पश्चिम बंगाल में दुर्गा पंडालों की राजनीति शुरू

पश्चिम बंगाल में दुर्गा पंडालों की राजनीति शुरू

कोलकाता में शनिवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी दुर्गा पूजा पंडाल का उद्घाटन करने के बाद श्रद्धालुओं का अभिवादन स्वीकार करते हुए। -प्रेट्र

हरीश लखेड़ा/ ट्रिन्यू

नयी दिल्ली, 17 अक्तूबर

कोरोना के कारण भले ही इस साल रामलीला मंचन और दुर्गा पूजा के पंडाल पहले जैसे भव्य न हों, लेकिन जो भी हैं, उनका राजनीतिक दल भरपूर उपयोग करने लगे हैं। पश्चिम बंगाल के आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर दुर्गा पूजा पंडालों के उद्घाटनों का दौर शुरू हो गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आगामी 22 अक्तूबर को वर्चुअल माध्यम से कोलकाता के एक पूजा पंडाल को संबोधित करेंगे। प्रदेश की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पहले ही कई स्थानों पर दुर्गा पूजा का ऑनलाइन उद्घाटन कर चुकी हैं।

प्रधानमंत्री मोदी भाजपा के महिला मोर्चा और केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय के तहत ईस्टर्न जोनल कल्चरल सेंटर के दुर्गा पूजा पंडाल का वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग से उद्घाटन करेंगे। पश्चिम बंगाल में लगभग 28 हजार पंडालों में दुर्गापूजा का आयोजन किया जाता है। इनमें से लगभग 4 हजार पंडाल कोलकाता और आसपास के इलाकों में लगाए जाते हैं। कोलकाता में लगभग 200 पूजा समितियां ऐसी हैं, जिनका बजट करोड़ों में होता है। इनसे हजारों लोग सीधे जुड़े होते हैं। इसलिए प्रदेश के सभी दल दुर्गा पंडालों में जाना पसंद करते हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी एक ही दिन 10 जिलों के 69 पंडालों का वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग से उद्घाटन कर चुकी हैं।

पीएम, सीएम ने दी शुभकामनाएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को नवरात्रि के पहले दिन लोगों को शुभकामनाएं दीं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री को प्रणाम। उनकी कृपा से हमारी धरा सुरक्षित, स्वस्थ और समृद्ध रहे। उनके आशीर्वाद से हमें गरीबों और वंचितों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने की शक्ति मिले।’ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी शनिवार को नवरात्रि के अवसर पर ट्वीट किया, ‘आप सभी को नवरात्रि की शुभकामनाएं। इस अवसर पर मां दुर्गा की कृपा बनी रहे और सभी को स्वास्थ्य तथा समृद्धि मिले। मैं सभी से आग्रह करती हूं कि स्वास्थ्य और सुरक्षा के प्रति एहतियात बरतते हुए पर्व मनाएं।’

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और उसके द्वंद्व

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और उसके द्वंद्व

भाषा की कसौटी पर न हो संवेदना की परख

भाषा की कसौटी पर न हो संवेदना की परख