सोशल मीडिया में ‘बाबा का ढाबा’ चला रहे बुजुर्ग दंपति का दुख देखकर पसीजे दिल!

सोशल मीडिया में ‘बाबा का ढाबा’ चला रहे बुजुर्ग दंपति का दुख देखकर पसीजे दिल!

ट्रिब्यून वेब डेस्क/एजेंसियां

चंडीगढ़/नयी दिल्ली, 8 अक्तूबर

इस बुजुर्ग दंपति को घर का खाना बनाकर बेचते हुए 30 साल हो चुके हैं। हर दिन के बाद इतना कमा लेते थे कि अगले दिन का खाना बन सके। लेकिन कोरोनो वायरस ने उनके जीवन में सब कुछ बदल दिया। जो दंपति कभी खुश और शांत था, आज अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा है। दक्षिणी दिल्ली के मालवीय नगर में, जहाँ वे 'बाबा का ढाबा' नाम से एक छोटा ढाबा चलाते हैं, उनके संघर्ष की कहानी वायरल हुई। इस वीडियो में लोगों ने दंपति को रोते हुए देखा। आम आदमी पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती ने इस दंपति से मुलाकात की। इसके बाद कई हस्तियों और बड़ी कंपनियों के लोग भी उनके ढाबे में खाने का स्वाद चखने पहुंचे। इस सिलसिले की शुरुआत रात 10 बजे के आसपास एक ट्वीट से हुई।

अभिनेत्री सोनम कपूर से लेकर स्टार क्रिकेटर रविचंद्रन अश्विन ने भी किया ट्वीट

इसके बाद बॉलीवुड अभिनेत्री सोनम कपूर से लेकर स्टार क्रिकेटर रविचंद्रन अश्विन ने भी ‘बाबा का ढाबा’ के लिए ट्वीट किया है। असल में सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो में दिख रहा है कि एक बुजुर्ग व्यक्ति अपने ढाबे में ग्राहक न होने की वजह से परेशान था और रो रहा है। वीडियो में एक शख्स बाबा के ढाबे में बनी पनीर की सब्जी की तारीफ करते हुए, लोगों से अपील कर रहा है कि बुजुर्ग की मदद की जाए। इतनी उम्र में भी ये अपना ढाबा चला रहे हैं लेकिन ग्राहक न होने के कारण पूरी तरह से टूट चुके हैं। सोशल मीडिया में वीडियो वायरल होते ही लोग मदद के लिए आगे आए। कई लोगों ने सोशल मीडिया पर बुजुर्ग व्यक्ति की बैंक डिटेल भी मांगी ताकि वो कुछ मदद कर सके।

‘दो बेटे और एक बेटी हैं, लेकिन कोई भी मदद नहीं करता’

गौरव वासन नाम के एक यूट्यूबर की बदौलत ‘बाबा का ढाबा’ वाले बुजुर्ग जोड़े की दिक्कत सामने आ सकी। पिछले कई बरसों से कांता प्रसाद और बादामी देवी मालवीय नगर में अपनी छोटी-सी दुकान लगा रहे थे। दोनों की उम्र 80 से ज्यादा हो चुकी है। कांता प्रसाद बताते हैं कि उनके दो बेटे और एक बेटी हैं, लेकिन कोई भी उनकी मदद नहीं करता। सारा काम वो खुद अपनी पत्नी के साथ मिलकर करते हैं। सुबह 6-7 बजे दुकान लगाने पहुंच जाते हैं। साढ़े 9 बजे तक खाना बनकर तैयार हो जाता है। लॉकडाउन के पहले तो फिर भी लोग आते थे, लेकिन लॉकडाउन के बाद कोई नहीं आता। इस वीडियो में कांता अपनी दिक्कत बताते-बताते कांता प्रसाद रोने भी लगे। इस वीडियो के वायरल होते ही उनके ढाबे पर लोगों का तांता लग गया।

 

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

रसायन मुक्त खिलौनों का उम्मीद भरा बाजार

रसायन मुक्त खिलौनों का उम्मीद भरा बाजार

जन सरोकारों की अनदेखी कब तक

जन सरोकारों की अनदेखी कब तक

एमएसपी से तिलहन में आत्मनिर्भरता

एमएसपी से तिलहन में आत्मनिर्भरता

अभिवादन से खुशियों की सौगात

अभिवादन से खुशियों की सौगात

मुख्य समाचार

300 किसान दे चुकी आहुति, कब तक मूकदर्शक बने रहेंगे : दीपेंद्र

300 किसान दे चुकी आहुति, कब तक मूकदर्शक बने रहेंगे : दीपेंद्र

कांग्रेस सांसद ने राज्यसभा में उठाई मांग, किसानों के नाम शोक...

पेट्रोल-डीजल दामों में बढ़ोतरी पर कांग्रेस का हल्ला बोल, ट्रैक्टर पर विधानसभा पहुंचे हुड्डा!

पेट्रोल-डीजल दामों में बढ़ोतरी पर कांग्रेस का हल्ला बोल, ट्रैक्टर पर विधानसभा पहुंचे हुड्डा!

वैट की दर कम करके प्रदेश के लोगों को राहत दे गठबंधन सरकार : ...