नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति राष्ट्र निर्माण के महायज्ञ के बड़े तत्वों में से एक

शिक्षा नीति को मंत्रिमंडल द्वारा मंजूरी देने का एक साल पूरा

नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति राष्ट्र निर्माण के महायज्ञ के बड़े तत्वों में से एक

नयी दिल्ली, 29 जुलाई (एजेंसी)

राष्ट्रीय शिक्षा नीति को केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा मंजूरी दिए जाने के एक साल पूरे होने के अवसर पर आयोजित एक समारोह में प्रधानमंत्री ने नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को कहा कि भारत की नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति राष्ट्र निर्माण के ‘महायज्ञ’ में बड़े तत्वों में से एक है और यह युवाओं को विश्वास दिलाती है कि देश अब पूरी तरह से उनके हौसलों के साथ है। इस अवसर पर उन्होंने ‘एकेडमिक बैंक ऑफ क्रेडिट', क्षेत्रीय भाषाओं में प्रथम वर्ष के इंजीनियरिंग कार्यक्रम और उच्च शिक्षा के अंतर्राष्ट्रीयकरण के लिए दिशा-निर्देश सहित शिक्षा क्षेत्र से जुड़े कई कार्यक्रमों की शुरुआत भी की। वीडियो कांफ्रेंस से आयोजित इस कार्यक्रम में शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, कई मुख्यमंत्री, राज्यपाल, कुलपति भी शामिल हुए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति ऐसे समय में आयी है जब देश आजादी के 75 वर्ष का अमृत महोत्सव मना रहा है और एक तरह से राष्ट्रीय शिक्षा नीति का क्रियान्वयन आजादी के अमृत महोत्सव का हिस्सा बन गया है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति को धरातल पर उतारने में संबंधित हितधारकों ने बहुत मेहनत की है। 21वीं सदी का युवा अपनी दुनिया खुद अपने हिसाब से बनाना चाहता है, वह मौका चाहता है और पुराने बंधनों व पिंजरों से मुक्ति चाहता है।

ये की नयी शुरुआत

प्रधानमंत्री ने जिन अन्य पहलों की शुरुआत की उनमें ग्रेड 1 के छात्रों के लिए तीन महीने का नाटक आधारित स्कूल तैयारी मॉड्यूल ‘‘विद्या प्रवेश'', माध्यमिक स्तर पर एक विषय के रूप में भारतीय सांकेतिक भाषा, राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) द्वारा शिक्षकों के प्रशिक्षण के लिए तैयार किए गए एकीकृत कार्यक्रम निष्ठा 2.0, सफल (सीखने के स्तर के विश्लेषण के लिए संरचित मूल्यांकन), सीबीएसई स्कूलों में ग्रेड 3, 5 और 8 के लिए एक योग्यता आधारित मूल्यांकन ढांचा और पूरी तरह से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को समर्पित एक वेबसाइट शामिल हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज शुरू हुई योजनाएं नए भारत के निर्माण में बहुत बड़ी भूमिका निभाएंगी। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 21वीं सदी की पहली शिक्षा नीति है और 34 वर्षीय पुरानी राष्ट्रीय शिक्षा नीति की जगह लाई गई है। सबके लिए आसान पहुंच, इक्विटी, गुणवत्ता, वहनीयता और जवाबदेही के आधारभूत स्तंभों पर निर्मित यह नई शिक्षा नीति सतत विकास के लिए एजेंडा-2030 के अनुकूल है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

शह-मात का खेल‌‍

शह-मात का खेल‌‍

विकास की बलिवेदी पर वनों की आहुति

विकास की बलिवेदी पर वनों की आहुति

सही सामान देना दुकानदार की जिम्मेदारी

सही सामान देना दुकानदार की जिम्मेदारी

मातृभाषा से स्वाधीनता प्राप्ति का संकल्प

मातृभाषा से स्वाधीनता प्राप्ति का संकल्प

मुख्य समाचार

चरणजीत सिंह चन्नी होंगे पंजाब के नये मुख्यमंत्री

चरणजीत सिंह चन्नी होंगे पंजाब के नये मुख्यमंत्री

हरीश रावत ने दी कांग्रेस विधायक दल का नेता चुने जाने की जानक...

क्या कांग्रेस सिद्धू के खिलाफ अमरेंद्र के गंभीर आरोप का संज्ञान लेगी : भाजपा

क्या कांग्रेस सिद्धू के खिलाफ अमरेंद्र के गंभीर आरोप का संज्ञान लेगी : भाजपा

सोनिया गांधी सहित राहुल और प्रियंका की चुप्पी पर उठाये सवाल

मैंने पंजाब की मुख्यमंत्री बनने से किया इनकार, किसी सिख को संभालनी चाहिए यह जिम्मेदारी : अंबिका सोनी

मैंने पंजाब की मुख्यमंत्री बनने से किया इनकार, किसी सिख को संभालनी चाहिए यह जिम्मेदारी : अंबिका सोनी

कांग्रेस की वरिष्ठ नेता ने कहा- पार्टी की पंजाब इकाई में टकर...

आप का सीएम उम्मीदवार होगा पंजाब का गौरव : राघव चड्ढा

आप का सीएम उम्मीदवार होगा पंजाब का गौरव : राघव चड्ढा

आम आदमी पार्टी की सरकार बनी तो 300 यूनिट मुफ्त बिजली देंगे

हर महीने केंद्र को 1000 से 1500 करोड़ का टोल राजस्व देगा दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे : नितिन गडकरी

हर महीने केंद्र को 1000 से 1500 करोड़ का टोल राजस्व देगा दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे : नितिन गडकरी

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री ने एनएचएआई को बताया...