कृषि कानूनों का विरोध

केजीपी-केएमपी एक्सप्रेस-वे पर किसानों का कब्जा

केजीपी-केएमपी एक्सप्रेस-वे पर किसानों का कब्जा

सोनीपत में केजीपी-केएमपी जाम के दौरान आंदोलन में अगुवा महिला शक्ति। -हप्र

पुरुषोत्तम शर्मा/हप्र

सोनीपत, 10 अप्रैल

कृषि कानूनों को रद्द कराकर एमएसपी की गारंटी देने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे किसानों ने शनिवार को तीसरी बार केएमपी-केजीपी को जाम किया। किसान शनिवार सुबह आठ बजे जीरो प्वाइंट पर पहुंच गए और दोनों एक्सप्रेस-हाईवे जाम कर यहां धरना दिया। किसान रविवार की सुबह आठ बजे तक जाम करेंगे। यह पहली बार है, जब 24 घंटे के लिए यह एक्सप्रेस-हाइवे जाम किया जा रहा है।

उधर, दोनों एक्सप्रेस-हाईवे जाम होने से वाहन चालकों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। जीरो प्वाइंट पर जाम होने के चलते वाहनों को बागपत से ही डायवर्ट करना पड़ा। इससे पहले शनिवार सुबह 10 बजे तक किसानों ने केजीपी-केएमपी टोल पर कब्जा कर लिया था। यहां ट्रैक्टर खड़े कर मार्ग को सील कर दिया। केएमपी टोल पर मुख्य मंच बनाकर किसान नेताओं ने संबोधित किया। किसानों ने 200 ट्रैक्टर सड़कों के बीचोंबीच खड़े कर दिए। उधर, केजीपी के टोल पर भी किसानों ने ट्रैक्टर अड़ा दिए। इससे मार्ग पूरी तरह से बंद हो गया। वहीं, पुलिस की लचर व्यवस्था के चलते काफी भारी वाहन पानीपत से डायवर्ट होने की बजाय मुरथल तक पहुंच गए।

बढ़ा सकते हैं जाम की अवधि

इस बीच एक सूचना यह भी मिल रही है कि किसान केजीपी-केएमपी जाम की अवधि 24 घंटे से अधिक समय के लिए बढ़ा सकते हैं। यहां मौजूद किसानों ने बताया कि किसान मोर्चा की ओर से संकेत मिलने पर जाम को बढ़ाया जा सकता है।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

संतोष मन को ही मिलता है सच्चा सुख

संतोष मन को ही मिलता है सच्चा सुख

इस जय-पराजय के सवाल और सबक

इस जय-पराजय के सवाल और सबक

आखिर मजबूर क्यों हो गये मजदूर

आखिर मजबूर क्यों हो गये मजदूर

जीवन में अच्छाई की तलाश का नजरिया

जीवन में अच्छाई की तलाश का नजरिया

नुकसान के बाद भरपाई की असफल कोशिश

नुकसान के बाद भरपाई की असफल कोशिश

अनाज के हर दाने को सहेजना जरूरी

अनाज के हर दाने को सहेजना जरूरी