सुप्रीमकोर्ट ने कॉलेजियम के अनुशंसित नामों को मंजूरी देने में केंद्र की देरी पर जतायी नाराजगी, कहा-नियुक्ति प्रक्रिया की समय सीमा का पालन करना होगा : The Dainik Tribune

सुप्रीमकोर्ट ने कॉलेजियम के अनुशंसित नामों को मंजूरी देने में केंद्र की देरी पर जतायी नाराजगी, कहा-नियुक्ति प्रक्रिया की समय सीमा का पालन करना होगा

सुप्रीमकोर्ट ने कॉलेजियम के अनुशंसित नामों को मंजूरी देने में केंद्र की देरी पर जतायी नाराजगी, कहा-नियुक्ति प्रक्रिया की समय सीमा का पालन करना होगा

प्रतीकात्मक चित्र

नयी दिल्ली, 28 नवंबर (एजेंसी)

सुप्रीमकोर्ट ने शीर्ष अदालत में न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए कॉलेजियम की ओर से अनुशंसित नामों को मंजूरी देने में केंद्र की ओर से देरी पर सोमवार को नाराजगी जताते हुए कहा कि यह नियुक्ति के तरीके को ‘‘प्रभावी रूप से विफल'' करता है। जस्टिस एस के कौल और जस्टिस एएस ओका की पीठ ने कहा कि शीर्ष अदालत की तीन न्यायाधीशों की पीठ ने नियुक्ति प्रक्रिया पूरी करने के लिए समय सीमा निर्धारित की थी। पीठ ने कहा कि समय सीमा का पालन करना होगा। जस्टिस कौल ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि सरकार इस तथ्य से नाखुश है कि राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग (एनजेएसी) अधिनियम को मंजूरी नहीं मिली, लेकिन यह देश के कानून का पालन नहीं करने की वजह नहीं हो सकती है। शीर्ष अदालत ने 2015 के अपने फैसले में एनजेएसी अधिनियम और संविधान (99वां संशोधन) अधिनियम, 2014 को रद्द कर दिया था, जिससे शीर्ष अदालत में न्यायाधीशों की नियुक्ति करने वाले मौजूदा न्यायाधीशों की कॉलेजियम प्रणाली बहाल हो गई थी। पीठ ने कहा, ‘तंत्र कैसे काम करता है?'' पीठ ने कहा, ‘हम अपना रोष पहले ही व्यक्त कर चुके हैं।'' न्यायमूर्ति कौल ने कहा, ‘‘यह मुझे प्रतीत होता है, मैं कहना चाहूंगा कि सरकार नाखुश है कि एनजेएसी को मंजूरी नहीं मिली।'

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

ओटीटी पर सेनानियों की कहानियां भी

ओटीटी पर सेनानियों की कहानियां भी

रुपहले पर्दे पर तनीषा की दस्तक

रुपहले पर्दे पर तनीषा की दस्तक

पंजाबी फिल्मों ने दी हुनर को रवानगी

पंजाबी फिल्मों ने दी हुनर को रवानगी

आस्था व प्रकृति के वैभव का पर्व

आस्था व प्रकृति के वैभव का पर्व

मुख्य समाचार