सोशल मीिडया पर हुआ था खुलासा

स्वैब स्टिक सप्लायर पर केस दर्ज

स्वैब स्टिक सप्लायर पर केस दर्ज

वायरल वीिडयाे में पैकिंग करते दिखे बच्चे।

मुंबई, 6 मई (एजेंसी)

कोविड-19 का पता लगाने के लिए नाक और गले से नमूने लेने के वास्ते उपयोग की जाने वाली स्वैब स्टिक के सप्लायर के खिलाफ महाराष्ट्र में मामला दर्ज कर लिया गया है। इससे पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो सामने आया था जिसमें दिख रहा था कि ठाणे जिले के एक स्लम इलाके में स्वैब स्टिक को गंदगी भरे माहौल में पैक किया जा रहा था।

पुलिस ने बृहस्पतिवार को बताया कि वीडियो में उल्लासनगर के संत ज्ञानेश्वर नगर के स्लम में स्वैब स्टिक को पैक किया जा रहा था। उन्होंने बताया कि इसके बाद, खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए), स्थानीय नगर निकाय और पुलिस ने स्लम का मुआयना किया और बुधवार को कुछ घरों से स्वैब स्टिक के पैकेट बरामद किए। अधिकारी ने बताया कि कोरोना वायरस की जांच करने के वास्ते नमूने लेने के लिए इस्तेमाल होने वाली स्वैब स्टिक के सप्लायर के खिलाफ भारतीय दंड संहिता और महामारी अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया।

सप्लायर ने घरों में लोगों को स्वैब स्टिक पैक करने का काम दिया था। उन्होंने कहा कि अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं की गई है। उसने कहा कि वीडियो में दिख रहा है कि महिलाएं और बच्चे बिना मास्क और दस्ताने पहने स्वैब स्टिक को पैक कर रहे हैं। अधिकारी ने बताया कि महिलाओं को 1,000 स्वैब स्टिक प्लास्टिक के पैकेट में पैक करने के लिए 20 रुपये मिलते हैं। मामले की जांच जारी है। 

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

पाक सेना के तीर से अधीर हामिद मीर

पाक सेना के तीर से अधीर हामिद मीर

नीति-निर्धारण के केंद्र में लाएं गांव

नीति-निर्धारण के केंद्र में लाएं गांव

असहमति लोकतांत्रिक व्यवस्था का हिस्सा

असहमति लोकतांत्रिक व्यवस्था का हिस्सा

बदलोगे नज़रिया तो बदल जाएगा नज़ारा

बदलोगे नज़रिया तो बदल जाएगा नज़ारा

हरियाणा के सामाजिक पुनर्जागरण के अग्रदूत

हरियाणा के सामाजिक पुनर्जागरण के अग्रदूत

मुख्य समाचार

सुप्रीमकोर्ट ने सीबीएसई और आईसीएसई की 12वीं का रिजल्ट तैयार करने के फार्मूले पर लगायी मुहर

सुप्रीमकोर्ट ने सीबीएसई और आईसीएसई की 12वीं का रिजल्ट तैयार करने के फार्मूले पर लगायी मुहर

कहा-यदि विद्यार्थी परीक्षा देने के इच्छुक हैं तो दे सकते हैं