सिल्वर स्क्रीन

सिल्वर स्क्रीन

ए.चक्रवर्ती

अब वेब सीरीज की दिव्या

अभिनेत्री दिव्या दत्ता सेल्युलाइड के किसी न किसी माध्यम पर हमेशा व्यस्त रहती हैं। इन दिनों दिव्या को वेब सीरीज कुछ ज्यादा लुभा रहा है। वह अब स्पेेशल ऑप्स और होस्टेजेस के दूसरे सीजन की शूटिंग की तैयारी कर रही हैं। साथ ही एक और वेब सीरिज साइन की है। उनके पास शीर खुरमा और नास्तिक जैसी दो फिल्में भी हैं। इससे पहले ओटीटी पर रिलीज उनकी फिल्म रामसिंह चार्ली की बेहद तारीफ हुई थी। दिव्या कहती हैं, ‘कौन एक्टर नहीं चाहता कि थियेटर पर उसकी फिल्म न आए। पर लाॅकडाउन की मजबूरी है। इसलिए मैं तो ओटीटी पर आई अपनी फिल्मों कों लेकर संतुष्ट हूं। दर्शक मेरे काम को सराहा रहे हैं।’ असल में दिव्या अपने काम को लेकर बेहद संजीदा है। इसीलिए उन्होंने करैक्टर रोल को शुरू से ही लिया।

वरुण चाहें ‘बदलापुर’ जैसा रोल

अभिनेता वरुण धवन की फिल्म कुली नं-1 अब ओटीटी के रिलीज प्रोसेस में है। वरुण इससे बहुत खुश नहीं हैं। वह चाहते थे कि फिल्म थियेटर में रिलीज हो। वह अपने चाॅकलेटी इमेज से भी संतुष्ट नहीं हैं। अब वह बदलापुर या जुड़वा, कुली नं-1 जैसी फिल्मों को अपने लिए ज्यादा सेफ मान रहे हैं। इसलिए इस लाॅकडाउन में उन्होंने सिर्फ एक फिल्म में काम करने का मन बनाया है। वह इसमें एक ऐसे मवाली गुंडे का रोल कर रहे हैं जो एक कमजोर परिवार को आतंकियों से बचाने के लिए अपनी जान को दांव पर लगा देता है। वरुण ने कई बैठकों के बाद एक नए निर्देशक की इस फिल्म में काम करने का मन बनाया है। हालांकि अभी स्किप्ट को ओके नहीं किया है। उनके करीबी मानते हैं कि लगातार अपनी कई फिल्मों की विफलता से वरुण बहुत सचेत हुए हैं। वह बदलापुर के अपने इमेंज को पुनर्जीवित करना चाहते हैं।

व्यस्त हैं राजकुमार राव

अभिनेता राजकुमार राव की फिल्म छलांग और लूडो ओटीटी पर आ चुकी हैं। इसके साथ ही रूही अफजाना आने वाली है। गुड़गांव (गुरुग्राम) से आकर बेहद स्ट्रगल के बाद उनके इस उत्थान की कहानी किसी रूपकथा की तरह है। कभी राव धड़ाधड़ फिल्में कर रहे थे, पर आयुष्मान खुराना कार्तिक आर्यन जैसे नए हीरो के उदय के साथ ही उनकी स्थिति थोड़ी कमजोर हुई। अब उनके पास फिल्में लगातार आ रही हैं। नुसरत भरूचा, जाह्नवी कपूर जैसी नए दौर की कई तारिकाएं उनके साथ काम कर चुकी हैं। इससे पहले भी वह ऐश्वर्या, कंगना, हुमा खान, सोनम जैसी कई चर्चित हीरोइन के साथ फिल्में कर चुके हैं।

बायोपिक पर निर्भर हर्षवर्द्धन कपूर

ओलंपिक विजेता अभिनव बिंद्रा के बायोपिक में अभिनेता हर्षवर्द्धन कपूर लीड रोल करेंगे। सब कुछ यदि ठीक-ठाक रहा तो इस साल के अंत तक यह फिल्म शुरू हो जाएगी। अब अपने फिल्म करिअर को बहुत उम्मीदों के साथ देख रहे हर्षवर्द्धन को अपने इस प्रोजेक्ट पर पूरा यकीन है। बेहद संजीदा अभिनेता पिता अनिल कपूर की तरह वह भी इस फिल्म की तैयारी में जुट चुके हैं। वैसे उनकी यह फिल्म कुछ माह से घोषणा के बाद रुकी पड़ी है। असल में हर्ष अपनी दो फ्लॉप फिल्मों- मिर्जिया और भावेश जोशी का दंश झेल रहे हैं। हर्ष बाॅलीवुड के हिट प्रेम से बहुत अच्छी तरह वाकिफ हैं। इसलिए अब उनका ध्यान इसी गणित की ओर है। खबर है कि उन्होंने अपनी पहली निर्देशित फिल्म की स्क्रिप्ट को अंतिम रूप दे दिया है।

