं। कुछ तो पोस्टमॉर्टम भी नहीं करने दे रहे हैं।' इसबीच गुरदासपुर के उपायुक्त मोहम्मद इश्फाक ने कहा कि कुछ परिवारों ने यह मानने से भी इनकार कर दिया है कि उनके परिवार के सदस्य की मौत जहरीली शराब पीने से हुई है। पुलिस ने अभी तक इस मामले में 10 लोग को गिरफ्तार किया है।

 

 

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

संसदीय लोकतंत्र की गरिमा का प्रश्न

संसदीय लोकतंत्र की गरिमा का प्रश्न

मानवता की सेवा और सत्कर्मों का हिसाब

मानवता की सेवा और सत्कर्मों का हिसाब

मुख्य समाचार

सदियों का इंतजार समाप्त, आज पूरा देश राममय : मोदी

सदियों का इंतजार समाप्त, आज पूरा देश राममय : मोदी

कहा-राम मंदिर राष्ट्रीय एकता और राष्ट्रीय भावना का प्रतीक

सुशांत मामले से आदित्य ठाकरे के तार जोड़ने की साजिश कर रहे लोगों को भारी कीमत चुकानी होगी : शिवसेना

सुशांत मामले से आदित्य ठाकरे के तार जोड़ने की साजिश कर रहे लोगों को भारी कीमत चुकानी होगी : शिवसेना

कहा-विपक्ष को अब भी हजम नहीं हो हो रहा कि राज्य में शिवसेना ...

सुशांत केस में केंद्र ने सुप्रीमकोर्ट से कहा-बिहार सरकार की सीबीआई जांच की सिफारिश स्वीकार की

सुशांत केस में केंद्र ने सुप्रीमकोर्ट से कहा-बिहार सरकार की सीबीआई जांच की सिफारिश स्वीकार की

जांच करना पटना पुलिस का क्षेत्राधिकार नहीं, इसे राजनीतिक रंग...