राष्ट्रीय सर्वेक्षण : 10 से 17 वर्ष आयु के 1.48 करोड़ बच्चों को लगी नशे की लत!

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री रतन लाल कटारिया ने दिया लोकसभा में ब्योरा

राष्ट्रीय सर्वेक्षण : 10 से 17 वर्ष आयु के 1.48 करोड़ बच्चों को लगी नशे की लत!

नयी दिल्ली, 27 सितंबर (एजेंसी)

देश में बच्चों में बढ़ती नशे की लत एक गंभीर समस्या बन चुकी है। भारत सरकार के एक सर्वेक्षण में खुलासा हुआ है कि 10 से 17 वर्ष आयु समूह के लगभग 1.48 करोड़ बच्चे और किशोर अल्कोहल, अफीम, कोकीन, भांग सहित कई तरह के नशीले पदार्थों का सेवन कर रहे हैं। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने वर्ष 2018 के दौरान देश में नशीले पदार्थों के प्रयोग की सीमा और स्वरूप के संबंध में राज्यवार ब्योरा एकत्र करने के लिए एक राष्ट्रीय सर्वेक्षण किया था। इस रिपोर्ट में विभिन्न नशीले पदार्थों का प्रयोग करने वाले 10 से 75 वर्ष आयु समूह में भारत के जनसंख्या अनुपात और नशीले पदार्थों के प्रयोग से उत्पन्न विकृतियों के संदर्भ में निष्कर्ष दिए गए हैं। लोकसभा में 20 सितंबर को राजीव प्रताप रूडी के प्रश्न के लिखित उत्तर में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री रतन लाल कटारिया ने यह ब्योरा दिया।

बहरहाल, भारत में नशीले पदार्थ की सीमा और स्वरूप संबंधी राष्ट्रीय सर्वेक्षण के आंकड़ों के अनुसार, 18 से 75 वर्ष आयु वर्ग में भाँग का सेवन करने वालों की अनुमानित संख्या 2.90 करोड़ है जबकि अफीम के सेवनकर्ताओं की संख्या 1.90 करोड़ पाई गई है। सर्वे के अनुसार, 18 से 75 वर्ष आयु वर्ग में 10 लाख लोग कोकीन तथा 20 लाख लोग उत्तेजना पैदा करने वाले ‘एम्फ़ैटेमिन' पदार्थों का सेवन करते हैं। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री रतन लाल कटारिया ने लोकसभा को बताया कि मंत्रालय ने वर्ष 2018-25 के लिए नशीले पदार्थों की मांग में कमी लाने के लिए राष्ट्रीय कार्य योजना तैयार की है और उसका कार्यान्वयन किया जा रहा है।

10 से 17 वर्ष आयु वर्ग में अनुमानित 30 लाख बच्चे और किशोर पीते हैं शराब

सर्वेक्षण के अनुसार, सभी आयु वर्गों में सबसे अधिक संख्या शराब का सेवन करने वालों की है। 10 से 17 वर्ष आयु वर्ग में अनुमानित 30 लाख बच्चे और किशोर शराब का सेवन कर रहे हैं, जबकि 18 से 75 वर्ष आयु वर्ग में शराब का सेवन करने वालों की संख्या 15.10 करोड़ पाई गई है।

10 से 17 वर्ष आयु वर्ग में अनुमानित 40 लाख बच्चों को अफीम की लत

वहीं, 10 से 17 वर्ष आयु वर्ग में अनुमानित 40 लाख बच्चे और किशोर अफीम का सेवन कर रहे हैं। इस आयु वर्ग में भाँग के सेवनकर्ताओं की संख्या 20 लाख पाई गई है। सर्वे के अनुसार, अनुमानित 50 लाख बच्चे और किशोर शामक पदार्थों तथा सूंघकर या कश के जरिए लिए जाने वाले मादक पदार्थों का सेवन करते हैं जबकि 2 लाख बच्चे कोकीन और 4 लाख बच्चे उत्तेजना पैदा करने वाले पदार्थों का सेवन करते हैं।

क्या कहते हैं डाक्टर

एक जाने माने निजी अस्पताल के मानसिक स्वास्थ्य व व्यवहार विज्ञान के निदेशक डॉ. समीर पारिख ने कहा कि बच्चों में नशीले पदार्थों के सेवन की प्रवृत्ति और चलन लगातार बढ़ रहा है। यह किशोरों के शारीरिक, मानसिक व भावनात्मक विकास पर नकारात्मक प्रभाव डालते हैं। नशे की लत के चलते किशोर आक्रामक हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि अकसर ऐसा देखा गया है कि घर-परिवार में कोई न कोई व्यक्ति किसी तरह का नशा करता है तो ऐसी परिस्थितियां भी किशोरों को नशे के लिए प्रेरित करती हैं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

भाषा की कसौटी पर न हो संवेदना की परख

भाषा की कसौटी पर न हो संवेदना की परख

दीवारें भी लगें हैप्पी

दीवारें भी लगें हैप्पी

सर्दियों का गर्मजोशी से करें स्वागत

सर्दियों का गर्मजोशी से करें स्वागत

कार्तिक आर्यन   हैप्पी होगा न्यू ईयर

कार्तिक आर्यन हैप्पी होगा न्यू ईयर

शहर

View All