यूपी के सुरक्षा और सुशासन मॉडल की दुनियाभर में हो रही सराहना : योगी आदित्‍यनाथ

अपनी सरकार के साढ़े चार साल पूरे होने पर गिनाईं उपलब्धियां

यूपी के सुरक्षा और सुशासन मॉडल की दुनियाभर में हो रही सराहना : योगी आदित्‍यनाथ

लखनऊ, 19 सितंबर (एजेंसी)

उत्तर प्रदेश (यूपी) के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने रविवार को अपनी सरकार के साढ़े चार वर्ष पूरे होने पर उपलब्धियों की चर्चा करते हुए दावा किया कि प्रदेश सरकार के सुरक्षा और सुशासन मॉडल को दुनिया भर में सराहा जा रहा है। रविवार को लोक भवन (मुख्यमंत्री कार्यालय) के सभागार में आयोजित पत्रकार वार्ता में योगी ने विपक्षी दलों को घेरते हुए कहा कि प्रदेश सरकार ने सुरक्षा और सुशासन का जो मॉडल दिया है उसे देश और दुनिया देख रही है और कोरोना प्रबंधन के लिए सरकार के प्रयासों को दुनिया भर में सराहा जा रहा है। योगी ने एक सवाल के जवाब में कहा कि उत्तर प्रदेश में अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) 350 सीटें जीतकर भारी बहुमत से फ‍िर सरकार बनाएगी। अपनी सरकार के साढ़े चार वर्षों की उपलब्धियों को गिनाते हुए योगी ने कहा कि 24 करोड़ की आबादी वाले उत्तर प्रदेश ने सुरक्षा और सुशासन के क्षेत्र में अपनी उपलब्धियों से देश और दुनिया की धारणा को बदला है। पिछली समाजवादी पार्टी की सरकार को निशाना बनाते हुए उन्होंने कहा कि 'यह वही उत्‍तर प्रदेश है, जहां पेशेवर माफिया सत्ता के संरक्षण में अराजकता और भय फैलाते थे। दंगा प्रदेश की प्रवृत्ति बन गई थी और 2012 से 2017 के बीच बीच हर तीसरे दिन औसतन एक बड़ा दंगा होता था, लेकिन साढ़े चार वर्षों में राज्य में एक भी दंगा नहीं हुआ।'

योगी ने कहा, 'उत्तर प्रदेश ने कारोबार में सुगमता में लंबी छलांग लगाई है और जो उत्तर प्रदेश 2016 में 14वें स्थान पर था, वहीं प्रदेश आज दूसरे स्थान पर है।' साथ ही कहा कि 2016 में उत्तर प्रदेश देश की छठी अर्थव्यवस्था था लेकिन आज यह देश की दूसरी अर्थव्यवस्था बन गया है। मुख्यमंत्री ने आस्‍था और धार्मिक स्थलों के विकास, राज्‍य में निवेश, कानून-व्यवस्था और सुरक्षा जैसे मुद्दों पर भी अपनी उपलब्धियां गिनाईं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अलोपी देवी, ललिता देवी, कल्याणी देवी

अलोपी देवी, ललिता देवी, कल्याणी देवी

निष्ठा और समर्पण का धार्मिक सामंजस्य

निष्ठा और समर्पण का धार्मिक सामंजस्य

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

मुख्य समाचार