बीएसएफ को जम्मू-कश्मीर के कठुआ में अंतर्राष्ट्रीय सीमा के नीचे मिली सुरंग!

बीएसएफ को जम्मू-कश्मीर के कठुआ में अंतर्राष्ट्रीय सीमा के नीचे मिली सुरंग!

प्रतीकात्मक चित्र

सुरेश एस डुग्गर
जम्मू, 13 जनवरी

मात्र 2 महीनों के अंतराल में भारतीय सुरक्षाबलों ने इंटरनेशनल बार्डर पर एक और पाकिस्तानी सुरंग खोज कर पड़ोसी देश के कुत्सित इरादों पर पानी फेर दिया। आज कठुआ के हीरानगर में अंतर्राष्ट्रीय सीमा के नीचे एक सुरंग मिली है। इस सेक्टर में पिछले कुछ हफ्तों से पाक रेंजर जबरदस्त गोले बरसा रहे थे। जबकि पिछले साल 4-5 नवम्बर की रात को अरनिया के पिंडी चाढ़का में भी एक सुंरग मिली थी। अधिकारी कहते हैं कि पाकिस्तान ने जिला कठुआ के हीरानगर सेक्टर में इंटरनेशनल बार्डर पर आतंकियों की घुसपैठ कराने के इरादे से सुरंग का निर्माण किया था जिसका बीएसएफ के सतर्क जवानों ने पता लगा लिया है। बीएसएफ सूत्रों के अनुसार, एक अभियान के दौरान सुबह बोबिया गांव में बीएसएफ के जवानों द्वारा आतंकियों की घुसपैठ के लिए सीमा पार से बनाई गई सुरंग का पता चला। सूत्रों का कहना है कि इस सुरंग की लंबाई करीब 150 मीटर है। साथ ही सुरंग से सीमेंट की बोरियां बरामद हुई हैं। जोकि पाकिस्तान के कराची की बनी हुई हैं। बताया जा रहा है कि पाकिस्तान की पोस्ट के ठीक सामने से इस सुरंग को खोदा गया है। आतंकियों की घुसपैठ की आशंका को देखते हुए बीएसएफ, सीआरपीएफ और जम्मू-कश्मीर पुलिस की टीम ने इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया। बोबिया में पड़ने वाले गांवों में रहने वाले लोगों से भी पूछताछ की जा रही है कि उन्होंने रात या फिर तड़के किन्हीं संदिग्ध लोगों को आसपास तो नहीं देखा।

इससे पहले अगस्त 2020 में सांबा के सीमावर्ती गांव बैन ग्लाड तथा 4-5 नवम्बर की रात को अरनिया के पिंडी चाढ़का में सीमा पर एक सुरंग मिली थी। सीमा से पचास मीटर दूर मिली इस सुरंग में पाकिस्तान निर्मित बोरियां बरामद हुई थीं। जिनमें बालू (रेत) भरी हुई थी।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

ईर्ष्या की अनदेखी कर आनंदित रहें

ईर्ष्या की अनदेखी कर आनंदित रहें

स्वतंत्रता के संकल्प की बलिदानी गाथा

स्वतंत्रता के संकल्प की बलिदानी गाथा

बुलंद इरादों से हासिल अपना आकाश

बुलंद इरादों से हासिल अपना आकाश

समाज की सोच भी बदलना जरूरी

समाज की सोच भी बदलना जरूरी