वैक्सीन आने के बावजूद माननीय भयभीत!

बजट सत्र में भी उपस्थिति कम रहने का अंदेशा

वैक्सीन आने के बावजूद माननीय भयभीत!

हरीश लखेड़ा/ट्रिन्यू
नयी दिल्ली, 13 जनवरी

कोरोना की वैक्सीन आने के बावजूद सांसदों का कोविड को लेकर डर नहीं जा रहा है। बड़ी संख्या में सांसद संसद के आगामी बजट सत्र से दूर रहना चाहते हैं। विशेष तौर पर तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, असम, केरल और पुडुचेरी से इस बार सत्र में कम सांसदों की उपस्थिति रह सकती है। मानसून सत्र के दौरान अकेले लोकसभा में ही हर दिन 170 से ज्यादा सांसद सदन की कार्यवाही में शामिल नहीं हुए। एक दिन तो 198 सांसद सदन से गैरहाजिर थे। कोरोना के कारण ही इस बार संसद का शीतकालीन सत्र भी नहीं हुआ।

संसद के दोनों सदनों के सचिवालय बजट सत्र की तैयारी में लगे हैं। लोकसभा सचिवालय को सांसदों से जो संदेश मिल रहे हैं, उनसे मानसून सत्र की तरह अब बजट सत्र में भी सदन में सांसदों की उपस्थिति बहुत कम रहने की संभावना है सांसदों के भय के कई कारण हैं। एक तो पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगाड़ी, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व सांसद अहमद पटेल समेत कई सांसद और विधायक कोरोना के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं। कन्याकुमारी से कांग्रेस सांसद 70 वर्षीय एच. वसंत कुमार कोविड-19 से जान गंवाने वाले पहले सांसद थे। इसके बाद तिरुपति से 64 वर्षीय लोकसभा सांसद बल्ली दुर्गा प्रसाद से लेकर भाजपा के नवनिर्वाचित राज्यसभा सदस्य अशोक गस्ती भी इसके शिकार हो गए। इससे वयोवृद्ध सांसद कुछ ज्यादा ही भयभीत हैं। दूसरा कारण कोविड -19 के सख्त प्रोटोकॉल के कारण सांसद घरों में रहना पसंद कर रहे हैं।

24 घंटे पहले की नेगेटिव रिपोर्ट पर ही मिलेगी एंट्री

संसद भवन परिसर में प्रवेश करने के लिए प्रत्येक सांसद को 24 घंटे पहले कराए कोरोना टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट साथ लेकर आना होगा। ऐसा नहीं करने पर उन्हें दिल्ली में टेस्ट करवाना होगा। लोकसभा और राज्यसभा के सचिवालय अपने-अपने सदन के सांसदों से इस बारे में अभी से संपर्क करने लगे हैं। सांसद ही नहीं, मीडिया, संसद के पूर्व कर्मचारी, आगंतुक सभी को यह रिपोर्ट लाने पर ही प्रवेश करने दिया जाएगा। बहरहाल, मानसून सत्र के दौरान इन्हीं कारणों से संसद में बहुत कम उपस्थिति रही। मानसून सत्र 14 सितंबर से शुरू हुआ। उस दिन लोकसभा में 171 सांसद गैरहाजिर थे। 23 सितंबर को गैरहाजिर सांसदों की संख्या 198 तक पहुंच गई। इस बार बजट सत्र 29 जनवरी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करने के साथ शुरू होगा। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी को बजट पेश करेंगी।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

मुख्य समाचार

गाजीपुर बार्डर खाली कराने की तैयारी, यूपी सरकार ने दिये आदेश!

गाजीपुर बार्डर खाली कराने की तैयारी, यूपी सरकार ने दिये आदेश!

कहा-अगर किसान खुद ही आज धरना स्थल खाली कर दें तो उन्हें घर ज...

किसानों के मुद्दे पर 16 विपक्षी दलों ने राष्ट्रपति कोविंद के अभिभाषण के बहिष्कार का किया फैसला!

किसानों के मुद्दे पर 16 विपक्षी दलों ने राष्ट्रपति कोविंद के अभिभाषण के बहिष्कार का किया फैसला!

बयान में कहा-प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा सरकार बनी हुई है अहं...

शहर

View All