आतंकी मॉड्यूल : महाराष्ट्र एटीएस ने एक और शख्स को किया गिरफ्तार

पहचान नहीं की उजागर, भूमिका की होगी जांच

आतंकी मॉड्यूल : महाराष्ट्र एटीएस ने एक और शख्स को किया गिरफ्तार

प्रतीकात्मक चित्र।

मुंबई, 19 सितंबर (एजेंसी)

महाराष्ट्र के आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) ने हाल में दिल्ली पुलिस द्वारा पाकिस्तान समर्थित आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ करने के सिलसिले में एक और व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। एटीएस के एक अधिकारी ने रविवार को बताया कि एटीएस ने अभी इस व्यक्ति की पहचान उजागर नहीं की है। उसे शनिवार रात को ठाणे जिले के मुंब्रा शहर से पकड़ा गया। उसके बारे में जाकिर हुसैन शेख (45) से सूचना मिली थी। एटीएस ने शेख को शुक्रवार को मुंबई के जोगेश्वरी से गिरफ्तार किया था। उन्होंने बताया कि शेख से मिली सूचना के आधार पर राज्य की एटीएस ने कई जगह छापे मारे और मुंब्रा से इस शख्स को पकड़ लिया। वे आतंकी मॉड्यूल में उसकी भूमिका की जांच कर रहे हैं। दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ ने पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से प्रशिक्षण ले चुके दो आतंकवादियों समेत छह लोगों की गिरफ्तारी के साथ ही मंगलवार को आतंकी मॉड्यूल का पर्दाफाश किया था। अधिकारियों ने बताया था कि आतंकवादियों ने देशभर में कई धमाके करने की कथित तौर पर साजिश रची थी।

सूत्रों ने बताया था कि छह संदिग्ध आतंकवादियों में से एक मोहम्मद शेख मुंबई के धारावी का रहना वाला है। गिरफ्तार संदिग्ध आतंकवादियों से पूछताछ के दौरान जाकिर का नाम सामने आया था। मुंबई में जाकिर शेख के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) कानून के तहत एक अलग प्राथमिकी दर्ज की गयी है। एटीएस ने शनिवार को मुंबई की एक अदालत को बताया कि जाकिर शेख को महाराष्ट्र तथा अन्य स्थानों पर विस्फोटकों का इस्तेमाल करके आतंकवादी हमले करने की आपराधिक साजिश के संबंध में गिरफ्तार किया गया। उसने कहा था कि शेख ‘पड़ोसी देश के किसी एंटनी' नाम के व्यक्ति के संपर्क में था और एटीएस यह पता लगाना चाहती है कि यह व्यक्ति कौन है तथा षड्यंत्र में उसकी क्या भूमिका है। अदालत ने शनिवार को जाकिर शेख को 20 सितंबर तक एटीएस की हिरासत में भेज दिया था।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अलोपी देवी, ललिता देवी, कल्याणी देवी

अलोपी देवी, ललिता देवी, कल्याणी देवी

निष्ठा और समर्पण का धार्मिक सामंजस्य

निष्ठा और समर्पण का धार्मिक सामंजस्य

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

‘राइट टू रिकॉल’ की प्रासंगिकता का प्रश्न

मुख्य समाचार