दिल्ली में किन्नर हत्याकांड का खुलासा, एरिया को लेकर थी रंजिश; 55 लाख की तय हुई थी सुपारी, 2 गिरफ्तार!

दिल्ली में किन्नर हत्याकांड का खुलासा, एरिया को लेकर थी रंजिश; 55 लाख की तय हुई थी सुपारी, 2 गिरफ्तार!

नयी दिल्ली, 11 अप्रैल (एजेंसी)

दिल्ली के जीटीबी एन्क्लेव इलाके में पिछले साल सितंबर में एक किन्नर की कथित हत्या के मामले में 33 वर्षीय वांछित अपराधी और उसके सहयोगी को गिरफ्तार किया गया है। यह हत्या किन्नरों के दो समूहों के बीच सामाजिक अवसरों पर लोगों से पैसा इकट्ठा करने को लेकर प्रतिद्वंद्विता के चलते हुई थी। यह जानकारी पुलिस ने रविवार को दी। पुलिस ने बताया कि इन गिरफ्तारियों के साथ ही इस मामले में अभी तक 6 लोगों को हिरासत में लिया जा चुका है। पुलिस ने बताया कि शनिवार को गिरफ्तार किए गए आरोपियों की पहचान पश्चिम विहार के पश्चिम पुरी निवासी गगन भारद्वाज उर्फ ​​गगन पंडित और लाल कुआं क्षेत्र निवासी वरुण (19) के रूप में हुई है। पुलिस ने बताया कि किन्नर एकता जोशी की 5 सितंबर, 2020 को जीटीबी एंक्लेव इलाके में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने बताया कि पंडित और आमिर नाम के एक अन्य व्यक्ति ने उस पर कथित तौर पर गोली चलायी थी। उन्होंने बताया कि एकता, उसकी सौतेली मां अनीता जोशी और सौतेला भाई आशीष जोशी लक्ष्मी नगर से अनीता के घर आए थे, तभी यह घटना हुई थी। उन्होंने कहा कि रात लगभग 8.30 बजे, दो व्यक्ति एक स्कूटर पर आए और कई गोलियां चलाईं जिसमें उसकी मौत हो गई। पुलिस उपायुक्त (विशेष प्रकोष्ठ) प्रमोद सिंह कुशवाह ने कहा, ‘पुलिस को आरोपियों के बारे में सूचना प्राप्त हुई थी और शनिवार को पुलिस ने निरंकारी समागम मैदान के पास जाल बिछाया। आरोपी सुबह करीब पांच बचे मजलिस पार्क मेट्रो स्टेशन की तरफ से एक कार में देखे गए। उन्हें रुकने का इशारा किया गया, लेकिन आरोपियों ने अपनी पिस्तौलें निकाल लीं और पुलिस पर गोली चला दी। हालांकि, पुलिस ने दोनों को पकड़ लिया।''

पुलिस ने कहा कि पूछताछ के दौरान पंडित का नाम 55 लाख रुपये लेकर एकता की हत्या की योजना के मुख्य षड्यंत्रकर्ता के तौर पर आयी। डीसीपी ने कहा कि किन्नरों के एक समूह के सदस्य मंजूर इलाही ने प्रतिद्वंद्वी समूह की अनीता और एकता को मारने के लिए उससे संपर्क किया था। पुलिस ने कहा कि हत्या के लिए इलाही, पंडित को 55 लाख रुपये देने को तैयार हो गया। पुलिस ने बताया कि फरीदाबाद की सोनम और वर्षा और जीटीबी एंक्लेव के कमल और मंजूर इलाही किन्नरों के उस समूह से थे जो एकता और अनीता का प्रतिद्वंद्वी समूह था। पुलिस ने बताया कि उनके बीच प्रतिद्वंद्विता यमुना पार क्षेत्र में सामाजिक अवसरों पर लोगों से पैसा इकट्ठा करने को लेकर वर्चस्व को लेकर था। उन्होंने बताया कि पंडित पहले 14 मामलों में लिप्त था जिनमें से हत्या का एक, हत्या के प्रयास के चार और डकैती के तीन मामले शामिल हैं।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

संतोष मन को ही मिलता है सच्चा सुख

संतोष मन को ही मिलता है सच्चा सुख

इस जय-पराजय के सवाल और सबक

इस जय-पराजय के सवाल और सबक

आखिर मजबूर क्यों हो गये मजदूर

आखिर मजबूर क्यों हो गये मजदूर

जीवन में अच्छाई की तलाश का नजरिया

जीवन में अच्छाई की तलाश का नजरिया

नुकसान के बाद भरपाई की असफल कोशिश

नुकसान के बाद भरपाई की असफल कोशिश

अनाज के हर दाने को सहेजना जरूरी

अनाज के हर दाने को सहेजना जरूरी