महाराष्ट्र में ‘जाति पंचायत’ का शर्मनाक फरमान...तलाक के बाद दूसरी शादी करने पर महिला को थूक चाटने की सजा!

महिला ने हिम्मत दिखाते हुए पंचायती फरमानों के खिलाफ पुलिस में की शिकायत

महाराष्ट्र में ‘जाति पंचायत’ का शर्मनाक फरमान...तलाक के बाद दूसरी शादी करने पर महिला को थूक चाटने की सजा!

प्रतीकात्मक चित्र

मुंबई, 14 मई (एजेंसी)

महाराष्ट्र के अकोला जिले में तलाक के बाद दूसरी शादी करने वाली 35 वर्षीय एक महिला को उसके समुदाय की एक 'जाति पंचायत' ने सजा के तौर पर थूक चाटने का आदेश दिया। इतना ही नहीं पंचायत ने महिला पर एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। महिला ने हिम्मत दिखाते हुए इन फरमानों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी है। एक अधिकारी ने बताया कि यह घटना पिछले महीने की है। जलगांव में रहने वाली महिला की शिकायत पर मामले की जांच अकोला के पिंजर पुलिस थाने को दी गई, जहां यह घटना हुई थी। शिकायत के अनुसार 9 अप्रैल को अकोला के वडगांव में पीड़िता के दूसरी शादी पर फैसला लेने के मामले में जाति पंचायत बुलाई गई थी। पीड़िता ‘नाथ जोगी' समुदाय से है और उसके समुदाय की जाति पंचायत दूसरी शादी स्वीकार नहीं करती। 2015 में तलाक के बाद पीड़िता ने 2019 में दूसरी शादी की थी।

पंचायत ने महिला की दूसरी शादी पर चर्चा करके उसकी बहन तथा अन्य रिश्तेदारों को बुलाकर ‘फैसला' सुनाया। इस दौरान पीड़िता वहां मौजूद नहीं थी। फैसले के अनुसार, जाति पंचायत के सदस्यों ने केले के एक पत्ते पर थूकना था और पीड़िता को सजा के तौर पर उसे चाटना था। इसके अलावा पंचायत ने पीड़िता को एक लाख रुपये देने को भी कहा। पंचायत का फरमान था कि इन शर्तों को पूरा करने के बाद पीड़िता समुदाय में ‘लौट' सकती है। यह फैसला जाति पंचायत ने पीड़िता के रिश्तेदारों को सुनाया था।

 

 

 

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

पाक सेना के तीर से अधीर हामिद मीर

पाक सेना के तीर से अधीर हामिद मीर

नीति-निर्धारण के केंद्र में लाएं गांव

नीति-निर्धारण के केंद्र में लाएं गांव

असहमति लोकतांत्रिक व्यवस्था का हिस्सा

असहमति लोकतांत्रिक व्यवस्था का हिस्सा

बदलोगे नज़रिया तो बदल जाएगा नज़ारा

बदलोगे नज़रिया तो बदल जाएगा नज़ारा

हरियाणा के सामाजिक पुनर्जागरण के अग्रदूत

हरियाणा के सामाजिक पुनर्जागरण के अग्रदूत

मुख्य समाचार

सुप्रीमकोर्ट ने सीबीएसई और आईसीएसई की 12वीं का रिजल्ट तैयार करने के फार्मूले पर लगायी मुहर

सुप्रीमकोर्ट ने सीबीएसई और आईसीएसई की 12वीं का रिजल्ट तैयार करने के फार्मूले पर लगायी मुहर

कहा-यदि विद्यार्थी परीक्षा देने के इच्छुक हैं तो दे सकते हैं