राजस्थान में सुलह के संकेत

राहुल, प्रियंका से मिले बागी पायलट, पार्टी महासचिव बनाने के फार्मूले पर चर्चा

राजस्थान में सुलह के संकेत

कांग्रेस नेता राहुल गांधी और सचिन पायलट का फाइल फाेटो।

हरीश लखेड़ा/ ट्रिन्यू
नयी दिल्ली, 10 अगस्त

कांग्रेस के बागी नेता सचिन पायलट की यहां सोमवार को राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा से मुलाकात के साथ ही राजस्थान में पार्टी का सियासी संकट दूर होने के आसार दिख रहे हैं। लंबे समय से दिल्ली में डेरा डाले पायलट ने राहुल और प्रियंका से मुलाकात कर अपनी बात रखी। इसके बाद राहुल और प्रियंका यहां सोनिया गांधी से मिले।

पार्टी महासचिव केसी वेणुगोपाल ने बताया कि सोिनया गांधी ने 3 सदस्यीय समिति गठित करने का फैसला किया है। यह समिति नाराज विधायकों की शिकायतें सुनेगी। वेणुगोपाल ने कहा कि पायलट ने कांग्रेस के लिए काम करते रहने का वादा किया है।

कांग्रेस हाईकमान की कोशिश है कि 14 अगस्त से पहले राजस्थान का संकट दूर हो जाए। उस दिन प्रदेश विधानसभा का सत्र है और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बहुमत साबित करने का प्रयास करेंगे।

कांग्रेस सूत्रों के अनुसार फार्मूला यह तलाशा जा रहा है कि पायलट को राजस्थान से दिल्ली लाकर पार्टी का महासचिव बना दिया जाए। इससे कांग्रेस में उनकी स्थिति सम्मानजनक हो जाएगी और राजस्थान में मुख्यमंत्री गहलोत को एकछत्र तौर पर काम करने की आजादी मिल जाएगी। पायलट लगातार प्रियंका के संपर्क में थे। इसके अलावा उन्होंने हाल ही में कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल और कोषाध्यक्ष अहमद पटेल से भी मुलाकात की थी। यदि फार्मूले पर बात बन गई तो शीघ्र ही पायलट की सोनिया गांधी से मुलाकात कराई जाएगी।

कांग्रेस में एक बड़ा वर्ग कोशिश में लगा था कि पायलट को भाजपा के पाले में जाने से हर हालत में रोका जाए। वहीं, राजस्थान में भाजपा में ही टूट की आशंका देख पायलट को भी रणनीति में बदलाव करना पड़ा। उधर, सीएम अशोक गहलोत के भी सुर अब बदल चुके हैं। वे कह चुके हैं कि हाईकमान जो भी फैसला करेगा, उसका पालन होगा। हालांकि, उनके समर्थक विधायक पायलट के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर चुके हैं।

‘पद नहीं, सम्मान की लड़ाई’

राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री और कांग्रेस के बागी नेता सचिन पायलट ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी, वरिष्ठ नेता अहमद पटेल और केसी वेणुगोपाल से सोमवार रात को मुलाकात के बाद मीडिया से भी अपने मन की बात की। उन्होंने कहा कि उन्हें पद का कोई लालच नहीं है, वे सम्मान की लड़ाई लड़ रहे हैं। जिन लोगों ने प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, उन्हें सरकार में भागीदारी मिलनी चाहिए। पार्टी सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस का वार रूम कहे जाने वाले ‘15 गुरुद्वारा रकाबगंज रोड’ पर हुई बैठक में कांग्रेस ने पायलट को आश्वासन दिया है कि उनकी सारी शिकायतों पर गौर किया जाएगा और सम्मानजनक तरीके से उनकी घर वापसी कराई जाएगी। पायलट की शिकायतें सुनने के लिए गठित कमेटी में प्रियंका गांधी वाड्रा, वरिष्ठ नेता अहमद पटेल और केसी वेणुगोपाल को शामिल किया गया है।

बसपा विधायकों के विलय मामले में सुनवाई आज

नयी दिल्ली (एजेंसी) : सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कहा कि पिछले साल राजस्थान में बसपा के 6 विधायकों के कांग्रेस में विलय होने से संबंधित मामले में दायर याचिका पर मंगलवार को सुनवाई होगी। जस्टिस अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ भाजपा विधायक की याचिका पर 6 विधायकों द्वारा अलग से दायर याचिका के साथ कल सुनवाई की जाएगी। भाजपा विधायक मदन दिलावर ने राज्य में सत्तारूढ़ दल कांग्रेस में शामिल हुए बसपा के 6 विधायकों के कांग्रेस विधायक के रूप में काम करने पर रोक लगाने से इनकार करने के हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती दी है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

डिजिटल पेमेंट में सट्टेबाजी पर लगे लगाम

डिजिटल पेमेंट में सट्टेबाजी पर लगे लगाम

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

अपने न बिछुड़ें, तीस साल में खोदी नहर

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

बलिदानों के स्वर्णिम इतिहास का साक्षी हरियाणा

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश

सुशांत की ‘टेलेंट मैनेजर’ जया साहा एनसीबी-एसआईटी के सामने हुईं पेश