यूपी : साइबर कैफ़े में फोटो कॉपी कराने गयीं 2 छात्राओं को बंधक बनाकर सामूहिक दुष्कर्म, वीडियो बनाकर किया ब्लैकमेल!

लड़कियों ने घर से पैसे चुराकर की 10 हज़ार की पेमेंट

यूपी : साइबर कैफ़े में फोटो कॉपी कराने गयीं 2 छात्राओं को बंधक बनाकर सामूहिक दुष्कर्म, वीडियो बनाकर किया ब्लैकमेल!

प्रतीकात्मक चित्र

कन्नौज (उप्र), 27 सितंबर (एजेंसी)

जिले के सरायमीरा तिर्वा क्रॉसिंग स्थित एक साइबर कैफ़े में फोटोकॉपी कराने गयीं 2 छात्राओं से 4 युवकों ने बंधक बनाकर कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म किया तथा आरोपियों में से एक ने दुष्कर्म के समय वीडियो बनाया और उसे प्रसारित करने की धमकी देकर 10 हजार रुपये भी वसूल कर लिए। मामले में पुलिस ने एक महिला सहित छह लोगों के खिलाफ सदर कोतवाली में प्राथमिकी दर्ज की है।

पुलिस सूत्रों ने सोमवार को बताया कि 17 वर्षीय एक छात्रा ने नीलेश, कमल, रामदास, नरेंद्र, नीलेश की पत्नी व नरेंद्र के एक रिश्तेदार के खिलाफ तहरीर दी है। उन्होंने बताया कि तहरीर में छात्रा ने कहा है कि गत 13 सितंबर को दोपहर करीब 12 बजे जब वह अपनी एक सहेली के साथ नीलमणि कैफ़े में फोटोकॉपी कराने गयी थी तो वहां मौजूद नीलेश, कमल, रामदास और नरेंद्र ने उन दोनों (लड़कियों) को कैफ़े के एक कमरे में बंधक बनाकर दुष्कर्म किया। पुलिस ने दर्ज मामले के आधार पर बताया कि इस दौरान नरेंद्र ने घटना का वीडियो बनाकर अपने जीजा को सौंप दिया और उसके जीजा ने वीडियो वायरल करने की धमकी देकर दस हजार रुपये वसूल कर लिए। पुलिस के अनुसार, छात्राओं ने दस हजार रुपये अपने घर से चुराकर दिए। दोनों छात्राओं को पुलिस ने मेडिकल परीक्षण के लिए जिला अस्पताल भेजा है।

पुलिस अधीक्षक प्रशांत वर्मा ने बताया कि एक महिला सहित छह लोगों के खिलाफ पीड़िता की तहरीर पर मामला दर्ज किया गया है और आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार प्रयास कर रही है जिन्हें शीघ्र गिरफ्तार कर लिया जाएगा। प्रारंभिक जांच में पुलिस को नीलमणि कैफ़े के अंदर देह व्यापार होने के संकेत मिले हैं। एक पीड़िता ने कहा है कि दुष्कर्म की घटना के बाद नीलेश की पत्नी उसे फ़ोन पर देह व्यापार करने की बात कह रही थी और इसके लिए दबाव भी बनाया जा रहा था। आसपास के लोगों ने कैफ़े में युवतियों के आने-जाने की बात भी स्वीकार की है। यह खुलासा उस समय हुआ जब छात्राओं द्वारा घर से रुपये चुराए जाने के बाद परिजनों ने इस बारे में पूछताछ की।

 

 

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

शाश्वत जीवन मूल्य हों शिक्षा के मूलाधार

शाश्वत जीवन मूल्य हों शिक्षा के मूलाधार

कानूनी चुनौती के साथ सामाजिक समस्या भी

कानूनी चुनौती के साथ सामाजिक समस्या भी

देने की कला में निहित है सुख-सुकून

देने की कला में निहित है सुख-सुकून

मुख्य समाचार

2 और का सरेंडर, एक गिरफ्तार

2 और का सरेंडर, एक गिरफ्तार

कुंडली बॉर्डर हत्याकांड / आरोपी िनहंग 7 िदन के िरमांड पर

द्रविड़ भारतीय टीम का कोच बनने को तैयार

द्रविड़ भारतीय टीम का कोच बनने को तैयार

गांगुली और शाह ने मनाया, टी20 विश्व कप के बाद नियुक्ति की तै...

मैं पूर्णकालिक अध्यक्ष

मैं पूर्णकालिक अध्यक्ष

सीडब्ल्यूसी बैठक : ‘जी 23’ को सोनिया की नसीहत / मीडिया के जर...