26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड की मिली इजाजत

26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड की मिली इजाजत

नयी दिल्ली में शनिवार को मीडिया से बातचीत करते किसान नेता। -एजेंसी

पुरुषोत्तम शर्मा/ हप्र

सोनीपत, 23 जनवरी

दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश पुलिस के आला अधिकारियों के साथ शनिवार को पांचवें दौर की बातचीत के बाद किसान नेताओं ने दावा किया कि उन्हें 26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर परेड निकालने की अनुमति मिल गयी है। किसान नेताओं ने इसे आंदोलन के लिए बड़ी जीत बताया। केंद्र के तीनों नये कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर आंदाेलन चला रहे किसान संयुक्त मोर्चा ने कहा कि पांचों बार्डरों- सिंघु, टिकरी, गाजीपुर, शाहजहांपुर और पलवल से अलग-अलग रूट पर तिरंगा ट्रैक्टर परेड निकाली जाएगी। रूट और अन्य तैयारियों को लेकर शनिवार रात तक किसान नेताओं की बैठक जारी रही। उन्होंने कहा कि पूरा रूट प्लान रविवार सुबह साझा किया जाएगा।

किसानों ने दावा किया कि ऐसी परेड न तो किसी ने निकाली होगी और न देखी होगी। उन्होंने कहा कि दिल्ली, हरियाणा और यूपी पुलिस ने हर स्तर पर मदद का भरोसा दिया है। समय और स्थान को लेकर किसान नेताओं ने कहा कि जब तक प्रत्येक ट्रैक्टर परेड रूट से होकर वापस अपने धरने तक नहीं लौट आता, तब तक परेड चलेगी। यह 24 से 72 घंटे तक भी हो सकती है।

किसान नेताओं ने कहा कि हजारों किसान हिस्सा लेंगे, लिहाजा एक रूट पर पूरी परेड निकाल पाना संभव नहीं है। ऐसे में जत्थेबंदियों ने तय किया है कि पांचों रूटों के लिए अलग-अलग प्लान होगा। किसान नेता योगेंद्र यादव, डा. दर्शनपाल, गुरनाम सिंह चढ़ूनी आदि ने बताया कि सिंघु बार्डर के लिए रूट अलग होगा, टिकरी के लिए अलग, गाजीपुर, शाहजहांपुर और पलवल के धरने से अलग रूट तय किया गया है।

इधर, नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को ‘आजाद हिंद किसान दिवस’ के रूप में मनाया गया। वहीं, ओडिशा से चली ‘किसान यात्रा’ गाजीपुर पहुंच गयी है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

रसायन मुक्त खिलौनों का उम्मीद भरा बाजार

रसायन मुक्त खिलौनों का उम्मीद भरा बाजार

जन सरोकारों की अनदेखी कब तक

जन सरोकारों की अनदेखी कब तक

एमएसपी से तिलहन में आत्मनिर्भरता

एमएसपी से तिलहन में आत्मनिर्भरता

अभिवादन से खुशियों की सौगात

अभिवादन से खुशियों की सौगात