नुसरत से कार्तिक ने कन्नी काटी

अभिनेत्री नुसरत भरूचा की फिल्म छलांग अब ओटीटी पर दिखाई जाएगी। हंसल मेहता की इस फिल्म में उनके हीरो राजकुमार राव हैं। नुसरत के मुताबिक यह एक ब्लैक काॅमेडी है। उन्हें पूरा यकीन है कि ऐसी फिल्में दर्शको का पूरा मनोरंजन करती हैं। 35 साल की नुसरत के फिल्म करिअर को अब जाकर एक आधार मिला है। वैसे जय संतोषी मां, कल किसने देखा, ताज महल, लव सेक्स ओर धोखा जैसी उनकी शुरुआती फिल्मों ने उन्हें ज्यादा चर्चा नहीं दी। पर आकाशवाणी, प्यार का पंचनामा के बाद से वह थोड़ा जाना-पहचाना नाम बन पाई हैं। सोनू के टीटू की स्वीटी और ड्रीमगर्ल के बाद से उन्होंने स्टारडम की गलियारों में कदमताल किया। हालांकि अब भी बड़े नायकों की फिल्में उनसे दूर हैं। यहां तक कि उनकी कई सफल फिल्मों के सफल नायक कार्तिक आर्यन भी स्टार बनते ही उनसे कन्नी काट चुके हैं।

हर स्क्रिप्ट में रोमांच चाहते हैं धर्मेंद्र

84 साल के हो चुके महानायक धर्मेंद्र इन दिनों पंजाब के अपने पैतृक गांव में आराम फरमा रहे हैं। कई उम्दा डायरेक्टरों के साथ काम कर चुके धरम पाजी बिमल दा या हृषि दा को खूब याद करते हैं। वह कहते हैं, ‘वे बहुत तार्किक ढंग से हर दृश्य की कल्पना करते थे। आज हम फिल्मों में जिस तरह का एक्शन देख रहे हैं, हमारी फिल्मों के साथ उसकी कोई तुलना नहीं होती। हमारे दौर में शेट्टी, अजीम भाई, वीरू देवगन आदि का अंदाज कितना सादगी पसंद था। हमारी फिल्मों में पांच-दस मिनट के ढिशुम-ढिशुम के बाद हम विलेन को परास्त कर देते थे। आज तो विलेन को परास्त करने की अलग-अलग तरकीबें खोजी जाती हैं। फिल्मों में एक्शन थमता ही नहीं। मुझे आप लोगों के प्यार ने एक्शन हीरो का खिताब दिया, मगर मैंने खुद को कभी एक्शन हीरो नहीं समझा। पहले की तुलना में आज एक्शन दृश्यों में बहुत खर्च होता है, पर एक्शन सीन कहानी से दूर नजर आते हैं। हर कहानी में रोमांच होना चाहिए।’

सचेत हैं दीपिका

छपाक के एक अरसे बाद भी अभी तक उनकी कोई फिल्म नहीं आई है। जब उन्हें लोग एक नंबर की नायिका बताते हैं तो वह अपने आपको बहुत जिम्मेदार मानती हैं। वह बताती हैं, ‘इस टैग को जस्टीफाई तो करना ही पड़ेगा। इसलिए मैंने निर्णय किया है कि और ज्यादा सोच-समझ कर कोई फिल्म साइन करूंगी। वैसे भी फिल्मों के चयन को लेकर मैं हमेशा चूजी थी। खुशी थी कि मैं दर्शकों को अच्छी फिल्में उपहार में दे पा रही हूं। इसलिए मैं जल्दबाजी में कोई फिल्म साइन नहीं करती। कुछ लोगों को बता देना चाहती हूं कि मैं फिल्में भले ही कम करूं, अपने इंडोर्समेंट को लेकर मैं बहुत व्यस्त हूं। तो यह मत सोचिए कि मेरे पास काम नहीं है।’

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

कोर्ट की सख्ती के बाद खाली होंगे आवास

कोर्ट की सख्ती के बाद खाली होंगे आवास

संदेह के खात्मे से विश्वास की शुरुआत

संदेह के खात्मे से विश्वास की शुरुआत

चलो दिलदार चलो...

चलो दिलदार चलो...

शहर

View All