रिसर्च में दावा

कोरोना होने के 7 महीने बाद भी शरीर में रहते हैं एंटीबॉडी

कोरोना होने के 7 महीने बाद भी शरीर में रहते हैं एंटीबॉडी

लंदन, 24 अक्तूबर (एजेंसी)

एक नये अध्ययन में दावा किया गया है कि किसी व्यक्ति के शरीर में कोरोना वायरस संक्रमण से लड़ने वाला एंटीबॉडी तत्व इस महामारी के लक्षण महसूस होने के बाद, शुरुआती तीन हफ्तों में काफी तेजी से विकसित होता है और बीमारी की चपेट में आने के 7 महीने बाद तक यह शरीर में मौजूद रहता है। एंटीबॉडी शरीर का वो तत्व है, जिसका निर्माण हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक प्रणाली वायरस को बेअसर करने के लिए करती है। कोरोना संक्रमित 300 रोगियों और इससे उबर चुके 198 लोगों पर किये गए रिसर्च में यह बात सामने आई है। 'यूरोपियन जर्नल ऑफ इम्युनोलॉजी' में प्रकाशित इस रिसर्च में पाया गया कि सार्स-कोव-2 वायरस की चपेट में आने वाले लोगों के शरीर में 6 महीने बाद भी एंटीबॉडी तत्व सक्रिय रहा। पुर्तगाल के प्रमुख संस्थान आईएमएम के मार्क वेल्होएन के नेतृत्व में वैज्ञानिकों ने अस्पतालों में 300 से अधिक कोरोना रोगियों और स्वास्थ्य कर्मियों, 2500 यूनिवर्सिटी कर्मचारियों और कोरोना वायरस संक्रमण से उबर चुके 198 स्वयंसेवकों के शरीर में एंटीबॉडी स्तर का अध्ययन किया। रिसर्च में पता चला कि 90 प्रतिशत लोगों के शरीर में कोरोना की चपेट में आने के 7 महीने बाद भी एंटीबॉडी पाए गए।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

मुसीबत आये तो और मजबूत हो जाइये

मुसीबत आये तो और मजबूत हो जाइये

...सभना जीआ इका छाउ

...सभना जीआ इका छाउ

सो क्यों मंदा आखिए...

सो क्यों मंदा आखिए...

महामारी को अवसर बनाने की करतूतें

महामारी को अवसर बनाने की करतूतें

खोये बच्चे की मां की खुशी ही प्रेरणा

खोये बच्चे की मां की खुशी ही प्रेरणा

कोर्ट की सख्ती के बाद खाली होंगे आवास

कोर्ट की सख्ती के बाद खाली होंगे आवास

मुख्य समाचार

कृषि सुधार कानूनों पर जानबूझकर फैलाया जा रहा है भ्रम : मोदी

कृषि सुधार कानूनों पर जानबूझकर फैलाया जा रहा है भ्रम : मोदी

खजूरी गांव में 6 लेन मार्ग चौड़ीकरण के लोकार्पण अवसर पर पीएम...

कश्मीर : एक बार फिर आतंकी हमले की बाडी कैमरे लगाकर की गई रिकार्डिंग!

कश्मीर : एक बार फिर आतंकी हमले की बाडी कैमरे लगाकर की गई रिकार्डिंग!

युवकों को आकर्षित करने और रंगरूटों में जोश भरने का प्लान

शहर

View All