दिनभर अधिकारियों की अटकी रहीं सांसें

मेडिकल कालेज के आक्सीजन टैंक का स्तर गिरा/देर शाम तक आपात स्थिति से जूझता रहा प्रशासन

दिनभर अधिकारियों की अटकी रहीं सांसें

फाइल फोटो

करनाल, 2 मई (हप्र)

कल्पना चावला मेडिकल कालेज के आक्सीजन टैंक का स्तर गिर जाने के कारण आज आज घंटों तक चिंता की स्थिति बनी रही।

मेडिकल कालेज प्रबंधन ने आपात स्थिति को देखते हुए पुलिस प्रशासन से मदद मांगी और बीच राह में फंसे आक्सीजन टैंकर को पुलिस गाड़ी से एस्कार्ट करके देर शाम को मेडिकल कालेज में लाया गया।

इस दौरान मेडिकल कालेज के निदेशक डाक्टर जगदीश दुरेजा, डिप्टी डायरेक्टर गौरव काम्बोज सहित अन्य अधिकारी टैंक साइट पर खड़े होकर आक्सीजन टैंकर की प्रतीक्षा करते रहे। डाक्टर जगदीश दुरेजा ने बताया कि उनके पास 10 हजार लीटर का आक्सीजन टैंक है।

इसके अलावा एमरजेंसी के लिए 560 सिलेंडरों का बैकअप भी है। उन्होंने कहा कि चिंता केवल यह थी कि गैस लेकर आ रहे टैंकर के रास्ते में लेट हो जाने के कारण मेन सप्लाई टैंक का आक्सीजन लेवल नीचे जा रहा था। उन्होंने कहा कि हमारे पास चार घंटे का एमरजेंसी बैकअप भी रहता है और 10 हजार लीटर का एक और टैंक भी कालेज में जल्दी लग जायेगा।

जानकारी के अनुसार करीब चार घंटे देरी से पहुंचे आक्सीजन टैंकर के पहिये का पानीपत के पास पेंचर हो गया था।

टैंकर के साथ करनाल पहुंचे घरौंडा थानाधिकारी बोले

टैंकर के साथ करनाल पहुंचे घरौंडा थानाधिकारी एसएचओ मोहन लाल ने बताया कि रिफाइनरी से निकलते ही टैंकर पेंचर गया था। इस बीच कालेज प्रबंधन ने प्रशासन से मदद मांगी तो पुलिस अधीक्षक द्वारा घरौंडा थाना को तुरंत टैंकर तक सहायता पहुंचाने और उसे लेकर करनाल पहुंचने के निर्देश दिये गये। उन्होंने कहा कि पेंचर लगने के बाद वह तेजी से जीटी रोड पर अन्य वाहनों को हटाते हुए टैंकर को देर सायं 7:24 बजे मेडिकल कालेज तक लेकर आये हैं। डिप्टी डायरेक्टर गौरव काम्बोज ने कहा कि प्रशासन की मदद से सब ठीक हो गया है।

आक्सीजन की कमी की अफवाह फैलाने पर डाॅक्टर गिरफ्तार, जमानत पर रिहा

कुरुक्षेत्र (हप्र) : कुरुक्षेत्र पुलिस ने रविवार को एक निजी अस्पताल के डाॅक्टर पर आक्सीजन की कमी की अफवाह फैलाने, कोरोना पाॅजिटिव होते हुए भी उपायुक्त कैंप कार्यालय में घुसने तथा अन्य कई आरोपों में मुकदमा दर्ज करके गिरफ्तार किया है। गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने डाॅक्टर लोकेन्द्र गोयल को न्यायालय में पेश किया और न्यायालय द्वारा डाॅक्टर को जमानत पर रिहा कर दिया गया है। कुरुक्षेत्र के उप पुलिस अधीक्षक यातायात नरेेन्द्र सिंह ने बताया कि 28 अप्रैल, 2021 को कुरुक्षेत्र के उपायुक्त के पीए-2 अमरीक सिंह वासी सिंहपुरा मलिकपुर ने पुलिस को शिकायत करके बताया कि 27 अप्रैल की रात को लगभग 8 बजकर 30 मिनट पर कुरुक्षेत्र के राधाकिशन अस्पताल का डाॅक्टर लोकेन्द्र गोयल अपने अस्पताल में भर्ती कोरोना पीड़ित मरीजों के 25-30 परिजनों के साथ उपायुक्त कैम्प कार्यालय में आया। कैंप कार्यालय के बाहर गेट के बाहर तैनात पुलिस कर्मचारियों के साथ धक्का-मुक्की और हाथापाई करते हुए जोर-जोर से आक्सीजन कम होने की बात कहने लगा। पुलिस उपाधीक्षक ने बताया कि शिकायत में अमरीक सिंह ने बताया कि जब कुरुक्षेत्र के सिविल सर्जन कार्यालय के मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा अस्पताल का निरीक्षण करवाया तो पाया गया कि लोकेन्द्र गोयल के अस्पताल में प्रातः 4 बजे तक की आक्सीजन उपलब्ध है। उसने पुलिस को बताया कि उसी समय उन्हें पता चला कि डाॅक्टर लोकेन्द्र गोयल स्वयं भी कोरोना पाॅजिटिव है। उन्होंने आरोप लगाया कि डाॅक्टर लोकेन्द्र गोयल ने कोरोना पाॅजिटिव होते हुए उपायुक्त कैंप कार्यालय में आकर कोरोना संक्रमण को व्यापक तौर पर फैलाने की कोशिश की है और झूठी अफवाह फैलाकर लोगों में भय उत्पन्न करने का काम किया है। पुलिस प्रवक्ता रोशन लाल के अनुसार डाॅक्टर गोयल पर डिजास्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। दूसरी ओर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने डाॅक्टर लोकेन्द्र गोयल की गिरफ्तारी का विरोध किया है। आईएमए के सदस्य डाॅक्टर सुभाष ने मांग की है कि डाॅक्टर लोकेन्द्र गोयल के खिलाफ जिन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है, उन सभी को रद्द किया जाए।

सब से अधिक पढ़ी गई खबरें

ज़रूर पढ़ें

वैक्सीन और सावधानियों से ही रुकेगा कोविड

वैक्सीन और सावधानियों से ही रुकेगा कोविड

राजनीतिक वायरस की वैक्सीन भी जरूरी

राजनीतिक वायरस की वैक्सीन भी जरूरी

शहर

View All